scriptWaiting for trains to Mandla, Balaghat, Seoni, Chhindwara | मंडला, बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा को ट्रेनों का इंतजार, इससे अच्छा तो नैरोगेज थी | Patrika News

मंडला, बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा को ट्रेनों का इंतजार, इससे अच्छा तो नैरोगेज थी

मंडला, बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा को ट्रेनों का इंतजार, इससे अच्छा तो नैरोगेज थी

जबलपुर

Published: June 07, 2022 10:29:31 am

जबलपुर। दक्षिण पूर्व मध्य रेल के अंतर्गत सतपुड़ा नैरोगेज (जबलपुर-बालाघाट और मंडला-छिंदवाड़ा) को ब्रॉडगेज में बदलने का काम पूरा हो चुका है, लेकिन नई रेल लाइन पर तेजी से ट्रेनें चलने का इंतजार खत्म नहीं हुआ। इस परियोजना से महाकोशल के पांच जिले जुड़े हैं। इन जिलों (मंडला, बालाघाट, सिवनी, छिंदवाड़ा) की जबलपुर तक बेहतर रेल कनेक्टिवटी की उम्मीद थी। लेकिन, यहां उतनी ट्रेनें भी नहीं चलीं, जितनी नैरोगेज के समय यहां चलती थीं।

train
train

सतपुड़ा नैरोगेज को ब्रॉडगेज बनाने का काम पूरा, ट्रेनों के चलने का इंतजार खत्म नहीं हुआ
जितनी ट्रेनें नैरोगेज के समय चलती थीं, अब ब्रॉडगेज के बाद उतनी भी नहीं चलीं

09 के लगभग ट्रेन नैरोगेज ट्रैक पर संचालित थीं
05 ट्रेन ब्रॉडगेज बनने के बाद इस ट्रैक पर चल रही हैं
03 ट्रेन ही इसमें नियमित बाकी दोनों साप्ताहिक हैं

ELECTRIC TRAINS के संचालन के लिए 2864 किमी रेलखण्ड तैयार, कहां, पढि़ए पूरी खबर

वर्ष 2015 में गेज कन्वर्जन के लिए छिंदवाड़ा -सिवनी-नैनपुर-मंडला रेलमार्ग में नैरोगेज ट्रेन का संचालन बंद कर दिया गया था। इससे छिंदवाड़ा और सिवनी का जबलपुर के साथ रेलसम्पर्क भी टूट गया। लगभग 13 सौ करोड़ रुपए की लागत से इस ट्रैक को ब्रॉडगेज में बदलने का काम 13 मार्च, 2022 को पूरा हो चुका है। फिर भी ट्रेन अभी तक प्रारम्भ नहीं की गई हैं।

यहां भी नहीं मिला फायदा
दपूमरे के सतपुड़ा ब्रॉडगेज में अधिकारी मालगाड़ी चलाने को प्राथमिकता दे रहे हैं। इसका खामियाजा यात्रियों को भुगतना पड़ रहा है। दपूमरे रेल बालाघाट से नैनपुर तक एक पैसेंजर ट्रेन ही चला रहा है। पमरे की दो पैसेंजर और एक एक्सप्रेस ट्रेन चल रही है, लेकिन एक्सप्रेस ट्रेन साप्ताहिक है। पमरे की पैसेंजर ट्रेन नैनपुर में ब्रेक लेती है। इसके कारण जबलपुर से मंडला-बालाघाट तक रोजाना सीधी रेल सेवा अभी तक नहीं है।


50 से ज्यादा हॉल्ट, यात्री परेशानी
जबलपुर से नैनपुर होकर बालाघाट, मंडला और सिवनी-छिंदवाड़ा के बीच 50 से ज्यादा रेलवे स्टेशन/पैसेंजर हॉल्ट हैं। लम्बे समय से जबलपुर के नियमित ट्रेन सेवा उपलब्ध नहीं होने से लोग परेशान हैं। शिक्षा, रोजगार, कारोबार, चिकित्सा एवं शासकीय कामकाज के लिए लोगों को जबलपुर तक आना-जाना रहता है। ट्रेन सुविधा के अभाव में इन जिलों का विकास भी प्रभावित हो रहा है।

जबलपुर-गोंदिया ब्रॉडगेज बन चुका है। मंडला-नैनपुर-छिंदवाड़ा भी तैयार है। अब देर नहीं होनी चाहिए। मंडला, गोंदिया, छिंदवाड़ा तक सीधी ट्रेन हर दिन चलनी चाहिए। ये रेलमार्ग आदिवासी बाहुल्य जिलों को जोड़ता है। वहां के विकास के लिए ज्यादा से ज्यादा ट्रेनें इस मार्ग से होकर रेलवे संचालित करें।
- डॉ. सुनील मिश्रा, सदस्य, मंडल रेल उपयोगकर्ता सलाहकार समिति

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मीन राशि में वक्री होंगे गुरु, इन राशियों पर धन वर्षा होने के रहेंगे आसारइन राशियों के लोग काफी जल्दी बनते हैं धनवान, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानभाग्यवान होती हैं इन नाम की लड़कियां, मां लक्ष्मी रहती हैं इन पर मेहरबानऊंची किस्मत वाली होती हैं इन बर्थ डेट वाली लड़कियां, करियर में खूब पाती हैं सफलताधन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीपनीर, चिकन और मटन से भी महंगी बिक रही प्रोटीन से भरपूर ये सब्जी, बढ़ाती है इम्यूनिटीweather update news..मौसम की भविष्यवाणी सटीक, कई जिलों में तूफानी हवा के साथ झमाझमस्कूल में 15 साल के लड़के से बनाए अननेचुरल संबंध, वीडियो भी बनाया

बड़ी खबरें

Maharashtra: ईडी ने शिवसेना नेता संजय राउत को फिर भेजा समन, जमीन घोटाले के मामले में 1 जुलाई को पेश होने के लिए कहाMaharashtra Political Crisis: अब महाराष्ट्र के NCP-कांग्रेस विधायकों पर बीजेपी की नजर! सांसद नासिर हुसैन ने किया बड़ा दावाहाईकोर्ट ने ब्यूरोक्रैसी को दिखाया आईना, कहा- नहीं आता जांच करना, सरकार को भी कठघरे में किया खड़ाIMD Rain Alert: एक हफ्ते तक बिहार, झारखंड, ओडिशा, पश्चिम बंगाल में भारी बारिश का पूर्वानुमानMukesh Ambani ने जियो के डायरेक्टर पद से दिया इस्तीफा, आकाश अंबानी बने चेयरमैनपीएम मोदी ने जापान के प्रधानमंत्री को तोहफे में दिए खास बर्तन, जानिए जी-7 के दूसरे दोस्तों को क्या किया गिफ्ट?Maharashtra Political Crisis: शिवसेना के दावे को एकनाथ शिंदे ने नकारा, बोले-अगर आपके संपर्क में विधायक हैं तो उनके नाम का करें खुलासाMaharashtra Political Crisis: महाराष्ट्र में नई सरकार की कवायद हुई तेज, दिल्ली में आज देवेंद्र फडणवीस और एकनाथ शिंदे के बीच हो सकती है मुलाकात
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.