मजदूरी के लिए सीमावर्ती राज्य गए श्रमिक बिना कोरोना वायरस जांच जिले में हो रहे दाखिल

बसें बंद होने पर श्रमिक पैदल ही जा रहे अपने घर, श्रमिकों के एक समूह को देउरगांव के ग्रामीणों ने पकड़ा और पुलिस को सूचना दी

जगदलपुर. कोरोना वायरस की रोकथाम को लेकर जिला प्रशासन और पुलिस की व्यवस्था फेल नजर आ रही है। दूसरे जिले और राज्यों से आने-जाने वाले लोगों पर निगरानी रखने के लिए पुलिस द्वारा तैयार किया गया चेक पोस्ट सिर्फ शो-पीस बनकर रह गया है। दरअसल बस्तर के सीमावर्ती राज्यों में मजदूरी के लिए गए श्रमिक बिना जांच के बेधडक़ जिले में प्रवेश कर रहे हैं।

पत्रिका की टीम ने बुधवार को कोरोना को लेकर जिला प्रशासन और पुलिस की व्यवस्था का पड़ताल की। इस दौरान लोहांडीगुडा ब्लॉक देउरगांव के पास करीब ८ से १० लोग पैदल जा रहे थे। जब उनसे पूछा गया कि कहा से आ रहे हो, तो उन्होंने बताया कि मजदूरी के लिए बाहर गए थे। अब काम बंद हो गया है, तो घर वापस जा रहे हैं। बस और आटो बंद होने की वजह से पैदल जा रहे है। लोगों ने बताया के वे लोहांडीगुडा ब्लॉक के पारापुर के रहने वाले है। ग्रामीणों ने ८-१० लोगों को एक साथ देखकर तत्काल पुलिस को इसकी सूचना दी। इसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची सभी श्रमिकों को स्वास्थ्य जांच के लिए लेकर गई।

आंध्र प्रदेश से लौट रहे थे श्रमिक
आंध्रप्रदेश से लौट रहे श्रमिकों को लोहांडीगुडा ब्लॉक के पोटानार ढाबा के पास ग्रामीणों ने रोका और पोटानार नाका के पास मौजूद पुलिस को इसकी सूचना दी गई। इसके बाद पुलिस सभी श्रमिकों को लेकर गई। श्रमिकों ने बताया कि वे बिंता बडंजी के रहने वाले है। कोरोना की वजह से काम बंद होने पर घर वापस लौट रहे हैं। इसी तरह मरदापाल जा रहे श्रमिकों को करंजी चौक के पास पकड़ा गया। जिन्हें बडंजी थाना के हवाले किया गया। इस तरह से श्रमिक बिना जांच कराए अपने घर लौट रहे हैं, जिससे उनके परिवार के लोग कोरोना से संक्रमित होंगे साथ ही पूरा गांव और मोहल्ला भी इसके चपेट मे आ जाएगा।

लोगों के शिकायत के बाद भी नहीं पहुंचा स्वास्थ्य अमला
मिली जानकारी के अनुसार शहर के महाराना प्रताप वार्ड में भी एक व्यक्ति दो दिनों पहले महाराष्ट्र से लौटा है। जिसका अब तक कोई स्वास्थ्य परीक्षण नहीं हुआ। इस मामले को लेकर बुधवार को वार्डवासियों ने हेल्पलाइन नंबर १०४ पर कॉल किए, तो कॉल सेंटर वालों ने डॉ. वीके ठाकुर का नंबर दिए और उसे संपर्क करने के लिए कहा। जब डॉ. ठाकुर को कॉल किया गया, तो उन्होंने एक घंटे बाद कॉल करने के लिए कहा। जब दोबारा कॉल किया गया तो कॉल ही नहीं उठाए। इस तरह से स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी लापरवाही बरत रहे हैं।

Corona virus corona virus in india
Show More
Badal Dewangan
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned