सबके हाथों में होता है ये हुनर, दोनों हाथ नहीं है तो पैरों से किया वो जो आम लोग हाथों से करते है

सरस्वती शिशु मंदिर की छात्रा भावना साहू ने चित्रकला प्रतियोगिता में हाथों से दिव्यांग होने के कारण पैर के माध्यम से चित्र बनाकर अद्भुत मिशाल पेश की।

By: ajay shrivastav

Published: 09 Dec 2017, 05:35 PM IST

फरसगांव. हाथ नहीं थे तो पांव से ही चित्रकारी का अद्भुत नजारा गुरूवार को अन्तरराष्ट्रीय दिव्यागंजन दिवस पर शिक्षा विभाग की ओर से आदर्श विद्यालय प्रांगण में जिला स्तरीय खेलकूद व सांस्कृतिक प्रतियोगिता में देखने को मिली। सरस्वती शिशु मंदिर की छात्रा भावना साहू ने चित्रकला प्रतियोगिता में हाथों से दिव्यांग होने के कारण पैर के माध्यम से चित्र बनाकर अद्भुत मिशाल पेश की।

यहीं नहीं अन्य बच्चों ने भी अपनी कला का बेहतर नमूना यहां पेश किया। कार्यक्रम में जिला पंचायत अध्यक्ष देवचंद मातलाम, उपाध्यक्ष रवि घोष, लघु वनोपज समिति के अध्यक्ष झाड़ी राम सलाम, पूर्व नगर पंचायत अध्यक्ष गणेश दुग्गा, डीईओ राजेश मिश्रा व समस्त अधिकारी कर्मचारीयों की उपस्थिति मे मां सरस्वती के छायाचित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्जवलित कर प्रतियोगिता की शुरुआत की गई। इसके बाद अतिथियों के सम्मुख स्काउट गाइड के बच्चों ने आकर्षक मार्च पास्ट कर अतिथियों को सलामी दी।

जिला शिक्षा समिति के अध्यक्ष रवि घोष ने बच्चों का हौसला बढ़ाते हुए कहा कि पढ़ाई के साथ साथ खेलकुद भी अतिआवश्यक है। दिव्यांग बच्चों को हौसले की उड़ान भरकर अपने लक्ष्य प्राप्त करने को प्रेरित किया। उपस्थित जनप्रतिनिधि व अधिकारीयों ने दिव्यांग बच्चों को खेलकुद में आगे बढऩे के लिए प्रेरित किया।

जिले के पांच विकासखण्ड से आए सर्व शिक्षा अभियान के 137 छात्र छात्राएं व राजीव गांधी शिक्षा मिशन के 91 बच्चे समेत 228 दिव्यांग बच्चों ने दौड़, जलेबी दौड़, मटका फोड़, कुर्सी दौड़, गोला फेंक, रंग पहचान, चित्रकला, थ्रो बाल जैसे खेलों में अपना जौहर दिखाया। खेल के अंत में छात्र छात्राओं ने रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया। इसमें बच्चों ने आकर्षक वेशभूषा में नृत्य व गीत प्रस्तुत किया। प्रतियोगिता के समापन मे रवि घोष फरसगांव नगर पंचायत अध्यक्ष राज मरकाम ने विजेताओं को पुरस्कार वितरण किया।

सम्मान नहीं मिला जनप्रतिनिधि हुए नाराज
कार्यक्रम को लेकर स्थानीय जनप्रतिनिधिओं में नाराजगी देखने को मिली। उनका कहना था कि जिला स्तरीय प्रतियोगिता में जनपद उपाध्यक्ष व विकास खण्ड शिक्षा समिति के अध्यक्ष व पांच ब्लाक के अध्यक्ष, उपाध्यक्षों का सम्मान नहीं किया गया। इसके चलते अन्य जनप्रतिनिधि मंच पर ना जाकर मैदान में बच्चों का हौसला बढ़ाते नजर आए।

ajay shrivastav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned