निशुल्क गेहूं वितरण और आधार सीडिंग के लिए 143 करोड़ रुपए स्वीकृत

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ’कोई भी भूखा न सोए’ के ध्येय को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में राजस्थान के समस्त लाभार्थी परिवारों को निशुल्क गेहूं वितरण के लिए 132.43 करोड़ रुपए व्यय करने के अतिरिक्त प्रावधान को स्वीकृति दी है। गहलोत ने इसके लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है।

By: Umesh Sharma

Published: 25 Sep 2020, 08:06 PM IST

जयपुर।

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ’कोई भी भूखा न सोए’ के ध्येय को ध्यान में रखते हुए राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में राजस्थान के समस्त लाभार्थी परिवारों को निशुल्क गेहूं वितरण के लिए 132.43 करोड़ रुपए व्यय करने के अतिरिक्त प्रावधान को स्वीकृति दी है। गहलोत ने इसके लिए खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग के प्रस्ताव का अनुमोदन कर दिया है।

इस राशि का उपयोग जुलाई से नवंबर तक खाद्य सुरक्षा योजनान्तर्गत लाभार्थियों को निःशुल्क गेहूं उपलब्ध कराने के लिए भारतीय खाद्य निगम से गेहूं की खरीद कर भुगतान के लिए किया जाएगा। उक्त स्वीकृत राशि में से 100.35 करोड़ रुपए मुख्यमंत्री सहायता कोष से देय होंगे। मुख्यमंत्री ने ’वन नेशन, वन राशन कार्ड’ के तहत खाद्य सुरक्षा योजना के समस्त लाभार्थियों की राशन कार्ड के साथ आधार सीडिंग और ई-केवाईसी करने के लिए 11.10 करोड़ रुपए के अतिरिक्त बजट प्रावधान को भी स्वीकृति दी है। यह सीडिंग कार्य बूथ लेवल ऑफिसर (बीएलओ) द्वारा किया जाना है।

ई—केवाईसी की जाएगी

गहलोत के इस निर्णय से प्रदेश में खाद्य सुरक्षा योजना के तहत जारी किए गए राशन कार्डों में आधार सीडिंग से शेष रहे 1 करोड़ 22 लाख 63 हजार 116 लाभार्थियों की आधार सीडिंग और ई-केवाईसी की जाएगी। सभी लाभार्थियों के राशन कार्ड और आधार नंबर का वेलिडेशन भी किया जाएगा। इस क्रम में शादी, प्रवासी एवं मृत्यु के प्रकरणों की जांच कर खाद्य सुरक्षा योजना के लाभार्थियों की सूची से नाम हटवाने आदि का काम भी करवाया जा सकेगा।

Umesh Sharma Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned