इन फील्ड्स में हैं रोजगार की अपार संभावनाएं, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ

27 सेंटर में 15 हजार से अधिक युवाओं का हुआ कौशल विकास, इलेक्ट्रॉनिक्स से लेकर ब्यूटी-वेलनेस फील्ड में स्किल्ड बने यूथ

By: balmeek pandey

Published: 19 May 2017, 01:40 PM IST

जबलपुर। युवाओं को स्किल्ड बनाने के लिए देशभर में प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना चल रही है। इस योजना के तहत जबलपुर भी अहम भूमिका निभा रहा है। शहर में कई केंद्रों पर युवाओं को स्किल्ड बनाया जा रहा है। इनमें कम्प्यूटर ट्रेनिंग सेंटर से लेकर ब्यूटी सेगमेंट और फैशन डिजाइनिंग से जुड़े इंस्टीट्यूट्स शामिल हैं। युवाओं को तीन-तीन महीने की ट्रेनिंग देकर स्किल्ड बनाया जा रहा है। पीएमकेवीवाई योजना शहर में पिछले 2 वर्षों से चल रही है। इसका लाभ लेकर बहुत से लड़के और लड़कियों ने अपना रोजगार शुरू किया है।


स्वरोजगार से जोडऩा मकसद
योजना का मकसद लोगों को स्वरोजगार से जोडऩा है, जो हुनरमंद बनकर अपने जॉब मेकर या एम्प्लॉयी बन सके। इसका शहर के हजारों युवा पिछले दो साल में उठा चुके हैं। भविष्य में भी इनकी संख्या हजारों में होने की संभावना है। इसके अंतर्गत विभिन्न प्रकार की ट्रेनिंग दी जाती है, जो नि:शुल्क है। इसमें बकायदा सरकार की ओर से एक सर्टिफिकेट भी दिया जा रहा है, जो आपको कोई जॉब पाने के लिए मददगार साबित होगा।

हुनरमंद बनाने का काम 
शहर में बहुत से युवाओं ने इसका लाभ लेकर अपना रोजगार खोला है और बहुत से युवा जॉब करने के काबिल बन गए हैं। एक ट्रेनिंग सेंटर के काउंसलर चंद्रकांत सोनी ने बताया कि  स्किल होने की वजह से किसी भी प्राइवेट सेक्टर में कोई वर्क कर सकते हैं। कौशल विकास की ट्रेनिंग करवाने के लिए शहर में 27 सेंटर वर्तमान में संचालित हैं। आर्थिक रूप से अक्षम युवा यहां आकर स्किल्ड बन रहे हैं।  

गल्र्स का रुझान अधिक 
एक्सपर्ट डॉ. नीलम अग्रवाल के मुताबिक कौशल विकास में न केवल लड़कों की संख्या है, बल्कि गल्र्स भी अधिक संख्या में पहुंच रही हैं। गल्र्स भी आजकल सेल्फ एम्प्लॉइड बनना या किसी कार्यालय में जॉब करने के ऑप्शन तलाश रही हैं। इस कारण यह गल्र्स को भी स्किल्ड बनाने के लिए बेनिफिशियल है। 

इस तरह के कोर्सेज
एग्रीकल्चर सेक्टर
अपेरल, होम फर्निशिंग
ऑटोमोटिव स्किल डवलपमेंट
ब्यूटी एंड वेलनेस सेक्टर
कंस्ट्रक्शन स्किल डवलपमेंट 
इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर
फूड इंडस्ट्री स्किल
ज्वैलरी मेकिंग
हैंडीक्राफ्ट
हेल्थकेयर
आईटी सेक्टर
लाइफ साइंस, लॉजिस्टिक
टेलीकॉम
टेक्सटाइल
टूरिज्म एंड हॉस्पिटेलिटी

शहर में खुलना है प्रदेश का पहला कौशल विकास केंद्र गत वर्ष नवंबर में केंद्रीय कौशल विकास मंत्री राजीव प्रताप रूड़ी ने प्रदेश के पहले कौशल विकास केंद्र शहर में खोलने की घोषणा की थी। साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर के ड्राइवर ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट की भी घोषणा की थी।

इनका कहना है
सपना गुप्ता का कहना है मैंने एंब्रॉयडरी की कला सीखी। पूरे 3 महीने तक महिला पॉलिटेक्निक कॉलेज में चल रहे कौशल विकास प्रशिक्षण में हिस्सा लिया। इससे एक हुनर सीख लिया है। अब घर बैठे ही काम कर रही हूं। साक्षी का मानना है कि मैंने बेसिक एजुकेशन ले लिया था, लेकिन जॉब के लिए स्किल्ड होना जरूरी है। इस कारण कम्प्यूटर का प्रशिक्षण लिया। नि:शुल्क सीखा और अब मुझे कम्प्यूटर वर्क आने लगा है।  
Show More
balmeek pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned