सचिवालय के 500 अधिकारियों को दिया कोरोना से बचाव का प्रशिक्षण

प्रदेश के शासन सचिवालय के चिकित्सालयों में जांच एवं चिकित्सा सेवाओं का और विस्तार किया जाएगा। सचिवालय सेवा के 500 अधिकारियों को 23 जून से अभियान चलाकर कोरोना महामारी से बचाव का प्रशिक्षण भी दिया गया है।

By: Prakash Kumawat

Published: 30 Jun 2020, 10:27 PM IST

सचिवालय के 500 अधिकारियों को दिया कोरोना से बचाव का प्रशिक्षण
सचिवालयमें जांच और चिकित्सा सुविधाओं का होगा विस्तार
23 जून से शुरु हुआ था प्रशिक्षण अभियान

जयपुर, 30 जून। प्रदेश के शासन सचिवालय के चिकित्सालयों में जांच एवं चिकित्सा सेवाओं का और विस्तार किया जाएगा। सचिवालय सेवा के 500 अधिकारियों को 23 जून से अभियान चलाकर कोरोना महामारी से बचाव का प्रशिक्षण भी दिया गया है।
इस अभियान के समापन अवसर पर मंगलवार को मुख्य सचिव डीबी गुप्ता ने कहा कि कोरोना ने हमें कई अच्छी चीजें सिखाई हैं, जिनका हमें आगे भी पालन करते रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि कार्यस्थल पर साफ-सफाई रखने के लिए जरूरी है कि फाइलों का काम ऑनलाइन हो, ताकि धूल मिट्टी और गंदगी से बचाव हो सके। उन्होंने कहा कि सड़क पर थूकने पर भी स्थाई रूप से जुर्माने का प्रावधान किया जाना चाहिए।
मुख्य सचिव गुप्ता ने बताया कि देश भर में कोरोना संक्रमण की रोकथाम में राजस्थान काफी अच्छी स्थिति में है। कोरोना संक्रमण की स्थिति भांप कर लॉकडाउन लगाने वाला भी राजस्थान देश में पहला राज्य था।

कार्यक्रम में चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव रोहित कुमार सिंह ने अधिकारियों से कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना तथा सेनेटाइजेशन कोरोना से बचाव का फार्मूला है। इन तीनों बातों का सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को ध्यान रखना चाहिए।

इस अवसर पर कार्मिक विभाग की प्रमुख शासन सचिव रोली सिंह ने बताया कि एसएमएस के साथ सामंजस्य से सचिवालय में स्थित चिकित्सालयों में जांच और अन्य मेडिकल फेसिलिटी के दायरे को और विस्तृत किया जाएगा। उन्होंने बताया कि सचिवालय स्थित कॉन्फे्रन्स रूम में 23 जून से शुरू होकर 30 जून तक चले इस प्रशिक्षण कार्यक्रम में तकरीबन 500 सचिवालय सेवा के अधिकारियों को डॉक्टर्स द्वारा प्रशिक्षण दिया गया। कार्यक्रम के तहत एलोपैथी, होम्योपैथी व आयुर्वेद के चिकित्सकों ने सचिवालय अधिकारियों को कोरोना संक्रमण से बचाव का प्रशिक्षण दिया।

कार्यक्रम में एलोपैथी चिकित्सक डॉ.रमेश सोलंकी, डॉ. शंकर लाल गुप्ता, डॉ. नलिनी पुरोहित, आयुर्वेद चिकित्सक डॉ. विजय गौतम, होम्योपैथी चिकित्सक डॉ. दिनेश चौधरी व यूनानी चिकित्सक डॉ. मनमोहन खींची तथा सचिवालय सेवा के अधिकारी मौजूद थे। कार्यक्रम के अंत में मुख्य सचिव ने सभी चिकित्सकों को प्रशस्ति पत्र पदान कर सम्मानित भी किया।

Prakash Kumawat Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned