जयपुर सहित पूरे राजस्थान में 108 और 104 एंबुलेंस हुई बंद, मरीज हो रहे परेशान

कंपनी को नहीं मिला 48 करोड़ का भुगतान, बंद कर दी 600 से ज्यादा एंबुलेंस, एंबुलेंस बंद होने के बाद भी चिकित्सा विभाग करता रहा इनकार, जबकि कंपनी कार्यालय के बाहर खड़ी होती रहीं एंबुलेंस

विकास जैन / जयपुर। राजस्थान सरकार ( Rajasthan Government ) के साथ भुगतान विवाद के चलते राजधानी जयपुर ( Jaipur ) सहित प्रदेश भर में मंगलवार रात से बुधवार तक करीब 600 से अधिक 108 और 104 एंबुलेंस ( Ambulance ) को डीजल नहीं मिला और ये इन एंबुलेंसों के पहिए थम गए। एंबुलेंस के पहिए थमने के कारण कई जगह घायलों और मरीजों को खुद के वाहनों से ही अस्पताल ( Hospital ) पहुंचना पड़ा। हालांकि राज्य सरकार के आला अधिकारी बुधवार दोपहर तक भी एंबुलेंस बंद होने से इनकार किया, लेकिन कंपनी ने स्पष्ट कर दिया कि सरकार से तीन महीने से भुगतान नहीं मिला है। जिसके कारण करीब 600 से 700 एंबुलेंस को डीजल ( Disel ) नहीं मिल पाया है और वे ऑफ रूट हो गई हैं।

यह भी पढ़ें : डेंगू का रामबाण बकरी का दूध, अब नहीं मिलेगा जयपुर में

कंपनी की ओर से कहा गया कि तीन महीने से करीब 48 करोड़ रुपए बकाया होने से यह परेशानी आई है। ऐसे में डीजल का टॉपअप नहीं हो पाया है। वहीं इस बारे में चिकित्सा विभाग ( Medical Department ) के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने भुगतान विवाद और एंबुलेंस के बंद होने से इनकार किया। जबकि कंपनी के झालाना स्थित 108 एंबुलेंस कार्यालय के बाहर बड़ी संख्या में एंबुलेंस जमा रहीं।

यह भी पढ़ें : राजस्थान सचिवालय में मंत्री ने केबिन में बुलाकर आईएएस अफसर के मारा थप्पड़, कोर्ट ने किया तलब

एंबुलेंस सेवा बाधित होने से 108 एंबुलेंस सेवा, 104 जननी सुरक्षा और और बेस एंबुलेंस सेवा के संचालन पर असर पड़ा है। एकीकृत एंबुलेंस सेवा राजस्थान में सेवा प्रदाता कंपनी जीवीके एमआरआई राजस्थान सरकार के साथ मिलकर एंबुलेंस सेवा का संचालन कर रही है। प्रदेश में इस समय कुल 108 एंबुलेंस सेवा में 701, 104 जननी सुरक्षा में 587 और बेस एंबुलेंस सेवा में 189 एंबुलेंस सेवाओं का संचालन किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें : एक दिसंबर को मुख्यमंत्री देंगे जयपुर को एक बड़ी सौगात, 10 स्थानों पर शुरू होगी जनता क्लिनिक

Show More
pushpendra shekhawat
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned