हत्या सहित वसूली मामले में गिरफ्तार हुए 19 ग्रामीणों को एनआईए कोर्ट ने किया दोषमुक्त

18 माह बाद सभी हुए रिहा, 15 अगस्त 2015 में पुलिस-माओवादी मुठभेड़ के बाद सभी पर बनाया गया था मामला

By: Badal Dewangan

Published: 03 Jan 2020, 01:32 PM IST

जगदलपुर. झीरम-३ मामले में पत्रकार संतोष यादव समेत सभी १९ ग्रामीणों को एनआईए कोर्ट ने दोषमुक्त कर दिया है। गुरुवार को इससे जुड़ा फैसला सुनाया। 15 अगस्त 2015 में पुलिस-माओवादी मुठभेड़ के बाद पत्रकार यादव समेत इलाके 18 ग्रामीणों को मामले में बस्तर पुलिस ने मुख्य आरोपी बनाया था। सभी पर 29 धाराओं में मामला दर्ज किया गया था। जिसमें हत्या, माओवादियों के लिए लेवी वसूली व समान सप्लाई करने का आरोप था आरोप। सितंबर 2015 में पत्रकार संतोष यादव को दरभा से गिरफ्तार किया गया था। संतोष 17 महीने तक जेल में रहने के बाद फरवरी 2017 में सुप्रीम कोर्ट से मिली जमानत पर रिहा हुए थे। उस वक्त बस्तर के आईजी एसआरपी कल्लूरी थे।

एक ग्रामीण की जेल में ही मौत हो गई थी
संतोष की गिरफ्तारी का खूब विरोध हुआ था। मामले में एडिटर्स गिल्ड ने भी दखल दिया था और बस्तर दौरा कर एक रिपोर्ट तैयार की थी। इसमें पुलिस की कार्रवाई पर संदेह जताया गया था। संतोष के अलावा बाकी ग्रामीण २०१५ से ही जेल में थे। इनमें से १३ गुरुवार को रिहा हुए। बाकी ४ लोगों पर अन्य मामले चल रहे हैं, इसलिए जब तक उनपर फैसला नहीं होता वे जेल में ही रहेंगे। जबकि एक ग्रामीण की जेल में ही मौत हो गई थी।

जेल से इनकी रिहाई
दीपक चिरवाड़ा तोंगपाल, मगड़ू चिड़पाल, वेट्टी चुक्का बड़े गादम, बुधरा भडरी महू, सायबो कोर्राम चांदामेटा, वेट्टी हिड़मा बड़े गादम, देवा भडरी महू, अर्जुन नाग कांदानार, सोमडु मंडावी भडरी महू, कुम्मा भडरी महू, कवासी कोसा बड़े गादम, बोटी सोड़ी , वेट्टी भीमा।

जेल के बाहर फूल माला पहनाकर स्वागत
जेल से रिहाई के बाद ग्रामीणों का जगदलपुर केंद्रीय जेल के बाहर मानवाधिकार कार्यकर्ता सोनी सोरी व अन्य ने फूल माला पहनाकर स्वागत किया। रिहा ग्रामीणों का मुंह मीठा करवाकर नई जिंदगी की शुरुआत करने की शुभकामनाएं दी गईं। इस मौके पर सोनी सोरी ने कहा कि इन ग्रामीणों के दोषमुक्त होने से यह बात साबित होती है कि बस्तर में ऐसे हजारों निर्दोष ग्रामीण हैं जो फर्जी पुलिसिया कार्रवाई की वजह से जेल में हैं। अगर सरकार पहल करे तो सभी ग्रामीण वापस अपनी नई जिंदगी शुरू कर सकते हैं।

Badal Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned