टोक्यो ओलंपिक में ख़ास गॉगलनुमा डिवाइस पर देख सकेंगे मैच का फ्लैशबैक

टोक्यो ओलंपिक में अपने आभासी चश्मे पर देख सकेंगे मैच का फ्लैशबैक
-आयोजन के बहाने जापान दुनिया को अपनी अत्याधुनिक तकनीक दिखा प्रभावित करने की कोशिश में
जयपुर। साल 2020 के ग्रीष्मकालीन टोक्यो ओलंपिक और पैरालिम्पिक्स का मुख्य आकर्षणों में से एक दुनिया की सबसे उन्नत प्रौद्योगिकी तकनीकों का उपयोग होगा। दरअसल, इस आयोजन के बहाने जापानी कंपनियां अपनी अत्याधुनिक तकनीकों से दुनिया को प्रभावित करने का प्रयास करेंगी। ऐसी ही कुछ तकनीकी आकर्षणों पर एक नजर डालते हैं इस खबर में:

By: Mohmad Imran

Published: 08 Jul 2019, 06:04 PM IST

त्वरित पुनरावृत्ति (इंस्टेट री-प्ले)-

एक फुटबॉल मैच के दौरान ऑग्मेंटेड रिएलिटी गॉगल्स के जरिए दर्शक मैच के किसी भी क्षण का त्वरित री-प्ले देख सकेंगे। इसके लिए उन्हें चश्मे के ऊपर बने सेंसर को छूना होगा और उनके चश्मे के लेंस पर वह दृश्य फिर से चलने लगेगा। इतना ही नहीं इन दृश्यों को बदलकर वे मैच के अतिरिक्त खिलाडिय़ों और टीम मैनेजर को भी बेंच पर बैठे हुए देख सकेंगे। इतना ही नहीं चश्मे के लेंस पर खिलाडिय़ों और टीमों के डेटा भी प्रदर्शित किए जाएंगे। इस खास गॉगल को एनटीटी डोकोमो इनक्लूसिव ने 2020 में होने वाले ओलंपिक आयोजन को ध्यान में रखकर ही बनाया था। आसानी से पहने जा सकने वाला यह गॉगल डिवाइस दर्शकों को मैच के दौरान मैदान पर मौजूद दर्जनों कैमरों की विभिन्न एंगल से ली हुई तस्वीरें भी दिखाएगा। इसे मैच देखने के दौरान ही मैदान पर लगे कैमरों से सीधे वायरलेस तकनीक से गॉगल के लेंस पर भेजा जाता है।

5 जी तकनीक बनेगी आधार-
स्टेडियम इस तरह का शानदार मैच एक्सपीरिएंस देने के लिए तकनीकी कंपनियां 5जी नेटवर्क का इस्तेमाल करेंगी। अधिकारिक तौर पर अभी दक्षिण कोरिया में ही यह तकनीक आधारित नेटवर्क यूजर उपयोग कर रहे हैं।जापान ओलंपिक में अपनी अत्याधुनिक तकनीकी क्षमता का प्रदर्शन 5जी की सहायता से ही करेगा। यह पांचवी पीढ़ी की दूरसंचार प्रणाली है। जो वर्तमान मोबाइल उपकरणों की तुलना में लगभग 100 गुना अधिक उच्च गति और बड़ी मात्रा में डेटा प्रसारण करेंगे। एनटीटी डोकोमो में स्पोट्र्स और लाइव बिजनेस प्रमोशन सेक्शन के प्रमुख हिरोशी बाबा का कहना है कि बिना डेटा ट्रांसमिशन देरी के हाई-स्पीड और maximum capacity में 5जी नेटवर्क दर्शकों को खेल देखने का एक शानदार अनुभव देगा।इसे सितंबर 2019 में जापान में होने वाले विश्व रग्बी कप में दर्शकों की सीटों और अन्य स्थानों पर विशेष उपकरणों के जरिए देखा जा सकेगा।

 

संदिग्धों पर एआइ रखेगी नजर-
जापानी कंपनी हिताची लिमिटेड ने एक ऐसी प्रणाली विकसित की है जिसमें कृत्रिम खुफिया एकल सुरक्षा कैमरे की फुटेज का इस्तेमाल कर आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस तकनीक स्टेडियम में मौजूद किसी भी संदिग्ध को आसानी से ढूंढ लेगी। डीप लर्निंग प्रणाली पर आधारित यह तकनीक लिंग, कपड़ों और सामान सहित प्रसारित सूचना के आधार पर सार्वजनिक परिवहन साधनों और अन्य स्थानों पर किसी संदिग्ध व्यक्ति को तुरंत ढूंढ निकालना संभव बना देगी। फिलहाल हनेडा एयरपोर्ट सहित कई घरेलू और विदेशी एक्सपो शो में इसका प्रदर्शन चल रहा है।

Mohmad Imran Desk/Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned