ऐसी यात्रा जिसमें नंगे पैर पैदल चलते हैं शहर के सेठ

Kamlesh Agarwal

Publish: Sep, 16 2018 10:40:36 AM (IST) | Updated: Sep, 16 2018 10:40:37 AM (IST)

Jaipur, Rajasthan, India

देखिए ऐसी यात्रा जिसे 171 साल पहले जयपुर के अग्रवाल सेठों ने शुरू किया था....आज भी करोड़ों के जेवरात पहनाकर बाल स्वरूप राधा गोपालजी के साथ ही ललिता और विशाखा सखियों के स्वरूप शहर परिक्रमा पर निकलते हैं....गोपालजी की हेड़े की परिक्रमा के नाम से विख्यात परिक्रमा में शहर के धनाढ़य अग्रवाल समाज के लोग महत्वपूर्ण भूमिका में रहते हैं और पूरी यात्रा में नंगे पैर पैदल चलते हैं...परिक्रमा का वैभव साल दर साल बढता ही जा रहा है। बैंड बाजे की धुनें और झूमते-नाचते श्रद्धालु इस परिक्रमा में शामिल हुए। इस परिक्रमा में शामिल राधा गोपालजी और ललिता-विशाखा सखियों के स्वरूपों को सोने-चांदी की बनी सुनहरी जरी की पोशाक धारण करवाकर नगर भ्रमण कराया गया। हेड़े की परिक्रमा को अग्रवाल समाज के लोगों ने 1876 संवत में शुरू किया था.. उस समय इस परिक्रमा के प्रति समाज के साथ राज परिवार की भी पूरी श्रद्धा थी

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned