इस शहर से बढ़ती है वायुसेना की ताकत

वायुसेना के लिए आर्डनेंस फै क्ट्री खमरिया में तैयार होते हैं कई उत्पाद, जबलपुर में बने एरियल और थाउजेंड पाउंडर बम बढ़ाते हैं भारतीय

 

 

By: shyam bihari

Published: 08 Oct 2021, 08:32 PM IST

 

जबलपुर। एरियल बम और थाउजेंड पाउंडर बम भारतीय वायुसेना की ताकत बढ़ाते हैं। लड़ाकू विमानों के माध्यम से दुश्मन के ठिकानों पर बड़े से बड़े स्ट्रक्चर को पल भर में ध्वस्त कर देने के लिए उपयोग किए जाने वाले 100-110 किलो एरियल बम और थाउजेंड पाउंडर बम का जबलपुर स्थित आर्डनेंस फै क्ट्री में वृहद स्तर पर उत्पादन हो रहा है। दोनों ही बमों का 250 किलोग्राम और 450 किलोग्राम साइज में यहां उत्पादन किया जा रहा है। दुश्मन को भारी नुकसान पहुंचाने के लिए सर्जिकल स्ट्राइक जैसे बड़े टास्क में भी दोनों ही बम का उपयोग किया जाता है। इन बमों के उत्पादन के लिए अच्छा खासा आर्डर भी फैक्ट्री को एयरफ ोर्स की तरफ से मिलता है। इसी प्रकार नेवी और आर्मी की तरह एयरफ ोर्स भी 30 एमएम बीएमपी 2 बम का इस्तेमाल करती है।
विध्वंसक बमों का उत्पादन
वायुसेना के हथियारों के लिए जबलपुर लंबे समय से उत्पादनकर्ता रहा है। आर्डनेंस फै क्ट्री खमरिया में कई प्रकार के विध्वंसक बमों का उत्पादन होता है। इनका इस्तेमाल भी समय-समय पर होता रहा है। परंपरागत हथियारों के अलावा अब यहां पर लेजर गाइडेड सिस्टम पर आधारित बम तैयार करने की योजना बनाई गई है। जल्दी ही इनका उत्पादन भी शुरू हो सकता है। ग्रे आयरन फ ाउंड्री में एरियल बम की बॉडी का काम भी होता है। फिलहाल इसका काम नहीं हो रहा है लेकिन फ ाउंड्री के लिए यह बड़ा काम होता है। इसी प्रकार फ ाउंड्री 250 किग्रा बम की बॉडी पर भी काम किया जा रहा है। इन बम बॉडी का इस्तेमाल खमरिया फैक्ट्री करती है, जहां इनमें बारूद की फि ***** होती है। इसके अलावा इन बमों की गुणवत्ता की जांच के लिए भी खमरिया में विंग बनी हुई है।
मीडियम रेंज राडार भी
जबलपुर में एयरफ ोर्स के मीडियम रेंज राडार की स्थापना का काम भी चल रही है। भोंगाद्वार के पास इसका स्ट्रक्चर तैयार किया जा रहा है। मध्य भारत में दुश्मन की हरकतों पर नजर रखना आसान होगा। यहां राडार लगने का सबसे बड़ा फायदा ये होगा की पहले वायुसेना को सिग्नल से संबंधी जो दिक्कतें आती थीं उनमें कमी आएगी। सूत्रों के अनुसार वायुसेना ने यहां पर अधिकारी व कर्मचारियों की तैनाती शुरू कर दी है।

Show More
shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned