स्वास्थ्य विभाग की अनदेखी से पैर पसार रहा ये रोग, एक और मासूम चपेट में, भर्ती

अंदरूनी इलाकों में मच्छरदानियों को बांटा है लेकिन मच्छरदानियां डंप। मच्छरदानियों को बांटा नहीं गया, दो मासूमों पर पुष्टि होने के बाद भी विभाग उदासीन

By: ajay shrivastav

Published: 09 Dec 2017, 03:08 PM IST

दंतेवाड़ा. जपानी बुखार की चपेट में जिले के मासूम हैं। गदापाल में हुई मासूम की मौत के बाद बचेली के बेंगपाल गांव की सुषमा (05) को जपानी बुखार की पुष्टि हुई है। पिता भीमा उसे बुधवार को बचेली अस्पताल दिखाने लाया था। डॉक्टरों ने जांच में जपानी इंसिफेलाइटिस पाया। मासूम को तत्काल दंतेवाड़ा लाया गया। इसके बाद प्राथमिक उपचार के बाद जगदलपुर मेकॉज भेजा गया है।

इस बुखार से पीडि़त होने की पुष्टि
सूत्र बता रहे हैं मेडिकल कॉलेज में भी मासूम को इस बुखार से पीडि़त होने की पुष्टि की है। स्वास्थ्य विभाग की अनदेखी के चलते जापानी बुखार से जिले के मासूम चपेट में आ रहे हैं। इसके बाद भी विभाग कोई ठोस कदम नही उठा रहा है। एक पखवाड़े के अंदर दूसरे बच्चे को जापानी बुखार की पुष्टि होनी से प्रशासन भी परेशान है। स्वास्थ्य विभाग पर खासा नाराज है। इधर विभाग दावा कर रहा है कि टीम बना कर जांच करवाई जाएगी।

मच्छरदानियां डंप पर बांटी नहीं गई
स्वास्थ्य विभाग से जुड़े सूत्रों का कहना है कि जिले के अंदरूनी इलाकों में मच्छरदानियों को बांटा जाना है लेकिन यह मच्छरदानियां डंप है। इन मच्छरदानियों को बांटा नहीं गया है। जापानी बुखार की दो मासूमों पर पुष्टि होने के बाद भी विभाग उदासीन है। इनमें से एक ने तो दम ही तोड़ दिया है। इस मासूम की मौत के बाद ही सात गांव के सर्वे का प्लान विभाग ने बनाया है। अब बचेली क्षेत्र के लिए भी अधिकारी टीम गठन कर जांच करने की बात कह रहे हैं।

पीडि़तों के मिलने का सिलसिला जारी
गदापाल की महारानी (03) की मौत के बाद 18 सदस्यीय टीम का गठन कर विभाग अपनी पीठ थपथपा रहा है। चार दिन में दो गांव का ही सर्वे टीम कर सकी है। गदापाल का सर्वे करने के बाद बुधवार के तोएलंका में जांच करने टीम गई थी। लेकिन देर शाम तक मुख्यालय वापस नही लौटी है। सूत्र बता रहे हैं इस गांव में भी टीम को एक दर्जन से अधिक मलेरिया पीडि़त मिले हैं।

वह संदेही मरीज है
सीएमओ डॉ एचएल ठाकुर ने बताया कि, मेडिकल कॉलेज में ब्लड सैंपल भेजा है। बच्ची को भी भर्ती कराया गया है। वह संदेही मरीज है। रिपोर्ट आने के बाद ही बता पाएंगे।

ajay shrivastav
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned