नाबालिग की सहमति को माना महत्वहीन, किशोरी से रेप मामले में 10 वर्ष का दिया कारावास

Pocso Court: कोर्ट ने कहा कि नाबालिग की सहमति का कानून में कोई महत्व नहीं, किशोरी को भगाकर ले जाने और बीस दिन तक बलात्कार करने के अभियुक्त को10 वर्ष के कठोर कारावास

 

By: Deepshikha Vashista

Updated: 08 Dec 2019, 05:03 PM IST

जयपुर. रामगंज थाना इलाके से 16 वर्षीय किशोरी को बहला-फुसलाकर भगाकर ले जाने और बीस दिन तक बलात्कार करने के अभियुक्त सुल्तानपुर यूपी हाल चारदरवाजा निवासी आनंद मोहन को पोक्सो मामलों की विशेष अदालत 5 ने 10 वर्ष के कठोर कारावास एवं 35 हजार रुपए के जुर्माने की सजा से दंडित किया।

न्यायाधीश रेखा शर्मा ने पीडि़ता के नाबालिग होने के कारण दोनों के प्रेम संबंधों एवं सहमति को महत्वहीन मानते हुए सजा दी। पीडि़ता के पिता ने रामगंज थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई थी कि अभियुक्त आनंद उसकी नाबालिग पुत्री को 9 अप्रेल, 2015 को बहला-फुसलाकर भगा ले गया।

Read More: 'मैं नन्हीं सी गुडिय़ा थी मुझे जीना था ...', मासूम से रेप मामले में मृत्युदंड देने से पहले महिला जज ने कविता से बताया दर्द

बाद में पुलिस ने 7 मई को आनन्द को भिवाड़ी से गिरफ्तार कर पीडि़ता को बरामद किया था। ट्रायल के दौरान पीडि़ता के अभियुक्त के साथ प्रेम संबंध प्रमाणित होने तथा सहमति से संबंध बनने की साक्ष्य पर कोर्ट ने कहा कि नाबालिग की सहमति का कानून में कोई महत्व नहीं है।

Read More : महिला को घर में अकेली देख किया दुष्कर्म, अब दे रहा जान से मारने की धमकी

अभियुक्त को फांसी की सजा

जयपुर दूदू के अतिरिक्त सत्र न्यायालय ने छह साल की मासूम के साथ दुष्कर्म करने के बाद उसकी गला घोंटकर हत्या करने वाले अभियुक्त महेन्द्र कुमार तामडिया को फांसी की सजा सुनाई है। न्यायाधीश शिल्पा समीर ने 27 वर्षीय इस अभियुक्त पर आठ लाख 20 हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। अदालत ने कहा कि पीडिता छह साल की बच्ची थी, जिसके लिए जीवन मात्र खेल था। उसके नन्हे शरीर को अभियुक्त ने निष्ठुरता से रोंदकर उसकी हत्या कर दी। वह इतनी छोटी थी कि अभियुक्त का विरोध भी नहीं कर सकती थी। अभियुक्त ने विश्वास का दुरुपयोग कर परिचित होते हुए भी मृतका के साथ दुष्कर्म कर उसकी हत्या कर दी।

Deepshikha Vashista
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned