Loksabha election 2019 : कड़ी सुरक्षा के बीच 29 अप्रैल को होगा मतदान, तैयारियां पूरी

Loksabha election 2019 : कड़ी सुरक्षा के बीच 29 अप्रैल को होगा मतदान, तैयारियां पूरी
Loksabha election 2019,Loksabha election 2019 news,

Abhishek Dixit | Publish: Apr, 18 2019 12:56:34 AM (IST) Jabalpur, Jabalpur, Madhya Pradesh, India

187 मतदान केन्द्रों पर होंगे अतिरिक्त इंतजाम, जिले में 187 बूथों में चार नहीं पांच कर्मचारी कराएंगे मतदान

जबलपुर. आमतौर पर मतदान दल में चार अधिकारी और कर्मचारी मतदान करवाते हैं, लेकिन लोकसभा चुनाव में जिले में 187 ऐसे बूथ होंगे जहां पर दल चार की जगह पांच अधिकारी-कर्मचारियों का होगा। क्योंकि इन केन्द्रों पर मतदाताओं की संख्या 12 सौ से अधिक है। निर्वाचन आयोग ने इतनी संख्या वाले बूथ पर एक अतिरिक्त कर्मचारी की व्यवस्था का प्रावधान किया है, ताकि किसी प्रकार का व्यवधान न आए। जिले में 2128 मतदान केन्द्रों पर 29 अप्रैल को लोकसभा चुनाव के लिए मतदान होना है। प्रत्येक मतदान केन्द्र में चार के लिहाज से कर्मचारियों की संख्या करीब 8 हजार 512 होती है, लेकिन 187 बूथों पर एक-एक अतिरिक्त कर्मचारियों की तैनाती से यह संख्या 8 हजार 699 हो जाएगी। वहीं दूसरी तरफ रिजर्व बल अतिरिक्त होगा।

क्रिटिकल बूथों पर भी अतिरिक्त इंतजाम
विधानसभा चुनाव की तरह लोकसभा चुनाव में भी जिले के क्रिटिकल एवं बल्नरेवल मतदान केन्द्रों पर विशेष इंतजाम किए जाने हैं। जिले के 361 मतदान केद्रों को क्रिटिकल एवं बल्नरेवल केन्द्र के रूप में चिह्नित किया गया है, इसमें 22 बल्नरेवल केन्द्र हैं। इसमें दो बरगी और 20 पूर्व विधानसभा क्षेत्र में हैं। इनमें सीसीटीवी के अलावा वीडियोग्राफी भी करवाई जाएगी। बताया जाता है कि अभी तक पाटन में 23, बरगी में 70, पूर्व 59, उत्तर 29, केंट 09, पश्चिम 02, पनागर 34 और सिहोरा विधानसभा क्षेत्र में करीब 33 क्रिटिकल एवं बल्नरेवल मतदान केन्द्र बनाए गए हैं। इनमें परिवर्तन भी हो सकता है।

मतदान केंद्रों पर हों सभी सुविधाएं
लोकसभा चुनाव के लिए मतदान के दिन मतदान केंद्रों में बिजली, पानी, फर्नीचर और अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएं। ये निर्देश जिला निर्वाचन अधिकारी और कलेक्टर छवि भारद्वाज ने बुधवार को नोडल अधिकारियों को बैठक में दिए। उन्होंने जरूरी सुविधाओं की उपलब्धता, चुनाव कर्मियों के अंतिम चरण के प्रशिक्षण की भी जानकारी ली। इवीएम, वीवीपैट के परिवहन में उपयोग किए जाने वाले वाहनों में जीपीएस, वल्नरेबल, क्रिटिकल बूथों की वेबकास्टिंग और सीसीटीवी कैमरों से निगरानी के लिए किए जा रहे इंतजामों की भी समीक्षा की।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned