जिसे आठ लाख का इनामी नक्सली बताते हुए मार गिराया था, आधारकार्ड में उसकी उम्र महज 15 साल

दतेवाड़ा पुलिस के मुताबिक नक्सल उन्मूलन के तहत 21 मई 2020 को थाना गीदम के गुमलनार झिरकापार के पहाड़ी में प्लाटून नंबर 16 के कमांडर मल्लेशए डिप्टी कमांडर रिशू इस्ताम समेत 25 से 30 माओवादियों के होने की सूचना मिली थी।

By: Karunakant Chaubey

Published: 14 Jun 2020, 11:41 PM IST

जगदलपुर. दंतेवाड़ा जिले में 21 मई को इंद्रावती नदी पार करकावाड़ा में हुए मुठभेड़ पर सवाल खड़े होने लगे हैं। दरअसल पुलिस ने इस मुठभेड़ में रिशु इस्ताम को प्लाटून नंबर 16 का डिप्टी कमांडर व आठ लाख का इनामी बताते हुए मार गिराया था आधार कार्ड के हिसाब से जन्म तिथि 2005 की है यानि 15 वर्ष। अब ऐसे में महज 15 साल की उम्र में नक्सली संगठन में पहले जुडऩा इसके बाद नक्सलियों के प्लाटून के डिप्टी कमांडर के पद तक पहुंचना लगभग नामुकिन हैं। ऐसे में इस मुठभेड़ पर सवाल खड़े होने लगे। साथ ही इस पर भी सवाल है कि पुलिस जिस रिशु इत्ता को नक्सली बता रही है कहीं वह कोई और तो नहीं।

रिशु इस्ताम का परिवार मुठभेड़ के करीब 24 दिन बाद अपने इलाके से बाहर निकली उस दिन की पूरी घटना के बारे में बताया। साथ ही उन्होंने बेटे रिशु का आधार कार्ड भेजा। जिसमें उसकी जन्म तिथि 2005 हैं। बेटे को खो चुके परिवार ने बताया कि रिशु की चाची नदी पार से चावल ला रही थी। एक बार लाने के बाद जब वह वापस लौटी तो यह दोनों वहीं नदी किनारे उसका इंतजार कर रहे थे। उनके पास न तो कोई हथियार था और न ही कोई नक्सली सामान। इस बीच फोर्स ने उन पर गोली दाग दी।

यह है पुलिस की कहानी

दतेवाड़ा पुलिस के मुताबिक नक्सल उन्मूलन के तहत 21 मई 2020 को थाना गीदम के गुमलनार झिरकापार के पहाड़ी में प्लाटून नंबर 16 के कमांडर मल्लेशए डिप्टी कमांडर रिशू इस्ताम समेत 25 से 30 माओवादियों के होने की सूचना मिली थी। जिसके बाद डीआरजी की टीम वहां पहुची व कुछ देर चली मुठभेड़ में दो नक्सलियों को उन्होंने मार गिराया। इसमें रिशु इस्ताम शामिल था।

पिछले 8 साल से नक्सल संगठन से जुड़ा था इस्ताम

रिशु इस्ताम नाम का जो नक्सली मुठभेड़ में मारा गया वह प्लाटून नंबर 16 का डिप्टी कमांडर है। परिजन डेड बॉडी लेने पहुंचे थे तो उन्होंने भी इस बात को कबूल किया था। जिसको शव सौंपते हुए बयान भी दर्ज किया गया था। वह पिछले 8 साल से इलाके के कमांडर मल्लेश के साथ मिलकर काम कर रहा था। रिशु बाल संघम से संगठन से जुड़ा हुआ था। पुलिस ने जांच की थीए रिशु की उम्र 15 साल की नहीं है। उसकी उम्र करीब 24 से उपर है। जो आधार कार्ड बताया जा रहा है वह गलत हो सकता है।

-पी सुंदरराज, आईजी, बस्तर रेंज

Karunakant Chaubey Desk/Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned