#Alert: वायरल बुखार का बढ़ा प्रकोप, बच्चे सबसे ज्यादा प्रभावित, ये सवाधानियां जरूरी

गम्भीर हालत में अस्पताल में हो रहे भर्ती

By: reetesh pyasi

Published: 10 Sep 2021, 07:57 PM IST

जबलपुर। मौसम में उतार-चढ़ाव बच्चों की सेहत पर भारी पड़ रहा है। सर्दी-जुकाम, गले में दर्द, वायरल बुखार के साथ मच्छर का अटैक भी सबसे ज्यादा बच्चों पर हो रहा है। डॉक्टरों के पास जांच के लिए आ रहे बुखार पीडि़तों में लगभग 30-40 प्रतिशत तक बच्चे हैं। वायरल बुखार और डेंगू बिगडऩे पर कई बच्चे गम्भीर हालत में अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। शहर के कुछ अस्पतालों में शिशु रोग वार्ड में एक बिस्तर पर दो-दो बच्चों को भर्ती करके उपचार किया जा रहा है। तीन माह से लेकर एक साल तक के बच्चे भी डेंगू से पीडि़त मिल रहे हैं। सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में मेडिसिन ओपीडी में मरीजों की कतार बढ़ती जा रही है।

नए पीडि़तों में हर दिन मिल रहे बच्चे
वायरल बुखार और डेंगू के हर दिन मिल रहे पीडि़तों में बच्चे भी शामिल हैं। स्वास्थ्य विभाग को अभी तक मिले 378 डेंगू पॉजिटिव में लगभग 130 बच्चे हैं। शहर के अस्पतालों में किट जांच डेंगू, मलेरिया एवं चिकुनगुनिया से पीडि़त लगभग पांच सौ लोग प्रतिदिन मिल रहे हैं। इसमें भी डेढ़ सौ से दो सौ तक अवयस्क शामिल हैं। बच्चों के अस्पतालों में एक साल से कम उम्र के बुखार के पीडि़त भी भर्ती हैं। बच्चा वार्ड में क्षमता से लगभग दोगुने मरीज भर्ती है।

बच्चों का विशेष ध्यान रखें, सावधानी बरतें
हृदय एवं मेडिसिन रोग विशेषज्ञ डॉ. आरएस शर्मा के अनुसार बच्चों को मच्छरों से बचाकर रखना चाहिए। उन्हें पूरे शरीर को ढंकने वाले कपड़े पहनाएं। मच्छरदानी में रखें। घर के आसपास सफाई रखें। स्वच्छ जल का सेवन करें। बुखार होने पर बच्चों को तुरंत अस्पताल में ले जाकर जांच कराएं। डेंगू में शरीर में तरल पदाथ की कमी होने से नुकसान का खतरा रहता है।

COVID-19 virus Patrika
reetesh pyasi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned