गोंदिया ब्रॉडगेज परियोजना : खुद आइना दिखा रहे ये चौंकाने वाले हालात

गोंदिया ब्रॉडगेज परियोजना : खुद आइना दिखा रहे ये चौंकाने वाले हालात

Sudarshan Kumar Ahirwar | Publish: Nov, 11 2018 07:00:00 AM (IST) Jabalpur, Madhya Pradesh, India

नैनपुर से समनापुर के बीच पुल-पुलियों का निर्माण और ट्रैक लिंकिंग का काम अब भी शेष

जबलपुर. गोंदिया ब्रॉडगेज परियोजना के तहत जबलपुर से नैनपुर तक ब्रॉडगेज का काम पूरा हो गया है, लेकिन नैनपुर से समनापुर के बीच का काम अब भी अधूरा है। यहां न तो मिट्टी डाली गई है और न ही छोटे पुल-पुलियों का निर्माण हो सका है। इस वित्तीय वर्ष में परियोजना को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन जिस गति से काम चल रहा है, उससे तय समय में पूरा होने के आसार नजर नहीं आ रहे। रेलवे से मिली जानकारी के अनुसार तीन साल में तीन फेज का काम पूरा हो गया है। इसमें जबलपुर-सुकरी मंगेला, सुकरी मंगेला-घंसौर और घंसौर-नैनपुर तक काम पूरा होने के साथ रेल यातायात भी शुरू हो गया है।

फैक्ट फाइल
- 1996-97 में शुरू हुई थी परियोजना
- 511 करोड रुपए थी तत्कालीन लागत
- 1750 करोड़ रुपए पहुंची वर्तमान लागत
- 278 किमी की है परियोजना
- 01 रिवर ब्रिज नर्मदा पर (सबसे बड़ा ब्रिज)
- 400 छोटे पुल-पुलिया
- 130 किलोमीटर जबलपुर से नैनपुर तक निर्माण पूर्ण।

नैनपुर-समनापुर के बीच काम शुरू
जानकारी के अनुसार नैनपुर से समनापुर तक 60 किमी का ट्रैक पहाड़ी व पत्थरों वाला है। यहां रेलवे और ठेकेदार को ट्रैक बिछाने के लिए मशक्कत करनी पड़ेगी। टै्रक पर छोटे पुल-पुलियों का निर्माण शुरू हो गया है। यहां 30 छोटे पुल-पुलियों का निर्माण होना है। इनमें कई नाले नालियों, नहरों के और कई जानवरों के रेल ट्रैक पार करने के लिए बनाए जाएंगें। इसके बाद यहां मिट्टी डालकर ट्रैक लिंक किया जाएगा। जानकारों के अनुसार इस काम को पूरा होने में पांच से सात माह और लगेंगे।

300 किमी कम हो जाएगी दूरी
रेलवे ने गोंदिया जबलपुर के बीच अधूरे ब्रॉडगेज निर्माण कार्य को वर्ष 2018 के अंत तक पूरा करने का लक्ष्य निर्धारित किया है। इसके बाद नैनपुर-मंडला और नैनपुर, सिवनी, छिंदवाड़ा, नागपुर ब्रॉडगेज परियोजना पर काम करने की योजना है। जानकारों के अनुसार गोंदिया, नैनपुर, जबलपुर ब्रॉडगेज परियोजना पूरी होने से उत्तर भारत और दक्षिण भारत के शहरों के बीच आवाजाही आसान हो जाएगी। नए रूट से ट्रेनों के संचालन पर उत्तर और दक्षिण भारत की दूरी करीब 300 किमी कम हो जाएगी।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned