लॉक डाउन ने छीन ही लिया रोजगार, अब इस चीज पर मंडरा रहा खतरा, वो भी खत्म होने की कगार पर

बस्तर जिले के ग्रामीण क्षेत्र में इन दिनों सन्नाटा पसरा हुआ है । जिसका प्रमुख कारण कॅरोना के संक्रमण से बचने चलाये गये जागरूकता अभियान है।

By: Badal Dewangan

Updated: 11 Apr 2020, 04:33 PM IST

जगदलपुर. कॅरोना वायरस के चलते बस्तर में लॉक डाउन का व्यापक असर ग्रामीण क्षेत्रों में देखा जा रहा है। यहां के युवक- युवतियों की टोली जो सुबह होते ही काम धंधे की कओर शहरों की तरफ दौड़ पड़ते थे। वह सिलसिला अब थम गया है। ऐसे युवा जो काम धंधे में जुटे रहते थे वे अब अपने परिवार पालने व बच्चों के भविष्य की चिंता में डूबे नजर आ रहे हैं।

ग्रामीण इस महामारी से बचने सजग
बस्तर जिले के ग्रामीण क्षेत्र में इन दिनों सन्नाटा पसरा हुआ है । जिसका प्रमुख कारण कॅरोना के संक्रमण से बचने चलाये गये जागरूकता अभियान है। हालांकि ग्रामीण इस महामारी से बचने सजग हैं। बावजूद कुछ युवा ऐसे भी हैं जिन्हें अपने परिवार के भविष्य की चिंता सता रही है।

3 बच्चे और पत्नी सहित बूढे माँ-बाप के पालने की जिम्मेदारी
बागमोहलाई के युवा लखेश्वर रोज काम करने जगदलपुर आता था उसे 300 रुपये भवन निर्माण के काम मे मिलता था लेकिन एक पखवाड़े से काम बंद होने और आगे भी इसी तरह बंद जारी रहने के आशंका से परिवार पालने की चिंता में डूबा हुआ है। वहीं इच्छापुर के लेबो कश्यप भी अपने काम के बंद होने से खासे परेशान है। उनके घर मे वही कमाने वाला है जिससे उनके 3 बच्चे और पत्नी सहित बूढे माँ-बाप के पालने की जिम्मेदारी है। गाँव के अन्य स्थित की बात करें तो यहाँ लोग खाली समय अपने घरेलू कामों और टीवी देखते हुये बिता रहे हैं। वहीं कुछ लोग मछली मारने और कृषि कार्य करने में भी जुटे हैं।

Show More
Badal Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned