90 रूपए किलो! फिर भी बस्तर में व्यापारी रोज फेंक रहे 400 किलो प्याज, जानिए क्यों

प्याज के दाम पर नियंत्रण के लिए प्रशासन स्तर पर कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है। कारोबारियों को कहना है कि बारिश के कारण प्याज की फसल खराब हो गई है।

By: Badal Dewangan

Updated: 27 Nov 2019, 01:58 PM IST

जगदलपुर. प्याज के दाम आसमान छूने लगे हैं। आमतौर पर 20 से 25 रुपए किलो में बिकने वाला प्याज बाजार में 90 रुपए किलो तक बिक रहा है। प्याज के दाम पर नियंत्रण के लिए प्रशासन स्तर पर कोई प्रयास नहीं किया जा रहा है। कारोबारियों को कहना है कि बारिश के कारण प्याज की फसल खराब हो गई है, जिसके कारण नए प्याज की आवक शुरू नहीं हुआ है। जिसका असर कीमत पर दिख रहा है। इधर चिल्हर कारोबारी इसकी कालाबाजारी से भी इंकार नहीं कर रहे हैँ।

संजय मार्केट में प्याज थोक मेंं 65-70 रुपए तक और चिल्हर में 90 रुपए प्रति किलो बिक रहे हैं। जबकि सप्ताहभर पहले चिल्हर में प्याज 60 रुपए किलो में बिक रहा था। अचानाक प्याज के दाम 30 रुपए बढ़ गए। होटल में भी सलाद की रेसीपी से प्याज गायब हो रहे हैं। सितंबर तक महाराष्ट्र के नासिक, जलगांव और आंध्रप्रदेश से नए प्याज की आवक शुरू हो जानी थी, लेकिन इन इलाके में मानसून की बारिश देर तक होने का असर प्याज की खेती पर पड़ा व फसल खराब हो गई। कारोबारियों का कहना है कि माह भर तक ऐसी स्थिति रहेगी।

4 क्विंटल प्याज हर दिन फेंक रहे
संजय मार्केट में आलू प्याज के थोक व्यापारी नागराज जैन ने बताया कि नासिक और आंध्रप्रदेश से जो प्याज आ रही है, वह अच्छे से पकी नहीं है। ऐसे में प्याज खराब हो रही है। हर दिन 4 से 5 क्विंटल प्याज फेंकना पड़ रहा है। 400 किलो की बोरी में 8 से 10 किलो प्याज खराब निकल रहा है। इससे स्टाकिस्ट नुकसान उठा रहे हैं।

10 टन की खपत रोज बस्तर संभाग में
संजय मार्केट बस्तर संभाग का सबसे बढ़ा बाजार है। ऐसे में यहां पर हर दिन करीब 10 टन प्याज की खपत होती है। शहर के सारे बड़े व्यापारी भी इस मार्केट पर ही पूरी तरह से निर्भर है।

Show More
Badal Dewangan
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned