17800 का पता, हजारों लापता, तीनों राज्यों की गैर जिम्मेदारी

लापरवाही पड़ सकती है भारी: रोजाना पहुंच रहे सैकड़ों लोग बाड़मेर

By: jagdish paraliya

Published: 28 Mar 2020, 05:08 PM IST

बाड़मेर. कोरोना वायरस को लेकर हजारों मजदूरों व श्रमिकों के बाड़मेर की ओर पलायन ने सरकार की चिंता बढ़ा दी है। गुजरात-महाराष्ट्र और मध्यप्रदेश से पैदल पहुंच रहे मजदूरों के रुकने का सिलसिला थम ही नहीं रहा है। हर गांव में प्रतिदिन 50-60 लोग पहुंच रहे है।
जिले के बड़ी संख्या में मजदूर महाराष्ट्र एवं गुजरात में मजदूरी पर है। इन मजदूरों को मालिकों ने काम से हटा दिया है। दोनों राज्यों की सरकारों ने इन प्रवासी मजदूरों को लेकर कोई प्रबंध नहीं किया है। आवागमन के साधन बंद हो गए हैं। ऐसे में ये मजदूर पैदल ही निकल पड़े और अब लगातार पहुंच रहे हैं। बाड़मेर प्रशासन को अब तक 17,800 लोगों के बाहर से आने की जानकारी मिली है। गुड़ामालानी, धोरीमन्ना और चौहटन इलाके में ज्यादा लोग पहुंचे हैं। पटवारी, ग्रामसेवक एवं ग्रामीण स्तर के कार्मिकों से जानकारी चाही गई है। इस बीच कई कार्मिंकों के मुख्यालय पर नहीं होने की शिकायतें भी मिली हैं। ट्रक और बड़े वाहनों में तिरपाल लगा लिए गए हैं। खाद्यान्न के सामान के साथ में ये मजूदर इसमें छिपकर पहुंच रहे है।


गुजरात, महाराष्ट्र में मजदूरों को मालिकों ने निकाल दिया है। अब उनके पास काम हैै न खाने को सामान। वहां की राज्य सरकारों को तत्काल इसकी जिम्मेदारी लेनी चाहिए। मुख्यमंत्री को अवगत करवाया है। उन्होंने भरोसा दिया है।
हरीश चौधरी, राजस्व मंत्री

बाहरी जिलों से ट्रकों में आ रहे हैं लोग, एसपी भड़के
पाली. पाली के आसपास के जिलों से ट्रकों में सवार होकर आ रहे लोगों की संख्या को देखते हुए एसपी ने नाराजगी जताई है। उन्होंने जिले के नाकों पर तैनात सभी थानाधिकारियों को इन लोगों को रोकने के निर्देश दिए हैं। साथ ही इस में ढिलाई बरतने पर निलंबित करने की चेतावनी दी है।
जानकारी के अनुसार शुक्रवार को पुलिस अधीक्षक राहुल कोटोकी को सूचना मिली कि जोधपुर से ट्रक में 8 जने सवार होकर पाली पहुंच गए। सदर थाना पुलिस ने उनको रोका ऐसे में एसपी ने रोहट थानाधिकारी कमलेश गहलोत पर नाराजगी जताई। एसपी का कहना है कि अगर ऐसे लोग कोरोना पॉजिटिव निकले तो किसकी जिम्मेदारी होगी, उन्होंने जिले की सीमाओं पर तैनात सेंदड़ा, जैतारण, सुमेरपुर, तखतगढ़, रोहट थाना अधिकारी ऐसे लोगों को रोकने के सख्त निर्देश दिए। इसमें ढिलाई करने पर निलंबित करने की चेतावनी दी। साथ ही उन्होंने अपील की कि केवल आपातकालीन सेवा को चालू रखा जाए। शेष वाहन रोक दिया जाए। यात्रियों की आवाजाही बंद कर दी जाए।

पुलिसकर्मी, कैदी, क्लर्क समेत 15 संदिग्ध
कोटा. शहर में शुक्रवार को एक ही दिन में १५ जने कोरोना संदिग्ध मिले हैं। उन्हें एमबीएस अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती कराया गया। इसमें एक पुलिसकर्मी है, वह झुंझुनूं से आया है। एक कैदी है, ये भीलवाड़ा से आया है, जबकि एक कॉलेज की क्लर्क व उसका पुत्र कर्नाटक से आए हैं। एक कुन्हाड़ी, एक बोरखेड़ा, एक लाडपुरा, दो नयापुरा, दो बारां अस्पताल से आए हैं। एक छह साल की बालिका है। वह दिल्ली से आई है। एक प्रताप कॉलोनी की महिला शामिल है। एक महिला डॉक्टर का दोबारा सेम्पल लिया है।
मामला दर्ज : जोधपुर. कोरोना वायरस की संदिग्ध युवती के मथुरादास माथुर अस्पताल से भागने पर शुक्रवार को शास्त्रीनगर थाने में एफआइआर दर्ज कराई गई।

jagdish paraliya
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned