script449 dams empty in Rajasthan, hope on monsoon | राजस्थान में 449 बांध खाली, मानसून पर टीकी आस, सूखे की आहट, पढ़ें पूरी खबर | Patrika News

राजस्थान में 449 बांध खाली, मानसून पर टीकी आस, सूखे की आहट, पढ़ें पूरी खबर

Condition Of Dams In Rajasthan : राजस्थान में जितनी भीषण गर्मी पड़ रही है उसी हिसाब से बांधो में पानी कम होता जा रहा है। मात्र आठ माह के दौरान बांंध 34 प्रतिशत खाली हो गए। बड़ी बात यह है कि वर्तमान में राजस्थान के 449 बांध खाली पड़े हैं, ऐसे में सूखे की आहट से इनकार नहीं किया जा सकता।

जयपुर

Updated: May 25, 2022 12:08:25 pm

विनोद सिंह चौहान
condition of dams in rajasthan : राजस्थान में जितनी भीषण गर्मी पड़ रही है उसी हिसाब से बांधो में पानी कम होता जा रहा है। मात्र आठ माह के दौरान बांंध 34 प्रतिशत खाली हो गए। बांधों में पानी की आवक की बात करें तो वर्ष 2020 में जितना पानी आया था, उतना पानी 2021 में नहीं आया। यदि इस बार मानसून की बारिश असर नहीं दिखा पाई तो भारी परेशानी खड़ी होगी। उधर, जोधपुर संभाग के बांधों की तो कमर ही टूट गई, यहां 123 बांधों को मिलाकर कुलभराव क्षमता का मात्र 1.6 प्रतिशत पानी ही बचा है। यदि इस मानसून जोधपुर संभाग में मेहर नहीं बरसी तो सूखे के हालात हो जाएंगे।

bisalpur_dam-.jpg

सितंबर की बारिश ने दी थी संजीवनी
राजस्थान के बांधों को पिछले साल सितंबर की बारिश ने संजीवनी दी थी। उसके बाद भी बांधों में पिछले साल जितना पानी भी नहीं आ सका। गत 28 सितंबर को बांधों के जलस्तर की बात करें तो भराव क्षमता का कुल 8898.59 एमक्यूएम यानि 70.48 प्रतिशत पानी था। जबकि वर्ष 2020 को इसी दिन 9044.71 एमक्यूएम यानि 71.63 प्रतिशत पानी था। वतर्मान स्थिति की बात करें तो कुल भराव क्षमता का 4588.13 एमक्यूएम यानि 36.34 प्रतिशत पानी ही बचा है।

राज्य में 449 बांध खाली
राजस्थान में छोटे-बड़े मिलाकर कुल 727 बांध हैं, जिनमें से वतर्मान में 449 खाली पड़े हैं और बारिश के पानी का इंतजार है। इन बांधों की कुल भराव क्षंमता 865.25 एमक्यूएम है, जबकि जलसंसाधान विभाग के रेकार्ड में इन बांधों में जीरो प्रतिशत पानी है। पिछले साल 336 बांध ही रीते थे। अब बांधों के सूखने का सिलसिला भी पिछले साल से आगे निकल गया है। खाली बांध भी राजस्थान की चिंता में इजाफा कर रहे हैं।

97 प्रतिशत भरे थे कोटा के बांध
पिछले मानसून के दौरान राजस्थान के सभी बांधों में पानी की आवक की बात करें तो जल संसाधन विभाग ने बांधों के हिसाब से राजस्थान को चार संभाग में बांट रखा है। मानसून में कोटा संभाग में अच्छी बारिश के चलते बांध लबालब हो गए थे। कोटा संभाग के 87 बांधों की कुल भराव क्षमता 4337.74 एमक्यूएम है और मानसून के दौरान (28 सितंबर तक) 4212.49 प्रतिशत पानी की आवक हुई जो 97.1 प्रतिशत था। कोटा में वर्ष 2020 से ज्यादा पानी की आवक हुई थी। वतर्मान में कुल भराव क्षमता का 60.2 प्रतिशत पानी की बचा है। यादि आठ माह के दौरान 37 प्रतिशत पानी कम हो गया।

अन्य संभागों की स्थिति
जयपुर संभाग में 261 बांध हैं, जिनकी पूर्ण भराव क्षमता 2671.12 एमक्यूएम है, जो पिछले साल सितंबर तक 1092.18 एमक्यूएम भरे थे यानि 40.9 प्रतिशत पानी था। जो वर्ष 2020 से 10 प्रतिशत ज्यादा था। लेकिन वतर्मान स्थिति की बात करें तो 16.8 प्रतिशत पानी ही बचा है। जोधपुर के 123 बांधों की कुल भराव क्षमता 976.90 एमक्यूएम है और पिछले सितंबर तक 103.30 एमक्यूएम पानी था, यानि 10.6 प्रतिशत पानी रहा। वतर्मान स्थिति की बात करें तो जोधपुर में कुल भराव क्षमता का मात्र 1.6 प्रतिशत पानी ही बचा है। उधर, उदयपुर के 256 बांधों की कुल भराव क्षमता 4640.55 एमक्यूएम है और पिछले सितंबर में 3490.62 एमक्यूएम पानी रहा जो 75.2 प्रतिशत था। वतर्मान स्थिति पर नजर डाले तो यह 32.6 प्रतिशत है। संभागों के सभी बांधों की कुल भराव क्षमता 12626.32 एमक्यूएम है और पिछले सितंबर में 8898.59 एमक्यूएम पानी था जो कुल भराव क्षमता का 70.48 प्रतिशत रहा। लेकिन वतर्मान में यह 36.34 प्रतिशत रह गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन को आकर्षित करती है कछुआ अंगूठी, लेकिन इस तरह से पहनने की न करें गलतीज्योतिष: बुध का मिथुन राशि में गोचर 3 राशि के लोगों को बनाएगा धनवानपैसा कमाने में माहिर माने जाते हैं इस मूलांक के लोग, तुरंत निकलवा लेते हैं अपना कामजुलाई में चमकेगी इन 7 राशियों की किस्मत, अपार धन मिलने के प्रबल योगडेली ड्राइव के लिए बेस्ट हैं Maruti और Tata की ये सस्ती CNG कारें, कम खर्च में देती हैं 35Km तक का माइलेज़ज्योतिष: रिश्ते संभालने में बड़े कच्चे होते हैं इस राशि के लोगजान लीजिए तुलसी के इस पौधे को घर में लगाने से आती है सुख समृद्धिहाथ में इन निशान का होना मां लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होने का माना जाता है संकेत

बड़ी खबरें

Maharashtra Political Crisis: फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर, आज शाम 5 बजे होगी सुनवाईMaharashtra Political Crisis: 30 जून को फ्लोर टेस्ट के लिए मुंबई वापस पहुंचेगा शिंदे गुट, आज किए कामाख्या देवी के दर्शनMumbai News Live Updates: फ्लोर टेस्ट के खिलाफ शिवसेना की अर्जी सुप्रीम कोर्ट में मंजूर, आज ही होगी सुनवाईनवीन जिंदल को भी कन्हैया लाल की तरह जान से मारने की मिली धमकी, दिल्ली पुलिस से की शिकायतUdaipur Kanhaiya Lal Murder: बैकफुट पर गहलोत सरकार, अब मंत्री बोले, 'ऐसे लोगों को ठोके पुलिस' और दी जाए 'फांसी'Udaipur Murder Case: राजस्थान में एक माह तक धारा 144, पूरे उदयपुर में कर्फ्यू, जानिए अब तक की 10 बड़ी बातेंMohammed Zubair’s arrest: 'पत्रकारों को अभिव्यक्ति के लिए जेल भेजना गलत', ज़ुबैर की गिरफ्तारी पर बोले UN के प्रवक्ताGST Council Meeting: महंगाई की मार! ब्रैंडेड पनीर-दही समेत कई चीजें होंगी महंगी, बैंक की इस सर्विस भी लगेगा टैक्स
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.