इतनी जर्जर हो गई हैं इस बाजार की दुकानें कि जोर से धक्का देने पर हिलती हैं दीवारें

जबलपुर नगर निगम की लापरवाही, कागजों पर कई बार बनी योजना

 

By: shyam bihari

Updated: 23 Aug 2020, 09:51 PM IST

दुकानों की संख्या
-60 राइट टाउन स्टेडियम
-40 फू टाताल
-106 बल्देवबाग
-32 भरतीपुर
-23 माल गोदाम
-119 मोटर स्टैंड
-184 निवाडग़ंज
-2428 कुल दुकानें हैं निगम की

जबलपुर। नगर निगम, जबलपुर क्षेत्र के कई बाजारों के भवन जर्जर और खतरनाक हो गए हैं। यहां किराए पर दुकानें संचालित हो रही हैं। रोजाना हजारों की संख्या में लोगों की आवाजाही रहती है। बरसात में निगम के जर्जर बाजार भवनों में भी खतरा मंडरा रहा है। इसके बावजूद इन दशकों पुराने बाजारों की मरम्मत नहीं कराई जा रही है। स्वामित्व की किराए पर संचालित दुकानों की मरम्मत का निगम कई बार निर्णय ले चुका है। शहर में निगम की दो हजार से ज्यादा दुकान किराए पर संचालित हैं। इनमें से कई बाजार बहुत ही पुराने हो गए हैं। निगम के बाजारों में वर्ष 1990 के पहले निर्मित दुकानों की मरम्मत कराने का 2012-13 व 2014 में निर्णय लिया गया था। स्पष्ट किया गया था की दुकानों के क्षतिग्रस्त होने से दोहरा नुकसान है। इसके लिए तकनीकी परीक्षण कराकर सुधार कराने की बात कही गई थी।

खतरनाक हुए ये बाजार

पुराने बस स्टैंड में निगम के बाजार में भूतल से लेकर पहली मंजिल पर बड़ी संख्या में दुकान हैं। ये भवन कई स्थान पर दरक गया है। इस भवन में रेस्टोरेंट, आटो पार्टस की व अन्य दुकान संचालित हैं। इसके बावजूद भवन की मरम्मत न कराए जाने के कारण ढांचा और जर्जर हो रहा है। इसी तरह से राइट टाउन स्टेडियम मेंं निगम की कई दशक पुरानी किराए से संचालित कई दुकान भी क्षतिग्र्रस्त हो चुकी हैं। बस स्टैंड की जमीन, गुरंदी, निवाडग़ंज समेत नगर के कई और स्थलों पर निगम ने शॉपिंग कॉम्पलेक्स बनाने की योजना बनाई थी। आज तक इस दिशा में कोई भी काम शुरू नहीं हुआ।सम्भागायुक्त व प्रशासक नगर निगम महेशचंद्र चौधरी ने बताया कि नगर निगम के बाजारों का रिव्यू करेंगे। जहां भी आवश्यक है मरम्मत कराएं, अगर कोई बाजार भवन जर्जर व खतरनाक पाया जाता है तो उसकी भी रिपोर्ट तैयार करेंगे।

Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned