16 हजार सरकारी स्कूलों में होंगे 'Head Girl Boy'

स्कूल विकास की जिम्मेदारी निभाएंगे हैड गर्ल और बॉय
स्कूल शिक्षा विभाग कर रहा नवाचार

By: Rakhi Hajela

Published: 12 Feb 2021, 07:37 PM IST

Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

प्रदेश के 16 हजार सरकारी स्कूलों में पढऩे वाले छात्र छात्राओं की समस्याओं को संस्था प्रधान तक पहुंचाने की जिम्मेदारी अब उनके प्रतिनिधियों की होगी। छात्र छात्राओं को इसके लिए प्रिंसिपल तक जाने की जरूरत नहीं होगी। स्कूल में पीटीएम हो या फिर एक्सट्रा कलिकुलर एक्टिविटी का आयोजन यह काम भी विद्यार्थियों के प्रतिनिधि करेंगे। दरअसल राज्य की सरकारी स्कूलों को अव्वल बनाने के मकसद से शिक्षा विभाग एक नवाचार करने जा रहा है। जिसके तहत प्रदेश की माध्यमिक और उच्च माध्यमिक स्कूलों में हैड बॉय व हैड गर्ल का चयन किया जाएगा।

नोटिस बोर्ड पर चस्पा होगी जानकारी
माध्यमिक शिक्षा निदेशक सौरभ स्वामी ने यह नवाचार करते हुए इस संबंध में सभी मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी एवं परियोजना समन्वयक समग्र शिक्षा को निर्देश जारी कर दिए गए हैं। हेड बॉय और हेड गर्ल को बैज आवंटित किए जाएंगे। किस स्कूल में किसे हेड बॉय और हेड गर्ल बनाया गया है, इसकी सूचना भी नोटिस बोर्ड पर चस्पा होगी। योग्यता व क्षमता के आधार पर चयनित ये हैड बॉय व गर्ल स्कूल विकास के कार्यों में नेतृत्व के साथ बाकी विद्यार्थियों की भागादारी बढ़ाएंगे। स्कूल विकास के साथ बच्चों में नेतृत्व व समन्वयता के गुणों का विकास करने के उद्देश्य से विभाग ने यह फैसला लिया है।

20 फरवरी तक करना होगा चयन
राजकीय माध्यमिक विद्यालय और राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में एक प्रतिभाशाली छात्र और एक प्रतिभाशाली छात्रा को हैड बॉय और हैड गर्ल बनाया जाएगा। जो विद्यालय संचालनए अकादमिक गतिविधियों और विकास कार्य में विद्यार्थियों के प्रतिनिधि के रूप में काम करेंगे। सभी स्कूलों में 20 फरवरी तक इनके चयन की प्रक्रिया सुनिश्चित की जाएगी।

हैड बॉय और हैड गर्ल को निभाने होंगे यह दायित्व
: विद्यार्थियों और प्रधानाचार्य के बीच की कड़ी का कार्य
: विद्यार्थियों की समस्याओं को प्रधानाचार्य तक पहुंचाना
: अनुशासन संबंधी कार्य में सहभागिता करना
: बालसभा, पीटीएम, एससीएमसी की बैठकों में समन्वय का काम
: विद्यालय में होने वाले उत्सव की संपूर्ण व्यवस्था की जिम्मेदारी
: स्कूल में नामांकन, पौधरोपण कार्यक्रमों के साथ ही परीक्षा तैयारीमें विद्यार्थियों की भागीदारी सुनिश्चित करना।
: विद्यार्थियों की स्कॉलरशिप और प्रोत्साहन की योजनाओं के संबंध में जानकारी देना
: स्कूल में शिकायत पेटिका, गरिमा पेटी का संचालन करना

इस आधार पर होगा हैड गर्ल और बॉय का चयन
: हैड गर्ल और बॉय 9वीं और 11वीं में पढ़ते हो।
: बोर्ड परीक्षा में अच्छे अंक
: शैक्षिक गतिविधियों में भागीदारी करने वाले
: विद्यार्थियों और शिक्षकों के साथ उनका व्यवहार कैसा है
: नेतृत्व क्षमता के गुण होने जरूरी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned