पेट्रोल डीजल में हो रही बढ़ोतरी के विरोध में कांग्रेस का भारत बंद, जगदलपुर में दिख रहा व्यापक असर

पेट्रोल डीजल में हो रही बढ़ोतरी के विरोध में कांग्रेस का भारत बंद, जगदलपुर में दिख रहा व्यापक असर

Badal Dewangan | Publish: Sep, 10 2018 09:53:01 AM (IST) | Updated: Sep, 10 2018 06:14:28 PM (IST) Jagdalpur, Chhattisgarh, India

ईंधन को लेकर गरमाई राजनीति, बंद के लिए समर्थन लेने कांग्रेसियों ने पूरे शहर का किया भ्रमण, जगदलपुर में सुबह से ही बंद का दिख रहा व्यापक असर

जगदलपुर. तेल की बढ़ती कीमतों के बहाने केंद्र की मोदी सरकार पर हमला बोलने की तैयारी कांग्रेस ने कर ली है। पार्टी ने इसको लेकर सोमवार को बस्तर बंद बुलाया। बंद के लिए समर्थन लेने कांग्रेसियों ने रविवार को पूरे शहर का भ्रमण किया। इसी का नतीजा है कि, सोमवार सुबह से ही कांग्रेसियों द्वारा दुकानों व होटलों को शहर का भ्रमण कर बंद करवाया जा रहा है। शहर में बंद को समर्थन देने बड़ी बड़ी दुकानें तो बंद ही है लेकिन सुबह पान दुकानों व नाश्ता की अस्थाई ठेलों को भी कांग्रेेसी घूम-घूम कर बंद करवा रहे है।

आम आदमी की हालत पतली हो गई है
उन्होंने कहा कि देशभर में हर रोज पेट्रोल और डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है। एक ओर जहां पेट्रोल और डीजल की कीमत बढ़ रही है तो वहीं रुपये भी डॉलर के मुकाबले हर नए दिन के साथ निचले स्तर पर गिरता जा रहा है। आम आदमी की हालत पतली हो गई है।

आम जनता के हित को देखते हुए कांग्रेस एक बार फिर लड़ाई लड़ रही
वहीं सरकार की मंशा अधिक अधिक एक्साइज ड्यूटी प्राप्त कर उस पैसे से पूंजीपतियों के लिए काम करना है। यही कारण है कि आम जनता के हित को देखते हुए कांग्रेस एक बार फिर लड़ाई लडऩे जा रही है। उन्होंने कहा कि सोमवार को बंद से इस लड़ाई का आगाज होगा। इस दौरान यहां जिलाध्यक्ष राजीव शर्मा, राजमन वेंजाम, अरविंद नेताम, जतीन जायसवाल, सुशील मौर्य, सीताराम सेठिया, फिरोज खान, ओंकार सिंह जायसवाल समेत अन्य लोगा मौजूद थे।

नहीं होगी कोई हिंसा
अरूण उरांव ने कहा कि कांग्रेस ने सोमवार को बंद के दौरान कोई हिंसा नहीं होगी। उन्होंने साफ किया कि पूर्व के आयोजनों में जो हिंसा हुई है, उससे कांग्रेस का यह आंदोलन बिल्कुल अलग है। वे लोगों को राहत दिलाने के उद्येश्य से यह आंदोलन कर रहे हैं, इसलिए पार्टी ने साफ कर दिया है कि इसमें किसी भी तरह की हिंसा नहीं होगी। वहीं जरूरी सेवाओं को भी इस बंद से अलग रखा गया है। जैसे मेडिकल, शैक्षणिक संस्थान, ट्रांसपोर्ट।

पेट्रोल और डीजल पर बढ़ी एक्साइज ड्यूटी, आम आदमी का निकल रहा तेल
मोदी सरकार पर हमला बोलते हुए प्रदेश प्रभारी अरूण उरांव ने बताया कि चार साल में पेट्रोल पर 211.7 और डीजल पर 443 प्रतिशत एक्साइज ड्यूटी बढ़ी है। मई 2014 में पेट्रोल पर 9.2 रुपये एक्साइज लगता था और अब 19.48 रुपये लगता है। वहीं मई 2014 में डीजल पर 3.46 रुपये एक्साइज था, जबकि अब 15.33 रुपये लग रहा है। सरकार से मांग है करते हुए कहा कि पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में लाए। ऐसा हुआ तो कीमतें 15.18 रुपये तक कम होंगी। इससे बाकी चीजों की मंहगाई भी कम होगी। सरकार ने पिछले चार साल में एक्साइजड्यूटी से 11 लाख करोड़ रुपए कमाने की बात भी कही।


गिरता रुपया महंगा तेल मोदी जी का भाषण फेल नारे पर कांग्रेस करेगी काम
अरुण उरांव ने प्रेसवार्ता में कहा कि अब कांग्रेस पार्टी इस मुद्दे को लेकर गिरता रुपया महंगा तेल मोदी जी का भाषण फेल नारे के तहत काम करेगी और घर घर तक पहुंचाएगी। वहीं इसके बाद उरांव ने कांग्रेस भवन में कार्यकर्ताओं संग बैठक ली, और बंद व उसके बाद की रणनीति पर चर्चा की।

पेट्रोल, डीजल से लेकर डॉलर को शतक तक पहुंचाने की कोशिश कर रही सरकार
डॉलर के मुकाबले रुपये के लगातार गिरने के बहाने भी अरूण उरांव ने सरकर पर निशान साधा और कहा कि रुपया लगातार गिर रहा है। पहले रुपया 60 पर पहुंचता था तो मोदी समेत कई वर्तमान मंत्री सड़क पर उतर जाते थे, लेकिन अब की हालत पर वो चुप्पी साधे हुए हैं। आज पेट्रोल, डीजल व डॉलर मोदी सरकार की खराब नीतियों के कारण शतक के करीब पहुंच गए हैं। वहीं उन्होंने गैस की कीमत को लेकर भी कहा कि यूपीए सरकार के समय जो सिलेंडर 400 रुपए में मिलता था, उसकी कीमत भी 800 से अधिक हो गई है।

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned