ऐतिहासिक त्रिपुरी सुंदरी मंदिर से सोने के चार और चांदी के सात छत्र चोरी

ऐतिहासिक त्रिपुरी सुंदरी मंदिर से सोने के चार और चांदी के सात छत्र चोरी
मां त्रिपुर सुंदरी

Santosh Kumar Singh | Publish: May, 12 2019 01:53:47 PM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

भेड़ाघाट थानांतर्गत शहर के 14 किमी दूर ऐतिहासिक त्रिपुरी सुंदरी मंदिर से चोर शनिवार रात सोने के चार और चांदी के सात छत्र चुरा ले गए, आधी रात चार नकाबपोश चोरों ने दी वारदात को अंजाम, दानपेटी तोड़ते समय सुरक्षा गार्डों को लगी भनक

जबलपुर। भेड़ाघाट थानांतर्गत शहर के 14 किमी दूर ऐतिहासिक त्रिपुरी सुंदरी मंदिर से चोर शनिवार रात सोने के चार और चांदी के सात छत्र चुरा ले गए। मंदिर में लगे सीसीटीवी फुटेज के अनुसार चोर रात 1.30 बजे पहुंचे थे। चार नकाबपोश चोरों में तीन मंदिर के अंदर छत्र चुराने में लगे थे, तो एक बाहर तकवारी कर रहा था। दानपेटी तोड़ते समय कुछ दूर मौजूद सुरक्षा गार्डों को इसकी भनक लग गयी। वे पहुंचे तो बाहर खड़ा लडक़ा और अंदर उसके तीनों साथी पीछे के जंगल से होकर भाग निकले। रात में ही गार्डों ने डायल-100 पर चोरी की सूचना दी। मंदिर में चोरी की खबर मिलते ही मौके आसपास के लोग बड़ी संख्या में एकत्रित हो गए। मौके पर एएसपी ग्रामीण, फिंगर प्रिंट दस्ता, डॉग स्क्वॉड और एफएसएल टीम पहुंची थी।

कंट्रोल रूम से चोरी की खबर
टीआइ भेड़ाघाट शशि विश्वकर्मा ने बताया कि रात 2.10 बजे के लगभग कंट्रोल रूम से चोरी की खबर मिली। मंदिर की सुरक्षा के लिए रात्रि ड्यूटी में गार्ड तेवर निवासी गोपाल रैकवार और अंधुआ निवासी हल्केराम थे। दोनों ने बताया कि रात 2.05 बजे के लगभग उनकी नींद लग गयी थी। तभी दानपेटी तोड़े जाने की आवाज उनकी कानों तक पहुंची। दोनों पहुंचे तो मंदिर के पीछे एक नकाबपोश युवक खड़ा था। दोनों को देखते ही उसने आवाज लगाकर पीछे जंगल की ओर दौड़ लगा दी। मंदिर से उसके तीन साथी भी निकल गए। चारों नकाब में थे। गोपाल के मुताबिक चारों युवक टी-शर्ट व पैंट में 25 से 30 वर्ष की उम्र में रहे होंगे।

मंदिर में चोरी से मचा हडक़म्प, स्थानीय लोगों में आक्रोश
IMAGE CREDIT: patrika

मंदिर में चोरी से मचा हडक़म्प, स्थानीय लोगों में आक्रोश
ऐतिहासिक और पौराणिक त्रिपुर सुंदरी मंदिर में चोरी की खबर रविवार सुबह पूरे क्षेत्र में फैल गयी। मां में श्रद्धा रखने वाले बड़ी संख्या में लोग मंदिर में एकत्र हो गए। लोगों ने चोरी की घटना के विरोध में आक्रोश भी व्यक्त किया। लोगों ने चोरी की वारदात का जल्द खुलासा करने की बात कही है। मंदिर समिति से जुड़े शिव पटेल ने बताया कि सोने के चारों छात्र लगभग 70 ग्राम और चांदी के सात छत्र लगभग पांच किलो चांदी से बने थे।
प्रशासन संभालता है त्रिपुरी मंदिर समिति की व्यवस्था
त्रिपुर मंदिर समिति की व्यवस्था प्रशासन के जिम्मे हैं। यहां पुजारी से लेकर सारी धार्मिक गतिविधियों की देख-रेख प्रशासन द्वारा कराया जाता है। पुजारी सहित सभी को इसके लिए वेतन दिया जाता है। मंदिर समिति के माध्यम से इसका संचालन किया जाता है। इस मंदिर में हर वर्ष लाखों का चढ़ावा चढ़ाया जाता है। मन्नत के रूप में भक्त यहां नारियल बांधते हैं।

श्रद्धालु यहां पर सच्चे मन से मन्नत का नारियल बांधकर जाता है
IMAGE CREDIT: patrika

मंदिर से जुड़ी ये है धार्मिक मान्यता-
सच्चे मन से सिर्फ एक नारियल की भेंट लेकर अपने भक्तों पर असीम कृपा लुटाने वालीं मां त्रिपुर सुंदरी धाम से लोगों की अटूट श्रद्धा जुड़ी हुई है। 11वीं शताब्दी में बने इस मंदिर के बारे में कहा जाता है कि यहां की मूर्ति धरती के अंदर से प्रकट हुई थी। यहां पूरे वर्षभर श्रद्धालुओं का तांता लगा रहता है। नवरात्र में तो कई किमी लम्बी लाइन लगानी पड़ती है।
1985 से पहले एक किला था
मंदिर में स्थापित मूर्ति के संबंध में कहा जाता है कि 1985 के पूर्व इस स्थान पर एक किला विद्यमान था जिसके अंदर यह प्राचीन मूर्ति थी। वहां पास में ही एक गड़रिया रहता था जो मूर्ति के पास ही अपनी बकरियों को बांधा करता था। मूर्ति का मुख पश्चिम दिशा की ओर था। बाद में धीरे-धीरे यहां कुछ अन्य विद्वानों का आना हुआ और मंदिर का विकास कार्य किया गया। अब भी इस स्थान पर मंदिर के ही समीप उस गड़रिया की झोपड़ी है।
ये है मान्यता
मां त्रिपुर सुंदरी के दरबार की मान्यता है कि जो भी श्रद्धालु यहां पर सच्चे मन से मन्नत का नारियल बांधकर जाता है तो उसकी मनोकामना अवश्य पूरी होती है। त्रिपुर सुंदरी की प्रतिमा स्थापित होने के पूर्व इस मंदिर में सैकड़ो साल से आसपास के ग्रामीण हथियागढ़ वाली खेरदाई के नाम से मंदिर में शक्ति पूजन करते आ रहे है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned