विनायक चतुर्थी आज, भगवान गणेश का पूजन देगा सुख समृद्धि और तरक्की: आज का पंचांग

विनायक चतुर्थी आज, भगवान गणेश का पूजन देगा सुख समृद्धि और तरक्की: आज का पंचांग

 

By: Lalit kostha

Published: 30 Dec 2019, 10:08 AM IST

जबलपुर। शुभ विक्रम संवत् : 2076, संवत्सर का नाम : परिधावी, शाके संवत् : 1941, हिजरी संवत् : 1441, मु.मास: ज:उलअब्बल 3, अयन : दक्षिणायन, ऋतु : हेमंत, मास : पौष, पक्ष : शुक्ल,
तिथि -दोपहर 12.34 तक रिक्ता तिथि चतुर्थी उपरांत पूर्णा तिथि पंचमी रहेगी। रिक्ता तिथि असद कार्य के लिए उपयुक्त मानी जाती है, परंतु श्री गणेशजी के व्रत से जुड़ी यह तिथि कल्याणकारी मानी जाती है। आज भगवान श्री गणेश पर आधारित विनायकी चतुर्थी पर श्री गणेशजी का पूजन करना सुख सौभाग्य के लिए अति उत्तम तथा मंगलकारी है।
योग- रात्रि 8.37 तक बज्र उपरांत सिद्धि योग रहेगा। शुभ कार्य हेतु सिद्ध योग शुभ तथा मंगलकारी है।
विशिष्ट योग- आज के दिन वाद्य कला पठन पाठन, मित्र मिलन, पत्र लेखन जैसे कार्य अत्यंत शुभ तथा मंगलकारी है।
करण- सूर्योदय काल से विष्टि उपरंात वालव तदनंंतर वव करण का प्रवेश होगा। करण योग शुभ है।
नक्षत्र- लघुसंज्ञक अधोमुख नक्षत्र धनिष्ठा रात्रि 10.14 तक उपरांत शतभिषा नक्षत्र रहेगा। धनिष्ठा नक्षत्र में मुंडन, उपनयन, कारीगरी, हाथी घोड़े की सवारी, बाग बगीचा, पौधरोपण, जैसे कार्य शुभ तथा मंगलकारी माने जाते हैं। वहीं शतभिषा नक्षत्र में प्रतिष्ठा, वास्तु कलारंभ, वानिकी एव गीत संगीत जैसे कार्य मंगलकारी माने जाते हैं।

panchang01.png

शुभ मुहूर्त - आज पुंसवन प्रसूतिकार्य, वाद्यकला संगीत, पौधरोपण, वानिकी, खनिज सम्पदा, कृषिकार्य, बागवानी, जैसे कार्य अत्यंत शुभ तथा मंगलकारी माने जाते हैं।
श्रेष्ठ चौघडि़ए- आज प्रात: 9.00 से 10.30 शुभ दोपहर 1.30 से 6.00 चर, लाभ अमृत एवं रात्रि 6.00 से 7.30 चर की चौघडिय़ा शुभ तथा मंगलकारी रहेगी।
व्रतोत्सव- आज : रवि योग के साथ श्री विनायकी गणेश चतुर्थी का व्रत व्रतोत्सव पर्व रहेगा। श्री गणेश आराधना कल्याणकारी रहेगी।
चन्द्रमा : प्रात: 9.15 तक मकर राशि में उपरांत शनि प्रधान राशि कुम्भ राशि में संचरण करेगा।

ग्रह राशि नक्षत्र परिवर्तन: सूर्य के धनु राशि में गुरु धनु राशि में तथा शनि धनु राशि के साथ सभी ग्रह यथा राशि पर स्थित है। सूर्य का पूर्वाषाढ़ नक्षत्र में संचरण रहेगा।
दिशाशूल: आज का दिशाशूल पूर्व दिशा में रहता है, इस दिशा की व्यापारिक यात्रा को यथा संभव टालना हितकर है। चन्द्रमा का वास दक्षिण दिशा में है, सन्मुख एवं पश्चिम चन्द्रमा शुभ माना जाता है।
राहुकाल: प्रात: 7.30.00 बजे से 9.00.00 बजे तक। (शुभ कार्य के लिए वर्जित)
आज जन्म लेने वाले बच्चे - आज जन्मे बालकों का नामाक्षर गा,गी,गे अक्षर से आरंभ कर सकते हैं। ृधनिष्ठा नक्षत्र में जन्मे बालकों की राशि कुम्भ होगी। राशि स्वामी शनि तथा जन्म ताम्रपाद पाया में रहेगा। इस राशि के जातक प्राय: गम्भीर, भोजन में एवं वस्त्र के प्रति विशेष शौकीन, कलात्मक चीजों से लगाव, प्रकृतिप्रेमी, अधिक मित्र वाले, खर्चीले तथा देशाटन में विशेष रुचि रखने वाले होते हंै, कला में सफल होते हैं।

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned