scriptVoters of Mahakaushal's lesson to politicians | महाकौशल के वोटर का निर्णय: भाजपा के 3 नगर निगमों में नुकसान की भरपाई पालिका-परिषदों से की | Patrika News

महाकौशल के वोटर का निर्णय: भाजपा के 3 नगर निगमों में नुकसान की भरपाई पालिका-परिषदों से की

- वोटर ने सूबे के हर इलाके से दिया सियासी सबक

जबलपुर

Published: July 21, 2022 12:16:30 pm

जबलपुर@राजेंद्र गहरवार

चुनावों के दौरान किए जाने वाले तमाम वादों व दावों के बीच जनता को बहलाने से लेकर किसी भी तरह से उन्हें अपनी ओर खीचने की राजनैतिक पार्टियों की ओर से तमाम प्रयास किए जाते हैं। इस तरह के तमाम वादों व प्रयासों के बाद आखिरकार अब मध्यप्रदेश के नगरीय निकायों के परिणाम सबके सामने आ चुके हैं। ऐसे में जहां जनता ने इस बार कुछ पार्टियों की बातों को लेकर हामी भरी तो वहीं कई वादों व दावों को सिरे से नकारते हुए राजनीतिक दलों को सियासी सबक देने का भी काम किया है। ऐसे में आज हम विश्लेषण कर बता रहे हैं कि इन चुनावों से किसे क्या सबक मिला... कौन कहां मजबूत रहा और कहां कमजोर...

mahakaushal.png

महाकौशल का सियासी सबक, ऐसे समझें
आठ जिलों और 38 विधानसभा सीटों वाले नर्मदा के कछार महाकौशल में नगरीय निकाय के चुनाव के परिणाम कमोबेश 2018 के विधानसभा चुनाव जैसे ही हैं। यहां तीन निगम मुट्ठी से रेत की तरह भाजपा के हाथ से निकल गए। भाजपा ने कई रणनीतिक चूक की और सत्ता विरोधी रुझान भांपने में नाकाम रही।

रही-सही कसर प्रत्याशी चयन के संशय ने पूरी कर दी। 18 साल से जबलपुर के नगर निगम में मजबूत कब्जे के बाद भी प्रत्याशी चयन में चूक ने दावेदारों के असंतोष को हवा दे दी। ऐसी ही गलती छिंदवाड़ा नगर निगम में की जहां से कुछ समय पहले वीआरएस लेकर पार्टी में आए नगर निगम अधिकारी को उतार दिया।

भाजपा के लिए सबसे अधिक सकते में डालने वाली हार कटनी निगम में मिली यह क्षेत्र भाजपा प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के संसदीय क्षेत्र का हिस्सा है। शर्मा और पूर्व मंत्री संजय पाठक की पसंद पर युवा महिला प्रत्याशी को मैदान में उतारा, लेकिन दांव उल्टा पड़ा और बागी ने पटखनी दे दी। तीनों ही नगर निगम में जनता के मूड और कार्यकर्ताओं के मन की बात समझने में भाजपा नाकामयाब रही। कांग्रेस के लिए जो माकूल स्थिति खुद के दमदार होने से नहीं, बल्कि भाजपा की कमजोरियों की वजह से बनी।

भाजपा के लिए यह खुशी का विषय हो सकता है कि महाकौशल के अधिकतर नगर पालिकाओं और नगर परिषदों में उसके पार्षद बड़ी संख्या में जीते हैं और वह इन जगहों पर अपने अध्यक्ष व बोर्ड बनाने में कामयाब हो सकती है लेकिन जो पार्टी के भीतर अंतर्द्वंद बढ़ा हुआ है यह भाजपा के आने वाले दिनों के लिए सबसे बड़ी चुनौती साबित होने वाला है।

2018 के विधानसभा चुनाव में जिस तरह की बगावत महाकौशल में देखने को मिली, इससे पहले ऐसे हालात कभी नहीं बने। इन दोनों दलों के लिए जो सबसे अधिक सकते में डालने वाली बात है वह है एआइएमआइएम और आम आदमी पार्टी की एंट्री कुछ पार्षद सीटों को जीतने की संख्या से अगर परे सोचें तो जिस तरह के वोट उन्होंने बांटे उसने भी भाजपा और कांग्रेस के बीच जीत हार के अंतर में एक बड़ी भूमिका अदा की। इन परिणामों ने 2023 के विधानसभा चुनाव के लिए चुनौतियों को बढ़ा दिया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

रोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियागुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानलालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाMaharashtra Monsoon Session: व्हिप को लेकर आमने-सामने हुए शिंदे गुट और ठाकरे खेमा, महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष का जमकर हंगामाBJP के नए संसदीय बोर्ड और चुनाव समिति का गठन, गडकरी व शिवराज की छुट्टी, देखिए कौन-कौन नेता शामिलजिम्बाब्वे दौरे पर गई भारतीय टीम को BCCI ने दी सख्त हिदायत, पूल में जाने से रोका, ज्यादा देर नहाने से भी किया मानाकिडनैंपिग के आरोपी हैं बिहार के कानून मंत्री कार्तिकेय सिंह, सरेंडर वाले दिन ही ली शपथ, नीतीश बोले-मुझे जानकारी नहींदिल्ली सीएम अरविंद केजरीवाल ने लॉन्च किया ‘मेक इंडिया नंबर-1’ कैंपेन, पूछा - आजादी के 75 वर्ष बाद भी हम बाकी देशों से पीछे क्यों?
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.