कोरोना पॉजिटिव मरीज मिलने के बाद इस अस्पताल को बनाया गया कंटेन्मेंट जोन, हॉस्पिटल में फंसे मरीज हो रहे घर जाने को उतावले

फंसे हुए स्टाफ, मरीज व परिजन का सैंपल निगेटिव आने के बाद उन्हें या तो घर भेजा या फिर क्वारेंटाइन सेंटर भ्भेजा जाएगा, राशन का म्जिम्मा प्रशासन ने उठाया है।

By: Badal Dewangan

Published: 04 Jun 2020, 03:49 PM IST

जगदलपुर. अघनपुर स्थित एमपीएम हॉस्पिटल को जिला प्रशासन ने कंटेंन्मेंट जोन घोषित कर सील कर दिया है। ऐसे में यहां से न तो कोई बाहर जा पा रहा है और न कोई अंदर आ पा रहा है। दरअसल यहां से रेफर हुई एक युवती कोरोना से संक्रमित पाई गई, इसके बाद एहतियात बरतते प्रशासन ने दो दिन पहले इस अस्पताल को सील कर दिया है। ऐसे में यहां पर फंसे मरीज और उनके परिजन बुधवार को घर जाने के लिए जमकर विरोध किया। लोगों के विरोध को देखते हुऐ जिला प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और लोगों का समझाइश दिए। इसके बाद वे शांत हुए।

एमपीएम हॉस्पिटल में 55 मरीज और करीब 100 स्टाफ फंसे हुए हैं। वहीं मरीजों के साथ उनके परिजन भी हॉस्पिटल के अंदर हैं। इस तरह से करीब 165 लोग अभी वहां पर फंसे हुए है। मंगलवार को एमपीएम हॉस्पिटल से करीब 60 लोगों का सैंपल लिया गया था। वहीं मरीजों के हंगामें के बाद बुधवार देर शाम तक बचे हुए अन्य लोगों का भी सैंपल लिया गया। सैंपल लेने के बाद जांच के लिए मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। गौरतलब है कि यहां पर फंसे हुए स्टाफ, मरीज व परिजन का सैंपल निगेटिव आने के बाद उन्हें घर भेजा जाएगा या फिर क्वारेंटाइन सेंटर। इस मामले को लेकर अब तक जिला प्रशासन ने कोई स्पष्ट आदेश जारी नहीं किया है।

डिस्चार्ज के बाद भी घर नहीं जा पाए मरीज
एमपीएम हॉस्पिटल जिन मरीजों को इलाज के बाद डिस्चार्ज दे दिया गया है वे भी अपने घर नहीं जा पाए। दरअसल कंटेंन्मेंट जोन घोषित होने के बाद मरीज और उनके परिजन यहीं पर फंसे हुए है। एमपीएम हॉस्पिटल प्रबंधन से मिली जानकारी के अनुसार करीब चार से पांच मरीजों को डिस्चार्ज दिया गया है जो अभी यहां पर फंसे हुए हैं। इनके लिए जिला प्रशासन ने भोजन की व्यवस्था की है।

सैंपल लेकर मेडिकल कॉलेज भेजा गया
कंटेंन्मेंट जोन एमपीएम हॉस्पिटल में करीब 165 लोग हैं। वहीं कुछ लोग घर जाने की मांग कर रहे थे। वहीं समझाइश के बाद लोग अभी यहीं रहने के लिए मान गए हैं। वहीं आरटीपीसीआर जांच के लिए लोगों का सैंपल लेकर मेडिकल कॉलेज भेजा गया है। जिसका कल तक जांच रिपोर्ट आ पाएगा। इसके बाद ही आगे कुछ फैसला लिया जाएगा कि इन्हें छोड़ा जाना है या फिर क्वारेंटाइन करना है।
जीएस मरकाम, डिप्टी कलेक्टर

Corona virus corona virus in india
Show More
Badal Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned