लाखों खर्च करने के बावजूद जिले का ये अस्पताल तालाब में हो गया है तब्दील

लाखों खर्च करने के बावजूद जिले का ये अस्पताल तालाब में हो गया है तब्दील

Amit Mukharjee | Updated: 11 Jul 2019, 11:04:56 AM (IST) Jagdalpur, Jagdalpur, Chhattisgarh, India

महारानी अस्पताल ( Maharani Hospital) का ड्रेनेज सिस्टम (Drainage system) चोक, परिसर हो रहा पानी से लबालब ,लाखों रुपए खर्च करने के बावजूद नहीं सुधरा

जगदलपुर. महारानी अस्पताल में स्वास्थ्य सुविधा के साथ ही अब ड्रेनेज सिस्टम भी ठप हो गया है। घंटेभर की झमाझम बारिश से हॉस्पिटल परिसर में घुटनो तक पानी भर जाता है। ऐसे में मरीज व परिजनों को हॉस्पिटल बिल्डिंग तक पहुंचने के लिए काफी मशक्कत करनी पड़ती हैं। हर साल बारिश में इस प्रकार की समस्या होने के बावजूद हॉस्पिटल प्रबंधन और जिला प्रशासन इस मामले पर कोई पहल नहीं कर रहा हैं, जिसका खामियाजा मरीजों को भुगतनी पड़ रही है। बुधवार रात हुई झमाझम बारिश से हॉस्पिटल के ओपीडी बिल्डिंग के सामने वाले रोड़ पर घुटने तक पानी भर गया। हॉस्पिटल के इमरजेंसी वार्ड मेें जाने के लिए यही एक रास्ता है। चार पहिया वाहनों से आने वाले मरीज असानी से हॉस्पिटल बिल्डिंग तक पहुंच गए। वहीं दो पहिया वाहन और पैदल आने वाले मरीजों को काफी परेशानी हुई। रूक-रूक कर बारिश होने की वजह से रातभर यहां पर पानी जाम रहा। जल्द ही हॉस्पिटल की ड्रेनेज सिस्टम में सुधार नहीं किया गया तो पानी भरने की वजह से कोई बड़ी समस्या हो सकती है।

Read More : 2 साल बाद परिजनों को मिल न्याय, डिलवरी के दौरान डॉक्टरों ने बच्ची को गिरा दिया था डस्टबिन में, मितानिन पर मढ़ रहे थे दोष

सफाई व्यवस्था भी चौपट
हॉस्पिटल की सफाई व्यवस्था भी चौपट हो गई है। ओपीडी से लेकर वार्डो में जगह-जगह गंदगी फैली रहती है। हॉस्पिटल में दो से तीन नियमित सफाई कर्मचारी है। साथ ही ५ से ६ जीवन दीप समिति से भी सफाई कर्मचारी रखा गया है। बावजूद सफाई व्यवस्था बदहाल है।

रात में नहीं होता मरीजों का एक्स-रे
सौ बिस्तर महारानी अस्पताल में रात में एक्स-रे भी नहीं होता है। ऐसे में इमरजेंसी केस वाले मरीजों को सीधे डिमरापाल मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया जाता है। हॉस्पिटल में एक ही मैनुअल एक्स-रे मशीन है, जो सिर्फ ओपीडी के समय चालू रहता है। स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के चलते जिला अस्पताल की स्थिति सीएचसी, पीएचसी से भी बदतर हो गई है।

Read More : प्रदेश का पहला अस्पताल जहां प्रबंधन व ठेकेदार मरीजों के पेट में डाका डाल भरते हैं अपना जेब

सप्ताहभर पहले गिर गया था आपरेशन थिएटर का प्लास्टर
हॉस्पिटल की ड्रेनेज सिस्टम चोक होने की वजह से अस्पताल परिसर के साथ ही बिल्डिंग के छत पर भी पानी भरा रहता है। इसी वजह से सप्ताहभर पहले पीपी आपरेशन थिएटर का प्लास्टर भी गिर गया। दरअसल ओटी के छत पर काफी दिनों से पानी भरा हुआ था। छत से पानी का रिसाव होने की वजह से प्लास्टर गिर गया। इससे कई दिनों तक आपरेशन करना बंद रहा।

पीडब्ल्यूडी ने शौचालय तो बनाया लेकिन ड्रेनेज सिस्टम नहीं
अस्पताल के महिला मेडिकल वार्ड में पीडब्ल्यूडी ने पांच लाख की लागत से शौचालय निर्माण तो कर दिया, लेकिन यहां पर ड्रेनेज सिस्टम ही नहीं बनाया। इस वार्ड के अलावा हॉस्पिटल के अन्य वार्डों का शौचालय भी चोक हो गया हैं। इससे मरीज व उनके परिजनों को काफी परेशानी होती हैं। हर साल मरम्मत कार्य के लिए लाखों रुपए खर्च के बावजूद यहां की ड्रेनेज सिस्टम पर कोई सुधार नहीं हो पा रहा है।

maharani hospital Jagdalpur से जुड़ी खबरें पढऩे के लिए यहां CLICK करें

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned