scriptIn Mission 2023, 80 percent of railway doubling work has been complete | मिशन 2023 में रेलवे दोहरीकरण का काम 80 प्रतिशत हुआ है पूरा | Patrika News

मिशन 2023 में रेलवे दोहरीकरण का काम 80 प्रतिशत हुआ है पूरा

आवागमन: सुविधा मिली तो रेलों की संख्या के साथ सुविधा भी बढ़ेगी, प्रोजेक्ट को मंजूरी वर्ष 2011-12 के बजट में मिला था। इसे वर्ष 2014 तक पूरा हो जाना था, नक्सलियों की दहशत ने रोक रखा है बाकी काम, पहले ही सात साल देर हो चुकी है प्रोजेक्ट

जगदलपुर

Updated: July 20, 2022 08:31:08 pm

जगदलपुर . किरंदुल- कोत्तावालसा रेललाइन दोहरीकरण परियोजना पर काम अब तेजी से चल रहा है। इसके अंतर्गत अब तक ओडिशा के जैपुर से दंतेवाड़ा के किरंदुल तक 220 किलोमीटर के हिस्से में से करीब 180 किलोमीटर लाइन का दोहरीकरण कार्य पूरा हो चुका है। अब जो 40 किमी की लाइन है वह सबसे चुनौतीपूर्ण है। यहां नक्सलियों की मौजूदगी और लगातार हिसंक हरकतो की वजह से यहां काम कछुएं की गति से आगे बढ़ रहा है। लौह अयस्क का परिवहन बढ़ जाएगा। जिससे रेलवे को बड़ा फायदा हो सकता है, रेलवे का कहना है कि यहां का 80 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है। अब विभाग मिशन 2023 को लेकर काम कर रहे हैं। इसे पूरी तरह से तय समय सीमा तक पूरा कर लिया जाएगा। 1859 करोड़ से अधिक की राशी इसके लिए रेल मंत्रालय द्वारा पहले ही स्वीकृत कर दी गई है। गौरतलब है कि इस प्रोजेक्ट को मंजूरी वर्ष 2011-12 के बजट में मिला था। इसे वर्ष 2014 तक पूरा हो जाना था लेकिन अब तक इसका काम पूरा नहीं हुआ है। वहीं इसके बाद दूसरे चरण का काम शुरू होग।
पिछले साल उच्च अधिकारी निरीक्षण कर दिखा चुके है हरी झंडी
पिछले साल उच्च अधिकारी निरीक्षण कर दिखा चुके है हरी झंडी
पिछले साल उच्च अधिकारी निरीक्षण कर दिखा चुके है हरी झंडी

पिछले साल जून माह में कमिश्नर आफ रेलवे सेफ्टी (सीआरएस) साउथ इस्टर्न जोन कोलकाता एस मित्रा के नेतृत्व में प्रबंधक वाल्टेयर रेलमंडल (डीआरएम) चेतन कुमार श्रीवास्तव और इस्ट कोस्ट रेल जोन भुवनेश्वर और वाल्टेयर से पहुंचे 50 से अधिक उच्चाधिकारियों की टीम ने नई लाइन का सघन निरीक्षण किया था। 7 घंटे तक चली इस जांच में सबसे पहले अधिकारियों ने पैदल और फिर ट्राली में बैठकर निरीक्षण किया और इसके बाद अंतिम चरण में स्पेशल ट्रेन दौड़ाई गई थी। निरीक्षण में सब कुछ सही पाया गया था। अब इस लाइन पर सिफ ट्रेन दौड़ानी बाकी है।
दोहरीकरण से बस्तर और रेलवे दोनों को होंगे फायदे

रेलवे दोहरीकरण का काम पूरा होने से न केवल बस्तरवासियों को फायदा मिलेगा बल्कि रेलवे को भी इसका बड़ा फायदा होगा। बस्तरवासियों के नजरिए से देंखे तो अधिक ट्रेनों का संचलान आसान होगा। सभी यात्री ट्रेने किरंदूल तक चल सकेंगी, जो अब तक जगदलपुर में आकर रूक जाती हैं। इतना ही नहीं भविष्य में बस्तर में ट्रेनों की सुविधा मिलने की भी संभावना बढ़ जाएगी। वहीं रेलवे के नजरिए से यहां से लौह इस्पात का परिवहन बढ़ जाएगा। जिससे रेलवे को बड़ा फायदा हो सकता है। यही वजह है कि रेलवे भी तेजी से काम करने की कोशिश करते हुए 2023 में इसे पूरा कर लेने यानी पहले चरण को पूरा कर लेने का दावा कर रहा है।
दरअसल किरंदुल-कोत्तावालसा रेललाइन दोहरीकरण परियोजना पर काम चल रहा है। इसके अंतर्गत अब तक ओडिशा के जैपुर से दंतेवाड़ा के किरंदुल तक 220 किलोमीटर के हिस्से में से करीब 190 किलोमीटर लाइन का दोहरीकरण कार्य पूरा हो चुका है। जिसमें जयपुर से जगदलपुर 70 किमी तक का कार्य पूरा हो चुका है। वहीं दूसरे उपचरण का काम जगदलपुर से सिलकजोड़ी और वहां तक 45 किमी की रेल लाइन भी बिछ चुुकी है। इसी तरह जैपुर से कोरापुट और गीदम से टाकपाल तक की 11 किमी की रेल लाइन बिछ चुकी है।
70 किमी की स्पीड का ट्रायल भी पूरा

गौरतलब है कि इन पूरी लाइन में जितनी भी जगह का काम पूरा हो चुका है। खासकर जगदलपुर से जैपुर तक तैयार दोहरीकरण की लाइन में ट्रेनों की आवाजाही जारी है। दोहरीकरण में बिछाई गई पटरियों का उपयोग ट्रेने करीब ढाई साल से कर रही है। वहीं पिछले साल जून माह में निरीक्षण के अंतिम चरण में गीदम-डाकपाल के बीच कमिश्नर आफ रेलवे सेफ्टी की स्पेशल ट्रेन ने दो से तीन फेरे लगाए। शुरूआत में ट्रेन ने गीदम से डाकपाल के बीच धीमी गति से दूरी तय की। इसके बाद अगले फेरे में गति बढाते हुए 60 से 70 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से ट्रेन दौड़ाई जा चुकी है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

NSA अजीत डोभाल की सुरक्षा में चूक को लेकर केंद्र का बड़ा एक्शन, हटाए गए 3 कमांडो'रूसी तेल खरीदकर हमारा खून खरीद रहा है भारत', यूक्रेन के विदेश मंत्री Dmytro KulebaNagpur Crime: डिप्टी सीएम देवेंद्र फडणवीस के घर के बाहर मजदूर ने किया सुसाइड, मचा हड़कंपरोहिंग्या शरणार्थियों को फ्लैट देने की खबर है झूठी, गृह मंत्रालय ने कहा- केंद्र ने ऐसा कोई आदेश नहीं दियालालू यादव ने बताया 2024 का प्लान, बोले- तानाशाह सरकार को हटाना हमारा मकसद, सुशील मोदी को बताया झूठाPunjab Bomb Scare: अमृतसर में SI की गाड़ी में बम लगाने वाले दो आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार, कनाडा भागने की फिराक में थेगुजरात चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, वरिष्ठ नेता नरेश रावल और राजू परमार ने थामी भाजपा की कमानशाबाश भावना: यूरोप की सबसे बड़ी चोटी भी नहीं डिगा पाई मध्यप्रदेश की बेटी का हौसला
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.