scriptInvention of slingshot-bow with indigenous technology | देशी तकनीक से गुलेल-धनुष का इजाद | Patrika News

देशी तकनीक से गुलेल-धनुष का इजाद

हुनरमंद: देशी हथियार से सटीक निशाना साधने में मिलेगी मदद.. लकड़ी को बंदूक का स्वरूप देंकर बनाया गया पारम्परिक हथियार.. एक ही हथियार गुलेल एवं धनुष का करेगा काम

जगदलपुर

Published: March 21, 2022 12:39:00 am

नारायणपुर। अबुझमाड़ की बदलती परिस्थिति के कारण आदिवासी ग्रामीणों को पारम्परिक हथियार से जंगल मे शिकार करना अघोषित रूप से प्रतिबंधित कर दिया गया है। इससे अबुझमाड़ के आदिवासी ग्रामीणो को जंगल मे शिकार करते समय हथियार के अभाव में कई तरह की परेशानियों का सामना करने के लिए मजबूर होना पड़ता है। इस समस्या को संज्ञान में लेकर अबुझमाड़ के ग्रामीण न3 देशी तकनीक के सहारे पारम्परिक हथियार का इजात किया गया है। इस एक हथियार के सहारे आदिवासी ग्रामीण 2 तरह से निशान साध पाएंगे। इसमें देशी तरीके से लकड़ी को भरमार बंदूक का स्वरूप दिया गया है। इसमें लकड़ी से बनाए गए भरमार बंदूक के स्ट्रीगर से जानवर पर तीर से वार किया जा सकता है। इसके साथ ही इसी बंदूक के स्ट्रीगर से गुलेल की गोटी से भी जानवर को निशाना बनाने में सक्षम है। इस तरह देशी तकनीक से बनाया गया लकड़ी का भरमार बंदूक जानवरों को सटीक निशाना साधने के लिए कारगर रूप से नजर आ रहा है। इस तरह अबुझमाड़ के ग्रामीणो ने देशी जुगाड़ से जानवरो के शिकार के लिए आधुनिक हथियार का इजात किया है। इस देशी आधुनिक हथियार की इन दिनों अबुझमाड़ में काफी प्रशंसा हो रही है। जानकारी के अनुसार अबुझमाड़ अपनी संस्कृति, सभ्यता एवं सौंदयता को लेकर देश- विदेश में चर्चित है। इससे अबुझमाड़ में निवासरत आदिवासी आज भी अपनी संस्कृति, सभ्यता, रीति-रिवाज एव परम्पराओं का निर्वहन करते आ रहे है। इससे अबुझमाड़ की परंपराओं में जंगल में जाकर शिकार करना शामिल है। इससे अबुझमाड़ के ग्रामीण जंगली जानवरों का शिकार करते समय अपने पारम्परिक हथियार का इस्तेमाल करते है। इसमें भरमार बंदूक, गुलेल, टंगिया, तीर-धनुष्य शामिल है। इन्ही पारम्परिक हथियारों के सहारे अबुझमाड़ के आदिवासी ग्रामीण जंगली जानवरों का शिकार कर
अपने त्यौहार मनाते है। लेकिन बदलती परिस्थितियों के कारण अबुझमाड़ में पारम्परिक हथियार का उपयोग करना आदिवासी ग्रामीणों के लिए जोखिम भरा साबित होते जा रहा है। इससे अबुझमाड़ में जंगली जानवरों के शिकार करने के लिए उपयोग में आने वाले पारम्परिक हथियार भरमार बंदूक पर अघोषित रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है। इससे अबुझमाड़ के ग्रामीण जंगल में जानवरो का शिकार करने के लिए धनुष्य एवं गुलेल का खास कर उपयोग करते है। लेकिन इन पारम्परिक हथियारों से जानवरो का सटीक निशाना साधने के लिए मदद नहीं मिल पाती है। इससे अबुझमाड़ के आदिवासी ग्रामीणों को शिकार किए बिना ही कई बार जंगल से बैरंग लौटने के लिए मजबूर होना पड़ता है। इससे भरमार बंदूक के इस्तेमाल पर रोक एवं जानवरों पर सटीक निशाना साधने के लिए अबुझमाड़ के ग्रामीणों ने देशी तकनीक के सहारे पारम्परिक हथियार को नया स्वरूप दिया है। इसमें लकड़ी में देशी रूप से कारगिरी करते हुए भरमार जैसे हूबहू लकड़ी की बंदूक बनाई है। इस लकड़ीनुमा बंदूक से गुलेल की गोटी के साथ ही तीर से जानवर पर सटीक निशाना साधा जा सकता है। इस बंदूक में बनाए गए देशी स्ट्रीगर के दबाते ही गुलेल की गोटी या फिर तीर जानवर को मार गिराने में सक्षम है। इसके साथ ही इस लकड़ीनुमा बंदूक से जानवरो पर आसानी से निशाना साधा जा सकता है। इससे अबुझमाड़ के ग्रामीणों द्वारा देशी तकनीक से बनाए गए लकड़ीनुमा भरमार बंदूक से जंगल शिकार करना आसान हो जाएगा। इससे अबुझमाड़ में देशी तकनीक से बनाए गए इस आधुनिक हथियार की इन दिनों भूरी-भूरी प्रशंसा हो रही है। इस बंदूक को देखकर हर कोई इससे एक बार इससे निशाना साधने का प्रयास करने में पीछे नही हटता है।
लकड़ी को बंदूक का स्वरूप देंकर बनाया गया पारम्परिक हथियार
लकड़ी को बंदूक का स्वरूप देंकर बनाया गया पारम्परिक हथियार

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

यहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतियूपी में घर बनवाना हुआ आसान, सस्ती हुई सीमेंट, स्टील के दाम भी धड़ामName Astrology: पिता के लिए भाग्यशाली होती हैं इन नाम की लड़कियां, कहलाती हैं 'पापा की परी'इन 4 राशियों के लड़के अपनी लाइफ पार्टनर को रखते हैं बेहद खुश, Best Husband होते हैं साबितजून में इन 4 राशि वालों के करियर को मिलेगी नई दिशा, प्रमोशन और तरक्की के जबरदस्त आसारमस्तमौला होते हैं इन 4 बर्थ डेट वाले लोग, खुलकर जीते हैं अपनी जिंदगी, धन की नहीं होती कमी1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्ससंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजर

बड़ी खबरें

'तुम्हारे कदम से मेरी आँखों में आँसू आ गए', सिंगला के खिलाफ भगवंत मान के एक्शन पर बोले केजरीवालसमलैंगिकता पर बोले CM नीतीश कुमार- 'लड़का-लड़का शादी कर लेंगे तो कोई पैदा कैसे होगा'SSC घोटाले के बाद अब बंगाल में नर्सों की नियुक्ति में धांधली, विरोध प्रदर्शन के बीच पुलिस और स्टूडेंट्स में हुई झड़पसचिन दिल्ली से जयपुर की फ्लाइट में बैठे और पहुंच गए अहमदाबाद, ऐसे हुआ गड़बड़झालाअमित शाह और IAS पूजा सिंहल की फोटो शेयर करने वाले फिल्ममेकर को कोर्ट से नहीं मिली राहतविधानसभा में बहस, Yogi ने अखिलेश को दिया जवाब '...लड़के हैं गलती हो जाती है'अखिलेश ने तय किया राज्यसभा के उम्मीदवारों का नाम, जल्द करेंगे नामांकनHoney Trap: पाकिस्तानी सेना का लव जेहाद, भारतीय जवानों के लिए बना फांस
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.