सीजन आ गया है, फिर भी सब्जियों के दाम बढ़ते ही जा रहे

शहर में प्रमुख सब्जियों की कीमत में तेजी बरकरार

जबलपुर. मौसमी सब्जियों के बढ़े दामों में अभी तक कमी नहीं आ सकी है। गिलकी, बरबटी, चना या मैथी की भाजी। सभी के दाम तेज हैं। शहर के सभी बाजारों में एक जैसे हालात हैं। प्रदेश में मटर की पैदावार में अव्वल रहने वाले इस शहर में मटर की कीमत अभी 80 रुपए किलो तक है। लहसुन 200 रुपए तो अदरक 80 से 120 रुपए बिक रहा है। आमतौर पर इस सीजन में सब्जियों के दामों में कमी आ जाती है। जबकि, लौकी और भटा को छोड़ दिया जाए तो ज्यादातर सब्जियों के दाम लम्बे समय से 40 रुपए से ऊपर हंै। शहर में दूसरे राज्यों के साथ ही आसपास के इलाकों से भी सब्जियां आती हैं। इनकी अच्छी पैदावार होती है। व्यापारी का तर्क है कि आवक कम और खपत ज्यादा है। कुछ सब्जियों की मांग ज्यादा होने से कीमत बढ़ी है।
क्या कहते हैं ग्राहक
लटकारी के पड़ाव में सब्जी खरीदने आईं सरोज पांडे ने बताया कि भिंडी और गिलकी कीमत तो कम ही नहीं हो रही हैं। टमाटर आए दिन महंगा हो जाता है। गोभी के फूल का स्वाद लेना महंगा हो रहा है। अतुल नारंग ने बताया कि आसपास के क्षेत्रों से जब सब्जियां आती हैं तो उनकी कीमत कम होनी चाहिए। मदन महल के बुजुर्ग मदन नामदेव ने बताया कि कीमत पर शासन को नजर रखना चाहिए। ज्यादा मात्रा वाली सब्जियां भी महंगी बिक रही हैं।
खपत ज्यादा आवक कम
सब्जी विक्रेता परषोत्तम पटेल का कहना है कि अभी कुछ सब्जियों की खपत ज्यादा है। उसकी आवक कम है। इसलिए कीमत तेज हैं। थोक एवं फुटकर सब्जी व्यापारी प्रवीण कुशवाहा का कहना है कि स्थानीय स्तर पर अपेक्षा के अनुरूप सब्जियों की पैदावार नहीं हुई। पानी में यह खराब हुई हैं। इसलिए फिर से इन्हें लगाया है। आने वाले 15 से 20 दिन में कुछ सब्जियों के दाम नीचे आएंगे। दुकानदार श्यामलाल का कहना है कि बाहर से भी सब्जी की आवक ठीक नहीं है।
जिले में इनका उत्पादन
गिलकी, भिंडी, बरबटी, चना भाजी, लाल भाजी, टमाटर, लौकी, पालक, मैथी, फूलगोभी आदि।
सब्जियों के दाम प्रतिकिलो
भिंडी 35 से 40
टमाटर 30 से 40
बरबटी 50 से 60
लौकी 20 से 25
गिलकी 40 से 50
मटर 70 से 80
चना भाजी 80 से 100
मैथी भाजी 30 से 40
शिमला मिर्च 40 से 50
पत्तागोभी 30 से 40
भटा 20 से 25
लहसुन 180 से 220
अदरक 80 से 120
आलू 15 से 20
प्याज 65 से 70
परबल 40 से 50

shivmangal singh
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned