एक तरफ नक्सली चुनाव का कर रहे बहिष्कार, दूसरी तरफ दो दिन पहले आत्मसमर्पित इनामी नक्सली ने किया मतदान

एक तरफ नक्सली चुनाव का कर रहे बहिष्कार, दूसरी तरफ दो दिन पहले आत्मसमर्पित इनामी नक्सली ने किया मतदान
एक तरफ नक्सली चुनाव का कर रहे बहिष्कार, दूसरी तरफ दो दिन पहले आत्मसमर्पित इनामी नक्सली ने किया मतदान

Badal Dewangan | Updated: 23 Sep 2019, 12:56:43 PM (IST) Jagdalpur, Jagdalpur, Chhattisgarh, India

एक तरफ नक्सली चुनाव के बहिष्कार के लिए ऐड़ी चोटी का जोर लगा रहे हैं। वहीं दूसरी ओर एक आत्मसमर्पित नक्सली ऐसा भी है।

दंतेवाड़ा. दो दिन पहले किरंदुल में आत्मसमर्पण कर चुके नक्सली ने लोकतंत्र के महापर्व में हिस्सा लिया है। अपने निर्वाचन क्षेत्र में इस नक्सली ने मतदान किया। आत्मसमर्पित नक्सली द्वारा किया गया यह काम नक्सलियों के मुंह पर करारा तमाचा है।

Read More: उपचुनाव को विफल बनाने नक्सलियों ने बनाया था ये प्लान, जवानों ने किया विफल

मिली जानकारी के मुताबिक एक ओर जहां नक्सली बैनर पोस्टर लगाकर लोकतंत्र के महापर्व चुनाव का बहिष्कार कर रहे हैं वहीं दूसरी ओर एक इनामी खूंखार नक्सली कांछा भीमा आत्मसमर्पित नक्सली का मन पूरी तरह बदल चुका है इस बात का गवाह उसके द्वारा किया गया मतदान ही है।

Read More: दंतेवाड़ा जिले में चल रहे उपचुनाव में पीठासीन अधिकारी की ड्यूटी के दौरान अचानक ऐसे हुई मौत

आपको बता दे कि, कटेकल्याण थाना क्षेत्र में ही नक्सलियों ने चुनाव को विफल बनाने एवं सुरक्षा जवानों को नुकसान पहुंचाने के लिए बीच जंगल में आईईडी लगाया था। जिसे सर्चिंग के दौरान जवानों ने बरामद कर सफलता पूर्वक नष्ट कर दिया है। जिससे खतरा टल चुका है। चुनाव संपन्न कराने गए एक पीठासीन अधिकारी चंद्र प्रकाश ठाकुर के सीने में अचानक दर्द उठा। जिसे इलाज के लिए कटेकाल्याण के स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया गया। जहां उनकी इलाज के दौरान मौत हो गई। वहीं डॉक्टरों का कहना है कि, अधिकारी की मौत हार्ट अटैक की वजह से हुई है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned