हाईवे पर पुलिस की मदद करेंगे '53 स्वयंसेवक'

हाईवे पर पुलिस की मदद करेंगे '53 स्वयंसेवक'

Abhishek Sharma | Publish: Feb, 09 2016 11:06:00 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

जयपुर-दिल्ली हाईवे पर बढ़ती सड़क दुर्घटना, लूट तस्करी जैसी वारदातों पर लगाम कसने के लिए पुलिस महकमें ने नया प्रयोग किया है। इसके लिए  जयपुर ग्रामीण पुलिस की ओर से कोटपूतली क्षेत्र में हाईवे वार्डन योजना की शुरूआत की गई है। इसमें ढाबाकर्मी, दुकानदार व पुलिस की मदद के इच्छुक 53 स्वयं सेवक भागीदारी निभाएंगे। इससे पुलिस को आपराधिक गतिविधियों व संदिग्ध लोगों की जानकारी मिलने में मदद मिलेगी।

जयपुर-दिल्ली हाईवे पर बढ़ती सड़क दुर्घटना, लूट तस्करी जैसी वारदातों पर लगाम कसने के लिए पुलिस महकमें ने नया प्रयोग किया है। इसके लिए  जयपुर ग्रामीण पुलिस की ओर से कोटपूतली क्षेत्र में हाईवे वार्डन योजना की शुरूआत की गई है। इसमें ढाबाकर्मी, दुकानदार व पुलिस की मदद के इच्छुक 53 स्वयं सेवक भागीदारी निभाएंगे। इससे पुलिस को आपराधिक गतिविधियों व संदिग्ध लोगों की जानकारी मिलने में मदद मिलेगी।
योजना के प्रारम्भिक चरण में सर्किल के कोटपूतली, प्रागपुरा व पनियाला क्षेत्र में यह योजना लागू की गई है। इसके तहत पुलिस अधीक्षक जयपुर ग्रामीण डॉ.रामेश्वर सिंह ने मंगलवार को पंचायत समिति के सभा कक्ष में इसका शुभारम्भ करते हुए तीन थाना क्षेत्रों में 53 लोगों को हाइवे वार्डन नियुक्त किया है। इनमें राजमार्ग किनारे होटल दुकान चलाने वालों के अलावा ऐसे लोग शामिल है, जिनके मकान व प्रतिष्ठान राजमार्ग पर स्थित है।
पुलिस अधीक्षक ने कहा कि राजमार्ग पर बढ़ती औद्योगिक गतिविधियों, पर्यटकों की बढ़ती संख्या, वीआईपी के अवागमन व होटलों की संख्या बढऩे से सड़क दुर्घटनाओं के अलावा, जाम व लूट जैसी आपराधिक गतिविधियां भी बढ़ी है। वारदात करने के बाद अपराधी नजदीक होने से हरियाणा सीमा में प्रवेश कर जाते हैं। ऐसे में आपराधिक सूचना तंत्र को मजबूत करने व सड़क दुर्घटना में घायल लोगों की मदद में हाईवे वार्डन कारगर हो सकते हैं। उन्होंने हाईवे वार्डन नियुक्त हुए लोगों से इस दिशा में सक्रिय होकर कार्य करने को कहा।
जाम खुलवाने में करेंगे सहयोग
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक कमल शेखावत ने कहा कि हाईवे वार्डन के लिए ऐसे लोगों को चयनित किया गया है जो मौके पर घायलों को फस्र्ट एड की सहायता देंगे। दुर्घटना के बाद जाम लगने  पर जाम खुलवाने व कानून व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस का सहयोग करेंगे। होटलों व ढाबों पर संदिग्ध लोगों व वाहनों की सूचना पुलिस को देंगे। इनको समय समय पर प्राथमिक उपचार व सीपीआर का प्रशिक्षण दिया जाएगा। हाईवे वार्डन के रूप में उत्कृष्ट कार्य करने वाले स्वयंसेवकों को सम्मानित किया जाएगा।
इस मौके पर सहायता ट्रस्ट की प्रमुख डॉ.माया टण्डन व डॉ.अंचला कूपर ने वार्डन को मानव डमी की मदद से सीपीआर व नर्सिंग स्टाफ राजकुमार व राजपाल ने प्राथमिक उपचार का प्रशिक्षण दिया। स्थानीय थाना प्रभारी  रविन्द्र प्रताप सिंह व प्रागपुरा थाना प्रभारी शिवनारायण मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned