scriptThe street light management of the city got derailed | बेपटरी हो गया शहर का स्ट्रीट लाइट प्रबंधन! | Patrika News

बेपटरी हो गया शहर का स्ट्रीट लाइट प्रबंधन!

शहर के कई हिस्सों में रात होते ही छा जाता है अंधेरा, कुछ जगह दिन में भी रोशन रहती हैं स्ट्रीट लाइट

जबलपुर

Published: May 28, 2022 12:21:03 pm

38 हजार हैं शहर में स्ट्रीट लाइट 10 हजार स्ट्रीट लाइट पहले बदली गईं 25 हजार लाइट को बदलना है... 12 हजार नए खम्भों में लगना है लाइट 15 करोड़ स्ट्रीट लाइट का बिजली बिल 20 करोड़ अनुमानित लागत
The street light management of the city got derailed
शहर के अधारताल, मेडिकल, दमोहनाका, एमआर-4, ग्वारीघाट, राइट टाउन आदि के रहवासी क्षेत्रों में रात होते ही बिजली व्यवस्थाएं चौपट हो रही हैं।
ये हैं मामले

न्यू रामनगर में रात होते ही अंधेरा छा रहा है, यहां स्ट्रीट लाइट जलती ही नहीं है।

धनवंतरिनगर के कॉलोनी क्षेत्र में स्ट्रीट लाइट के जलने का कोई समय ही नहीं है।
शास्त्रीनगर में एलईडी लाइट लगने के बाद वे अचानक बंद हो रही हैं।

शांतिनगर, शिवनगर रोड पर इक्का-दुक्का लाइटें जल रही हैं, शेष बंद रहती हैं।

विजयनगर क्षेत्र में आए दिन दिन में मुख्य रोड की स्ट्रीट लाइट जलती रहती है।
राइट टाउन के गेट नम्बर चार पर स्ट्रीट लाइटें जल ही नहीं रही हैं।

ग्वारीघाट के झंडा चौक से भीमनगर के बीच आए दिन स्ट्रीट लाइट बंद हो रही है।

जबलपुर. शहर के अधारताल, मेडिकल, दमोहनाका, एमआर-4, ग्वारीघाट, राइट टाउन आदि के रहवासी क्षेत्रों में रात होते ही बिजली व्यवस्थाएं चौपट हो रही हैं। इन जगहों पर स्ट्रीट लाइटें जलने और बुझने का कोई समय नहीं है। कई जगहों पर तो यह स्थिति है कि यहां रात में लाइटें जलती ही नहीं है, जिससे रहवासी कॉलोनियों का ट्रैफिक प्रभावित हो रहा है। इन जगहों पर जर्जर सडक़ पर दुर्घटना का अंदेशा बना रहता है।
लाइट बदलने के बाद समस्या- इन क्षेत्रों के लोगों का कहना है कि स्ट्रीट लाइटों को बदला गया है। इसमें सोडियम बल्ब निकालकर उसकी जगह एलइडी स्ट्रीट लाइटों का नया सेटअप लगाया गया है। इसमें यह हो रहा है कि नई एलइडी लाइटें कभी भी बंद हो रही हैं।
स्मार्ट सिटी बदल रहा सेटअप-शहर के बिजली पोलों पर लगी लाइटों को स्मार्ट सिटी के जरिए बदला जा रहा है। इसमें पुरानी लाइटें निकाली जा रही हैं और उसकी जगह एलइडी स्ट्रीट लाइट का नया सेटअप लगाया जा रहा है।
नए वार्डों में सबसे ज्यादा परेशानी-क्षेत्रीय लोगों का कहना है कि नए वार्डों में रात के समय लाइटें बंद रहने की सबसे ज्यादा समस्या है। शिकायत करने के बाद भी इसे दुरूस्त करने कोई नहीं आता है।
- शहर में स्ट्रीट लाइटें बदलने के साथ उसकी मरम्मत भी की जा रही है। इसके लिए एजेन्सी को कार्य दिया गया है।

सम्भव अयाची, प्रभारी, स्मार्ट सिटी (प्रकाश विभाग)

- नगर निगम की पुरानी लाइटों का देखरेख किया जा रहा है। इसमें फाल्ट रहने पर कई बार दिन में लाइन चालू करनी पड़ती है।
नवीन लिनोरे, प्रभारी, नगर निगम (प्रकाश विभाग)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

यूपी में प्रशासनिक फेरबदल, 4 IAS और 3 PCS किए गए इधर से उधरएंकर रोहित रंजन को रायपुर पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार, अपने ही दो कर्मचारी के खिलाफ जी न्यूज़ ने दर्ज कराई FIRTwitter ने केंद्र के आदेश को दी कर्नाटक हाई कोर्ट में चुनौती, लगाया ये आरोपबिहार में लैंड नहीं हो सकी फ्लाइट, वापस दिल्ली एयरपोर्ट लौटीगुजरात में भारी बारिश की चेतावनी, एनडीआरएफ की नौ टीम तैनातIndian Air Force:पहली बार पिता-पुत्री की जोड़ी ने साथ उड़ाया विमानमहाराष्ट्र में शिवसेना के टूटने से डरे अरविंद केजरीवाल, अपने विधायकों से की ये अपीलपश्चिम बंगाल में कानून व्यवस्था को लेकर चिंतित BJP नेता सुवेंदु अधिकारी, गृह मंत्री अमित शाह लिखा पत्र
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.