डम्परों की बेलगाम रफ्तार से सहम जाते हैं लोग, रोज हो रहे हादसे

ताक पर नियम : जिम्मेदार नहीं करते कार्रवाई
ये हैं जिम्मेदार : ट्रैफिक पुलिस, सम्बंधित थाने और आरटीओ
नो-एंट्री
समय : सुबह छह से रात नौ बजे तक
छूट : दोपहर दो से शाम पांच बजे तक
किसके लिए : कछपुरा मालगोदाम आने वाले वाहन

By: virendra rajak

Published: 27 Nov 2019, 07:04 PM IST

जबलपुर. शहर की सडक़ों पर डम्पर और भारी वाहनों की बेलगाम रफ्तार हादसों का कारण बन रही है। ये छोटे वाहन के बगल से गुजरते हैं तो वाहन चालक सहम जाते हैं। इनकी बेढंगी चाल से आए दिन हादसे हो रहे हैं। कोई असमय काल के गाल में समा जाता है तो कोई अपाहिज हो जाता है। इसके बावजूद सख्त कार्रवाई नहीं होने से इनकी मनमानी बढ़ती जा रही है।
ये है स्थिति
प्रतिवर्ष होने वाले हादस 400
प्रतिवर्ष मृतकों की संख्या : 40
प्रतिवर्ष घायलों की संख्या : 500
यहां होते हैं सबसे अधिक हादसे
- भेड़ाघाट बाइपास से भेड़ाघाट चौराहा
- पाटन बाइपास से माढ़ोताल
- कटंगी बाइपास से माढ़ोताल
- गौर से पेंटीनाका
- अधारताल से महाराजपुर
- तिलवारा से मेडिकल
नौ बजे गायब हो जाती है ट्रैफिक पुलिस
नो एंट्री का समय समाप्त होते ही शहर और बाइपास से ट्रैफिक पुलिस के जवान नजर नहीं आते। इसका कारण ट्रैफिक पुलिस की ड्यूटी का समय फिक्स होना है। नौ बजे के बाद डम्पर और हाइवा चालकों की मनमानी शुरू हो जाती है।
केस : 01
रेत और गिट्टी लोड कर तिलवारा की ओर से शहर आने वाले डम्पर और हाइवा तेज रफ्तार में गुजरते हैं। इस दौरान तीन थाने तिलवारा, गढ़ा और यातायात थाना गढ़ा पड़ते हैैं, लेकिन वाहनों पर कार्रवाई नहीं होती।
बीच शहर में धमाचौकड़ी
- सतपुला से रांझी तक
- दीनदयाल चौक से मेहता पेट्रोल पम्प
- मेडिकल से मदन महल चौक
- घमापुर से सतपुला तक
- अधारताल से शोभापुर तक
- बंदरिया तिराहा से पेंटीनाका
डम्परों के ‘चोर रास्ते’
- एलआईसी से प्रेम नगर, गुप्तेश्वर होते हुए शास्त्री ब्रिज की ओर
- एलआईसी से प्रेम नगर, गुप्तेश्वर होते हुए गोरखपुर की ओर
- कृषि उपज मंडी के आसपास से शांति नगर होते हुए दमोहनाका और बल्देवबाग
- आईटी पार्क से नया गांव होते हुए रामपुर
इन नियमों का हो रहा उल्लंघन
- बिना लाइसेंस दौड़ रहे वाहन
- नशे में धुत रहते हैं चालक
- फिटनेस सर्टिफिकेट नहीं होता
- नंबर प्लेट पर कीचड़ या मिट्टी लगी होती है
- पीछे की लाइट बंद रहती है
- हेडलाइट भी होती है धीमी
- कई डम्परों का नहीं होता बीमा
- नाबालिग चलाते हैं डम्पर
केस : 02
पाटन, कटंगी बाइपास की ओर से डम्पर और हाइवा तेज रफ्तार में शहर में प्रवेश करते हैं। इस मार्ग पर माढ़ोताल थाना और मालवीय चौक यातायात थाने के स्टाफ की तैनाती के बाद भी रफ्तार पर अंकुश नहीं लगता। इस मार्ग पर आए दिन हादसे होते हैं।

virendra rajak Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned