चाणक्य की मृत्यु और ये दो कहानियां, अब तक नहीं सुलझा रहस्य

चाणक्य की मृत्यु और ये दो कहानियां, अब तक नहीं सुलझा रहस्य
chankya

चाणक्य की मृत्यु के संबंध में दो कहानियां प्रचलित हैं। हालांकि दोनों में से कौन-सी सत्य है इस संबंध में विशेषज्ञ अब तक स्पष्ट मुहर नहीं लगा पाए हैं।

जबलपुर। लंबे समय से लोगों के बीच फेमस हो रहा सीरियल अशोक में हर दिन नए उतार-चढ़ाव देखने मिल रहे हैं। 'अशोक' अपने गुरू चाणक्य के हत्यारों से बदला लेने के लिए तड़प रहा है। वैसे यहां सभी को पता है कि चाणक्य इतिहास एक एक मजबूत कैरेक्टर है। जिन्हें ना सिर्फ बतौर अर्थशास्त्र के लेखक के रूप में जाना जाता है, बल्कि महान कूटनीतिज्ञ और मौर्य साम्राज्य के विस्तार के लिए भी जाना जाता है।

चाणक्य की मृत्यु के संबंध में दो कहानियां प्रचलित हैं। हालांकि दोनों में से कौन-सी सत्य है इस संबंध में विशेषज्ञ अब तक स्पष्ट मुहर नहीं लगा पाए हैं।


पहली कहानी
चाणक्‍य के खिलाफ साजिश बिंदुसार के मंत्री सुबंधु को चाण्‍क्‍य की बिंदुसार से करीबी पसंद नहीं थी। उसने कई षड्यंत्र रचे, ताकि वह चाणक्य के खिलाफ हो जाएं। सुबंधु अपने मकसदों में कामयाब हुआ और आचार्य ने महल छोड़कर जाने का फैसला कर लिया और एक दिन वे चुपचाप महल से निकल गए। उन्होंने ताउम्र उपवास करने का प्रण लिया और अंत में प्राण त्याग दिए।


दूसरी कहानी
दूसरी कहानी में यह कभी कहा जाता है कि सुबंधु ने आचार्य को जिंदा जलाने की कोशिश की थी, जिसमें वे सफल भी हुए।
इतिहासकारों के अनुसार साजिश के तहत चाणक्य की जान गई। हालांकि सभी इस पर एकमत नहीं है। इस दिशा में अब भी शोध किया जा रहा है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned