कोरोना काल में बाकी बीमारियों से लडऩे के लिए तैयार हो रहा यह अस्पताल

जबलपुर के विक्टोरिया अस्पताल में बनेगी सेंट्रल लैब, एक ही जगह पर हो जाएंगे सभी पैथोलॉजी टेस्ट

 

 

By: shyam bihari

Published: 26 Jun 2020, 09:12 PM IST

जबलपुर। कोरोना काल में बाकी बीमारियों से लडऩे के लिए जबलपुर शहर में विशेष तैयारी की जा रही है। यहां के मेडिकल अस्पताल की तर्ज पर विक्टोरिया अस्पताल में भी सेंट्रल लैब बनेगी। मरीजों के ब्लड, यूरिन सहित सभी प्रकार की जांच एक ही जगह पर हो जाएगी। इसके लिए अस्पताल में तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। स्वास्थ्य विभाग का निर्देश मिलने के बाद सेंट्रल लैब के लिए जगह तय कर ली गई है। ओपीडी बिल्ंिडग के कक्ष-21 को सेम्पल कलेक्शन सेंटर बनाने का प्रस्ताव है। इससे लगे हुए दूसरे कमरों को जोड़कर लैब की जगह तैयार की जाएगी। इन कमरों में पैथोलॉजी, माइक्रोबायोलॉजी व बायोकेमेस्ट्री लैब होगी। यह कवायद मरीजों की सुविधा के साथ ही जिला अस्पताल में जांच की गुणवत्ता सुधारने के लिए की जा रही है। दो साल पहले भी इंटीग्रेटेड सेंट्रल लैब बनाने की योजना पर काम शुरू हुआ था। लेकिन योजना अधूरी रह गई थी।

अस्पताल की डॉ. अमिता जैन के अनुसार सेंट्रल लैब निर्माण के लिए तैयारियां शुरू कर दी गई हैं। लैब में जांच के लिए उपकरण राज्य सरकार की ओर से उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इसमें काम करने वाले टेक्नीशियन अस्पताल के होंगे। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी आकर व्यवस्थाओं का जल्द जायजा लेंगे। अभी जगह को लैब के अनुरूप बनाया जा रहा है। उसके बाद आधुनिक उपकरण स्थापित होंगे। लैब के बन जाने से मरीज को ब्लड, यूरीन, हारमोन, मलेरिया सहित अन्य जांच के लिए अलग-अलग चक्कर काटना नहीं पड़ेगा। एक ही बार सेंपल लेकर एक ही जगह पर उनकी हर प्रकार की जांच हो जाएगी।
ऐसे आकार लेगी लैब
- लैब के लिए दो से तीन कमरे होंगे। यह चिन्हित कर लिए गए हैं।
- सेम्पल कलेक्शन एरिया में महिला-पुरुष के लिए अलग-अलग सुविधाघर
- लैब से संबंधित सभी उपकरण सेंट्रल पैथोलॉजी लैब में ही रखे जाएंगे।
- नमूने लेने के लिए 3 या इससे अधिक कर्मी होंगे।
- लैब में एडवांस मशीनें लगाई जाएंगी। एडवांस बायो सेफ्टी सिस्टम होगा।
मरीजों को मिलेगा लाभ
- ओपीडी टाइम नमूने लिए जाएंगे। मरीज को एक ही बार नमूना देना होगा।
- एक ही बार पर्ची बनेगी। उसे दिखाने पर समस्त प्रकार के जांच हो जाएगी।
- सुबह लिए गए नमूने की जांच रिपोर्ट दोपहर तक मरीजों को मिल जाएगी।
- जांच रिपोर्ट कम्प्यूटर से मिलेगी। इससे डॉक्टरों को पढऩे में आसानी होगी।
- दावा है कि नई लैब में जांच से मिलने वाले परिणाम ज्यादा सटीक होंगे।
विक्टोरिया जिला अस्पताल के सिविल सर्जन डॉ. सीबी अरोरा ने बताया कि राज्य सरकार की ओर से सेंट्रल लैब का निर्माण कराया जा रहा है। इसके लिए जगह चिन्हित कर ली गई है। जल्द ही उपकरणों की आपूर्ति शुरू हो जाएगी। तीन महीने के अंदर सेंट्रल लैब तैयार करने की योजना है। इससे मरीजों को जल्द ही बेहतर जांच सुविधा उपलब्ध होगी।

shyam bihari Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned