सरकार की कर्जमाफी के दावों के बीच कर्ज नहीं चुकाने पर पुलिस ने दो आदिवासी किसानों को भेजा जेल

सरकार की कर्जमाफी के दावों के बीच कर्ज नहीं चुकाने पर पुलिस ने दो आदिवासी किसानों को भेजा जेल

Akanksha Agrawal | Publish: May, 15 2019 09:58:04 AM (IST) | Updated: May, 15 2019 09:58:05 AM (IST) Jagdalpur, Jagdalpur, Chhattisgarh, India

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के जगदलपुर (Jagdalpur) कोतवाली थाना क्षेत्र में पुलिस (Police) ने दो आदिवासी किसानों (Tribal Farmer) को गिरफ्तार (Arrest) कर लिया है। पुलिस (Police) ने गिरफ्तारी का कारण भारतीय स्टेट बैंक (State Bank Of India) से लिया कर्ज नहीं चुका पाना है। सरकार (Government) की कर्जमाफी (Debt Relief) के बड़े-बड़े दावों के बाद भी किसानों ने आदिवासी किसानों को जेल भेज दिया गया है।

जगदलपुर/रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कर्जमाफी (Debt Relief) के बड़े-बड़े दावों के बीच भारतीय स्टेट बैंक (State Bank Of India) से लिया कर्ज नहीं चुका पाने (Debt Relief) पर दो आदिवासी किसानों (Tribal Farmer) को जेल भेज दिया गया है। मामला बस्तर जिले (Bastar District) का है। जगदलपुर (Jagdalpur) कोतवाली थानाक्षेत्र के भाटपाल गांव के किसान सुखदेव और तुलाराम मौर्य को स्थानीय पुलिस ने शुक्रवार (Friday) को गिरफ्तार (Arrest) कर जेल भेज दिया। मंगलवार (Tuesday) को मदद की गुहार लेकर किसानों (Farmer) के परिजन कलक्ट्रेट (Collectorate) पहुंचे तो मामला सामने आया।

कोतवाली थाना प्रभारी धनंजय सिन्हा ने बताया, यह मामला पांच वर्ष से अधिक पुराना है। जगदलपुर स्टेट बैंक (State Bank Jagdalpur) की ADB Branch ने न्यायालय में किसानों के खिलाफ चेक बाउंस (Check Bounce) का मामला दायर किया था। शुक्रवार (Friday) को न्यायालय से उनके पास दोनों की गिरफ्तारी का आदेश आया था। उसके आधार पर दोनों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया गया, जहां से दोनों को जेल भेज दिया गया।

जगदलपुर (Jagdalpur) एसपी डी. श्रवण ने बताया कि मामला चेक बाउंस (Check Bounce) का था। बैंक ने न्यायालय में मुकदमा किया था। न्यायालय के आदेश पर ही कार्रवाई हुई है।

 

परिजनों ने धोखाधड़ी का आरोप लगाया : जेल गए किसानों के परिजन धोखाधड़ी का आरोप लगा रहे हैं। उनका कहना था कि गांव के ही दो लोगों ने ड्रिप इरिगेशन (Drip irrigation) के नाम पर उनसे सादे कागज पर अंगूठा लगवाया था। बाद में एक को 40 हजार और दूसरे को 60 हजार रुपए मिले। बैंक (Bank) से वसूली का नोटिस आया तो पता चला कि सुखदेव पर 4 लाख और तुलाराम पर 10 लाख रुपए का कर्ज है। सुखदेव की मां तुलाबाई ने कहा, इतनी रकम तो वे पूरा खेत बेचकर भी नहीं चुका पाएंगे।

बस्तर (Bastar) के कलक्टर अयाज तंबोली ने बताया कि इसकी जानकारी मिली है, प्रथम दृष्टया दो-तीन मामले दिख रहे हैं। संबंधित बैंक और किसानों के परिजनों से बात की जाएगी। मामले की तफ्तीश के बाद आगे की कार्यवाही होगी।

 

Chhattisgarh से जुड़ी Hindi News के अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें Facebook पर Like करें, Follow करें Twitter और Instagram पर ..

CG Lok sabha election Result 2019 से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरों, LIVE अपडेट तथा चुनाव कार्यक्रम के लिए Download करें patrika Hindi News

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned