शहर में धड़ल्ले से चल रहा है नशीली दवाओं का कारोबार

गांजा की तस्करी के बाद अब नशीली दवाओं के लिए भी जिले के कुछ नामचीन दवा व्यवसायियों ने ओडिशा में अपना नेटवर्क बना लिया है

By: अभिषेक जैन

Published: 16 Dec 2015, 07:14 PM IST

जगदलपुर. गांजा की तस्करी के बाद अब नशीली दवाओं के लिए भी जिले के कुछ नामचीन दवा व्यवसायियों ने ओडिशा में अपना नेटवर्क बना लिया है। सीमावर्ती ओडिशा में ड्रग इंस्पेक्टरों की कमी का पूरा फायदा स्थानीय लोग उठा रहे हैं। इन व्यवसायियों ने अपना स्टाक रखने के लिए अब ओडिशा के गांव में गोडाउन बना रखा है।

शहर से बीस किमी दूरी पर धनपूंजी के पास  खुला एक मेडिकल स्टोर्स इसका जीता जागता नमूना है। इस जगह पर इतनी आबादी नहीं है कि वहां दवा की दुकान खोली जाए।

इस दुकान का औचित्य सिर्फ इतना ही है कि वह जगदलपुर के कुछ व्यवसासियों को कोडिनयुक्त सीरप मुहैया करवाए। इसके अलावा अब इन मेडिकल स्टाकिस्ट ने दवाओं की बिक्री के लिए किराने के दुकानों व पान की दुकानों को भी अपने नेटवर्क में शामिल कर लिया है।

इससे उन पर ड्रग इंस्पेक्टरों के छापेमारी का डर भी खत्म हो गया है। किराने व पान की दुकानों में ग्राहकों को सीधे उनकी पसंदीदा कोडिनयुक्त दवाएं आसानी से मिल जा रही हैं। ये  मेडिकल शॉप व दुकानदार इतनी सतर्कता बरतते हैं कि ये जान- पहचान वाले ग्राहकों को ही एसी दवाएं बिना प्रिसक्रिप्शन के दे देते हैं।

Show More
अभिषेक जैन
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned