बस्तर के अबूझमाड़ से था भारत का पहला हॉलीवुड एक्टर, 10 साल की उम्र में ही खेलता था बाघ से

बस्तर के अबूझमाड़ से था भारत का पहला हॉलीवुड एक्टर, 10 साल की उम्र में ही खेलता था बाघ से

Badal Dewangan | Publish: Jun, 16 2019 11:27:54 AM (IST) Jagdalpur, Jagdalpur, Chhattisgarh, India

अबूझमाड़ में 10 साल के बच्चे को बाघ से खेलते हुए देख (Hollywood director) विलायती डायरेक्टर ने 60 साल पहले बनाई थी फिल्म

आकाश मिश्रा/जगदलपुर. पचास का दशक खत्म हो रहा था, तब स्वीडिश ऑस्कर नॉमिनेटेड (hollywood) डायरेक्टर अर्ने सक्सफोर्ड अबूझमाड़ के जंगलों के दौरे पर थे। उन्होंने वहां एक 10 साल के बच्चे को बाघ से खेलते देखा। उन्हें यह दुर्लभ दृश्य भा गया और वे वापस स्वीडन चले गए। फिर कुछ महीने बाद पूरे तामझाम के साथ लौटे और बाघ के साथ खेलते उस बच्चे पर जंगल सागा नाम की (hollywood) फिल्म बना दी। उस दस साल के बच्चे का नाम चेंदरु था। यह अबूझमाड़ पर बनी पहली फिल्म थी और चेंदरु भारत (India) से हॉलीवुड (hollywood) में पहला हीरो था। इसके बाद अबूझमाड़ पर कई डॉक्यूमेंट्री बनी पर फिल्म किसी ने नहीं बनाई। अब जंगल सागा के 60 साल बाद अबूझमाड़ में रहने वाली जनजाति की जीवनशैली पर फिल्म Movie बनकर तैयार है। फिल्म का नाम है बस्तर सागा और इसे बनाया है नारायणपुर के ही दिनेश नाग और उनके दोस्तों ने। दिनेश कई सालों से मुंबई में रहकर बॉलीवुड Bolywood में काम कर रहे हैं। उन्होंने इस विषय को अपने दोस्तों से साझा किया और सभी ने आपस में पैसे कर फिल्म का प्रोडक्शन कर दिया।

रायपुर के राज बंजारे ने लिखी फिल्म की कहानी
एफटीआई से पास आउट और रायपुर के निवासी राज बंजारे ने फिल्म के लिए कहानी लिखी है। करीब तीन महीने की शूट के बाद फिल्म तैयार हो गई। गोवा फिल्म फेस्टिवल (Film Festival) में फिल्म को दुनिया (World) की 200 वर्किंग कैटेगरी की फिल्मों में शामिल किया गया। आगे भी फिल्म को इंटरनेशनल (hollywood) फिल्म फेस्टिवल में ले जाने की तैयारी है।

 

नया रायपुर के जंगल सफारी में लंगी चेंदरु की प्रतिमा पर मुसीबत में
नया रायपुर के जंगल सफारी में चेंदरु की याद में एक प्रतिमा लगाई गई है। इसमें उसे बाघ के साथ खेलता दिखाया गया। साहसी चेंदरु के नाम पर उस दौर में लाखों की कमाई की गई, लेकिन विडंबना है कि जब चेंदरु की मौत 2013 में हुई तो वह गंभीर आर्थिक संकट से गुजर रहा था। तंगहाली के उस दौर में उसके पास इलाज कराने के लिए भी पैसे नहीं थे। उस वक्त मीडिया ने उसके हालात पर बहुत खबर बनाई पर उसे सरकार से वैसी मदद नहीं मिली, जैसे एक कलाकार को मिलनी चाहिए थी। कई समाज सेवी संस्थाओं ने उसके बुरे वक्त में मदद जरूर की थी, पर वह भी नाकाफी थी। अब चेंदरु इस दुनिया से जा चुका है लेकिन आज भी वह देश में इंडिया से पहला हॉलीवुड (hollywood) एक्टर कहलाता है।

अबूझमाड़ के लोगों ने ही फिल्म में निभाई है भूमिका
फिल्म में लीड रोल भी दिनेश ही निभा रहे हैं, दिनेश नाग बताते हैं कि फिल्म के हर सीन को जीवंत और अंतर्राष्ट्रीय सिनेमा के अनुरूप बनाने के लिए अबूझमाड़ के आदिवासियों को ही रोल दिए गए हैं। फिल्म मुरिया बोली में रिलीज की जाएगी। फेस्टिवल के लिए फिल्म को अलग.अलग भाषा में सबटाइटल्ड किया जाएगा। फिल्म में दिनेश के साथ अभिनेत्री के तौर पर महाराष्ट्रीयन सिनेमा से प्राजक्ता वाडे और बाल कलाकार के रूप में माड़ के ही व्यास देव का अभिनय देखने को मिलेगा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned