प्रदेश में 300 मृतक किसानों के परिवारों को नहीं मिले बीमा के रुपए, काट रहे हैं चक्कर

प्रदेश में 300 मृतक किसानों के परिवारों को नहीं मिले बीमा के रुपए, काट रहे हैं चक्कर

Pushpendra Singh Shekhawat | Publish: May, 25 2019 08:10:00 AM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

आइआरडीए में भी शिकायत-एमओयू की शर्तों का किया उल्लंघन

ओमप्रकाश शर्मा / जयपुर। सहकारी बैंक से ऋण लेने के बाद तीन सौ किसान ( farmer ) विभिन्न हादसों में शिकार हो कर जान गंवा चुके हैं। इन किसानों के परिजनों को दस-दस लाख रुपए मिलने थे, लेकिन सभी परिवारों के क्लेम बीमा कम्पनी ( Insurance company ) ने अटका दिए। अब बैंक ने इन निजी बीमा कम्पनी को कानूनी नोटिस दिया है। इसके अलावा बीमा विनिमायक और विकास प्राधिकरण (आइआरडीए) को भी शिकायत की है।

 

कम्पनी ने एमओयू की शर्तों का उल्लंघन कर क्लेम अटकाए हैं। सहकारी बैंकों से ऋण लेने वाले 18 लाख किसानों का बीमा किया था। यह बीमा एक निजी कम्पनी से कराया गया था। कम्पनी ने एमओयू की शर्ते नहीं मानी। किसानों का बीमा दावों का निस्तारण पन्द्रह दिन में करने की शर्त थी, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। एमओयू की निगरानी के लिए जिम्मेदार सहकारी बैंक भी कम्पनी के इस कारनामे पर चुप्पी साधे रहे। इसी का नतीजा रहा कि पन्द्रह दिन तो दूर महीनों से परिवार के मुखिया की मौत के बाद भी गरीब किसान आर्थिक मदद के इंतजार में बैठे हैं। अब अपेक्स बैंक ने कम्पनी को कानूनी नोटिस दिया है।

 

बीमा के प्रीमियम के रूप में कम्पनी को 30 करोड़ रुपए दिए थे। हालांकि कम्पनी ने एक भी किसान को क्लेम नहीं दिया। प्रति किसान दस लाख रुपए का बीमा था। करीब तीन सौ किसान परिवार क्लेम कर चुके हैं। अपेक्स बैंक के अनुसार सभी क्लेम लम्बित हैं। इस तरह तीन सौ परिवारों को तीस करोड़ रुपए मिलने हैं। बीमा अप्रेल 2018 से मार्च 2019 तक के बीच किया गया है। इससे साफ है कि अभी क्लेम के कई मामले और आएंगे। ऐसे में किसानों को उनका हक मिलना मुश्किल लग रहा है। हालांकि कम्पनी को अपेक्स बैंक ने कानूनी नोटिस देकर कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। इसके अलावा आइआरडीए को शिकायत कर कम्पनी के खिलाफ कार्रवाई के लिए लिखा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned