लॉक डाउन के बीच घर पर ही महिलाओं ने की गणगौर की पूजा

16 दिनों तक महिलाएं करती हैं पूजा रखती हैं व्रत

By: Badal Dewangan

Published: 28 Mar 2020, 06:15 PM IST

जगदलपुर. लॉक डाउन के बीच शहर में गणगौर पूजा शुक्रवार को लोगों ने घरों में परिवार के साथ की। महिलाओं ने व्रत रखा। होली के दूसरे दिन से यह पर्व शुरू होता है, जिसका समापन चैत्र शुक्ल तृतीया को होता है। बस्तर जिले में भी इसे हर साल मनाया जाता है। अपने पति की लम्बी उम्र के लिए रखा जाने वाला ये पर्व और इसकी पूजा दोनों ही खास होती है। इस दिन महिलाएं 16 दिनों तक पूजी गईं गणगौरों का नदी, तालाब या सरोवर में विसर्जन करती हैं। लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण आपको घर पर ही पूजा करना पड़ा।

शहर के मारवाड़ी समाज की महिलाओं ने शुक्रवार को गणगौर की पूजा अपने घर में की। इस दिन महिलाएं नदी, सरोवर, तालाब या कुंड पर जाकर गणगौर को पानी पिलाती हैं। मगर इस बार बाहर नहीं जाने की वजह से घर के बगीचे या आंगन में ही छोटा सा कुंड बनायाए जहाँ पूजा की गई। जहां पूजा की जाती है उस स्थान को गणगौर का पीहर और जहाँ विसर्जन किया जाता है वह स्थान को ससुराल माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार माँ पार्वती ने भी अखण्ड सौभाग्य की कामना से कठोर तपस्या की थी और उसी तप के प्रताप से भगवान शिव को पाया। इस दिन भगवान शिव ने माता पार्वती को तथा पार्वती ने समस्त स्त्री जाति को सौभाग्य का वरदान दिया था। माना जाता है कि तभी से इस व्रत को करने की प्रथा आरम्भ हुई।

Corona virus corona virus in india corona virus origin
Show More
Badal Dewangan
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned