प्राइवेट स्कूल ऑनलाइन पढ़ाई के बहाने मांग रहे फीस, प्रशासन जल्द करे कार्रवाई

प्राइवेट स्कूल ऑनलाइन पढ़ाई के नाम पर पालकों से मोटी फीस मांग रहे हैं। यह अनुचित है। सरकार को इस ओर ध्यान देने की बात भी उन्होंने कही।

By: Badal Dewangan

Updated: 06 Jun 2020, 12:03 PM IST

जगदलपुर। कोरोना संक्रमण को देखते हुए सभी सकरारी व निजी स्कूलों को 1 जुलाई तक बंद करने का आदेश सरकार ने जारी कर दिया है। ऐसे में बच्चों की पढ़ाई ऑनलाइन व अन्य माध्यमों से चल रही है। शिवसेना का आरोप है कि सरकार के फीस नहीं लेने के आदेश के बावजूद प्राइवेट स्कूल ऑनलाइन पढ़ाई के बहोने पालकों से फीस की मांग कर रहे हैं। कोरोनाकाल में लॉकडाउन की वजह से आर्थिक तंगी से जूझ रहे आम लोगों को निजी स्कूलों के द्वारा मांगी जा रही फीस भारी पड़ रही है। इसे देखते हुए शिवसेना के जिलाध्यक्ष राजेश कुडक़े व अन्य पदाधिकारी डिप्टी कलेक्टर अरविंद एक्का से मिले और उन्हें ऐसे स्कूलों पर कार्रवाई करने का सीएम के नाम ज्ञापन सौंपा।

फीस मांगने वालों पर होनी चाहिए कार्रवाई
राजेश कुडक़े ने बताया कि लॉकडाउन की वजह से हर वर्ग की हालत खराब है। वहीं संक्रमण को देखते हुए सरकार ने लगातार अच्छे फैसले लिए है। बच्चों की सुरक्षा के लिए आगे भी राज्य सरकार को जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि प्राइवेट स्कूल ऑनलाइन पढ़ाई के नाम पर पालकों से मोटी फीस मांग रहे हैं। यह अनुचित है। सरकार को इस ओर ध्यान देने की बात भी उन्होंने कही। उन्होंने कहा कि इस दौर में जो भी स्कूल इस तरह की फीस मांग रहे हैं उन पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। जिससे की पालकों को राहत मिल सके। इस दौरान यहां पद्रेश उपाध्यक्ष पप्पन सिंह भदौरिया, जिला सचिव राकेश शर्मा, विधानसभा प्रभारी निर्मलेश पानिग्राही मौजूद थे।

Show More
Badal Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned