script1.53 TMC water in Bisalpur, the dam will be filled with rain | बीसलपुर में 1.53 टीएमसी पानी, बारिश से भरेंगे बांध | Patrika News

बीसलपुर में 1.53 टीएमसी पानी, बारिश से भरेंगे बांध

देश में मानसून आने की शुरुआत के साथ ही मेघ बरसने का सिलसिला शुरू हो चुका है। इस बीच राजस्थान में प्री मानसून की बारिश से आमजन को गर्मी से थोड़ी राहत मिली है। वहीं अब तक पड़ी भीषण गर्मी में प्रदेश के 400 से ज्यादा बांध खाली हालात में है। जल संसाधन विभाग के मुताबिक अधिकतर बांधों में पानी की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है।

जयपुर

Published: June 17, 2022 07:42:43 pm

देश में मानसून आने की शुरुआत के साथ ही मेघ बरसने का सिलसिला शुरू हो चुका है। इस बीच राजस्थान में प्री मानसून की बारिश से आमजन को गर्मी से थोड़ी राहत मिली है। वहीं अब तक पड़ी भीषण गर्मी में प्रदेश के 400 से ज्यादा बांध खाली हालात में है। जल संसाधन विभाग के मुताबिक अधिकतर बांधों में पानी की स्थिति चिंताजनक बनी हुई है।
bisalpur bandh
bisalpur bandh
मौसम विभाग की ओर से यह आंकलन किया है कि राजस्थान में सामान्य से अधिक बारिश होने के आसार है। भीषण गर्मी के कारण चंद महीनों मे ही करीब चालीस प्रतिशत से ज्यादा बांध खाली हो चुके हैं। खास बात है कि सीएम अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में बांधों की स्थिति सबसे खराब है। जयपुर संभाग में 261 बांध हैं, जिनकी पूर्ण भराव क्षमता 2671.12 एमक्यूएम है। इस साल जून में 15 फीसदी पानी शेष है।
जोधपुर के हालात भी खराब
वर्ष 2020 में प्रदेश में अच्छी बारिश हुई, इससे अधिकतर बांध लबालब हो हो गए थे। जोधपुर संभाग में 123 बांधों को मिलाकर कुलभराव क्षमता का मात्र 1.6 प्रतिशत पानी ही बचा है। मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक इस बार भी जोधपुर सहित आसपास की जगहों पर कम बारिश होने का अनुमान है, यदि इस मानसून में जोधपुर संभाग में अच्छी बारिश नहीं होती है तो सूखे के हालात पैदा हो जाएंगे।
बीसलपुर बांध के गेट का रखरखाव कार्य शुरू
इस साल भी सरकार की ओर से रामगढ़ सहित अन्य जगहों पर पुराने बांधों में पानी की आवक को लेकर को योजना नहीं बनाई गई। इस बीच बारिश के सीजन में जितनी तेजी से बांध लबालब होते हैं उतनी ही जल्दी खाली भी हो रहे हैं। जयपुर सहित अन्य जिलों के लिए पेयजल की लाइफलाइन कहे जाने वाले डेम का लेवल कुल 309.17 आरएल मीटर है,वहीं शुक्रवार सुबह तक 1.53 टीएमसी पानी शेष है। इससे आसानी से अक्टूबर तक पानी की आवक की जा सकती है। सहायक अभियंताओं के मुताबिक हालांकि बारिश होने से पानी में वृद्धि हो सकेगी। बांध परियोजना की ओर से मानसून सत्र शुरू होने के साथ ही बांध के गेट के रखरखाव को लेकर आयल ग्रीस का कार्य अंतिम चरण पर है।
यह हैं आंकड़ें
—प्रदेश में बड़े और छोटे कुल 725 बांध
—वर्तमान में 435 खाली हालात में
—उक्त बांधों की कुल भराव क्षमता 865.25 एमक्यूएम
—साल 2021 में करीब 336 बांध हुए खाली
—सभी संभागों के बाधों की कुल क्षमता — 12626.32 एमक्यूएम
—वतर्मान में 36.34 प्रतिशत पानी शेष
newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

Gujarat News: जामनगर के होटल में लगी भयानक आग, स्टाफ सहित 27 लोग थे मौजूद, सभी सुरक्षितत्रिपुरा कांग्रेस विधायक सुदीप रॉय बर्मन पर जानलेवा हमला, गंभीर रूप से हुए घायलबांदा में यमुना नदी में डूबी नाव, 20 के डूबने की आशंकाCM अरविंद केजरीवाल ने किया सवाल- 'मनरेगा, किसान, जवान… किसी के लिए पैसा नहीं, कहां गया केंद्र सरकार का धन'SCO समिट में पीएम मोदी के साथ पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की हो सकती है बैठकबिहारः 16 अगस्त को महागठबंधन सरकार का कैबिनेट विस्तार, 24 को फ्लोर टेस्ट, सुशील मोदी के दावे को नीतीश ने बताया बोगसझारखंड BJP ने बिहार के नए उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को गिफ्ट में भेजा पेन, कहा - '10 लाख नौकरी देने वाली फाइल पर इससे करें हस्ताक्षर'Karnataka High Court: एक्सीडेंट में माता-पिता की मौत होने पर विवाहित बेटियां भी मुआवजे की हकदार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.