देवरानी का प्रेमी आता था घर रंगरेलियां मनाने, जेठानी ने देखा तो कर दी बेटी समेत हत्या

बरेला में दोहरे हत्याकांड का खुलासा : तीन आरोपी गिरफ्तार, एक फरार
प्रेमी व दो अन्य के साथ मिलकर की थी जेठानी और उसकी बेटी की हत्या

By: Lalit kostha

Updated: 06 Oct 2021, 09:51 AM IST

जबलपुर। महिला ने प्रेमी और दो अन्य के साथ मिलकर अपनी जेठानी और उसकी 20 वर्षीय बेटी की हत्या की। अगले दिन घर से पांच किमी दूर चार फीट गहरे गड्ढे में लाशों को दफना दिया। गुनाह छिपाने के लिए महिला, उसका प्रेमी व दो अन्य आरोपी सामान्य रूप से रहने लगे। गुम इंसान दर्ज होने के बाद पुलिस ने जांच शुरू की, तो मंगलवार को सनसनीखेज हत्याकांड का खुलासा हुआ। तीन आरोपियों की निशानदेही पर पुलिस ने दोनों लाशें, वारदात में प्रयुक्त बाइक, चादर समेत अन्य साक्ष्य एकत्र किए। हत्या के एक आरोपी की तलाश की जा रही है। नाराज ग्रामीणों ने मंगलवार को सडक़ पर प्रदर्शन किया।

यह है मामला
बरेला के वार्ड-15 निवासी बबली झारिया (40) आंगनबाड़ी सहायिका थी। उसके पति नरेश झारिया की 20 साल पहले मौत हो चुकी है। वह बेटी निशा झारिया (20) के साथ रहती थी। निशा स्नातक की पढ़ाई कर रही थी। बबली और निशा 27 सितंबर को संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गईं। इसकी जानकरी मिलने पर बबली का भाई टेमरभीटा निवासी आशीष झारिया 30 सितंबर को थाने पहुंचा। पुलिस ने उसकी रिपोर्ट पर बबली और निशा की गुमशुदगी दर्ज की।

 

murder.jpg

आशीष व ग्रामीणों ने बबली की देवरानी मालती पर संदेह जाहिर किया। पुलिस टीम ने जांच शुरू की, तो पता चला कि मालती का चार साल से ग्राम काशी महगवां निवासी संजू श्रीपाल से प्रेम सम्बंध था। बबली और निशा ने संजू और मालती को आपत्तिजनक हालत में देख लिया था। बबली ने यह बात परिजन समेत आस-पड़ोस के लोगों को बताई। इससे नाराज मालती और संजू ने बबली की हत्या की साजिश रची। हत्या करने के लिए संजू श्रीपाल ने दोस्त बिलहरी निवासी देवा ठाकुर और कोसमघाट निवासी राजा कोल को भी शामिल किया। 27 सितंबर की रात जब बबली और निशा सो रही थी, तभी संजू, मालती, देवा और राजा उनके कमरे में पहुंचे। चारों ने गला दबाकर बबली और निशा की हत्या की। लाशों को चादर में लपेटकर बाइक से पांच किमी दूर काशी महगवां गांव स्थित नहर के पास ले गए और झाडिय़ों में छिपाकर घर चले गए।

गड्ढे में दफनाया शव
आरोपी 28 सितंबर को नहर के पास पहुंचे। चार फीट गहरा गड्ढा कर दोनों लाशों को दफना दिया। बबली और निशा के लापता होने की बात गांव में फैली, तो मालती ने ऐसा दर्शाया कि उसे कुछ पता नहीं है। मंगलवार को पुलिस आरोपियों को लेकर नहर के पास पहुंची। बबीता और निशा का शव निकलवाया। पोस्टमार्टम के लिए मेडिकल भिजवाया।

 

Murders in Chennai
IMAGE CREDIT: Suspect on Character

45 हजार रुपए दी सुपारी
पुलिस जांच में पता चला कि मालती ने जेठानी बबली और उसकी बेटी निशा की हत्या के लिए संजू के जरिए राजा और देवा को 45 हजार रुपए की सुपारी दी थी। ससुराल वालों को हत्याकांड की भनक न लगे, इसलिए मालती ने ससुर पंचम को 27 सितंबर की रात नींद की गोली खिलाकर सुला दिया था। पुुलिस के अनुसार निशा का विवाह टेमरभीटा निवासी संदीप झारिया से तय हुआ था। संदीप और निशा के बीच आखिरी बार 27 सितंबर की रात बातचीत हुई थी। 28 को निशा का फोन बंद मिला, तो संदीप उसके घर पहुंचा था। लेकिन, मालती ने रिश्तेदारी में जाने की बात कहकर संदीप को चलता कर दिया था।

प्रेम प्रसंग का राज न खुले, इसलिए मालती झारिया ने प्रेमी संजू व उसके दोस्त देवा और राजा के साथ मिलकर बबली और उसकी बेटी निशा की हत्या की। मालती, संजू और राजा को गिरफ्तार कर लिया है। हत्या करने, साक्ष्य छिपाने समेत अन्य धाराओं के तहत केस दर्ज किया गया।
- सिद्धार्थ बहुगुणा, एसपी

Show More
Lalit kostha Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned