script55 bogus firms found in Kishangarh, 28 crore tax grabbed | किशनगढ़ में मिलीं 55 बोगस फर्म, 28 करोड़ टैक्स हड़पा | Patrika News

किशनगढ़ में मिलीं 55 बोगस फर्म, 28 करोड़ टैक्स हड़पा

किशनगढ़ में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बोगस फर्म खेालकर 28 करोड़ की जीएसटी की चपत लगाने का मामला फिर पकड़ा है। विभाग ने कार्रवाई करते हुए 55 फर्मों को चिन्हित कर 155 करोड़ रुपए के बिल पकडे हैं। इन फर्जी फर्मेों के तार हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, महाराष्ट्र व केरल तथा तमिलनाडु तक फैले हुए हैं।

जयपुर

Published: June 01, 2022 08:22:24 pm

केन्द्रीय वस्तु व सेवाकर विभाग (सेंट्रल जीएसटी डिपार्टमेंट) ने किशनगढ़ में फर्जी दस्तावेजों के आधार पर बोगस फर्म खेालकर 28 करोड़ की जीएसटी की चपत लगाने का मामला फिर पकड़ा है। विभाग ने कार्रवाई करते हुए 55 फर्मों को चिन्हित कर 155 करोड़ रुपए के बिल पकडे हैं। इन फर्जी फर्मेों के तार हरियाणा, दिल्ली, उत्तर प्रदेश, बिहार, गुजरात, महाराष्ट्र व केरल तथा तमिलनाडु तक फैले हुए हैं।
nkv-gst1.jpg
विभाग की मई माह में यह दूसरी बड़ी कार्रवाई है। इससे पूर्व गत 9 मई को किशनगढ़ में ही कार्रवाई करते हुए 101 बोगस फर्मों के जरिए 60 करोड़ के क्रेडिट इनपुट उठाने का मामला पकड़ा गया था। विभाग दो कार्रवाई में 156 बोगस फर्मों के जरिए करीब 500 करोड़ के फर्जी बिलों से 88 करोड़ रुपए क्रेडिट इनपुट के जरिए राजस्व की चपत लगाने का खुलासा कर चुका है।
विभाग के प्रधान आयुक्त सीपी गोयल व अजमेर संभाग की उपायुक्त (जीएसटी) सुनीता वर्मा के नेतृत्व में गत तीन-चार दिनों से कार्रवाई जारी थी। विभाग के दल फर्म के दस्तावेजों व भौतिक सत्यापन से जांच में जुटे थे। दूसरे राउंड की कार्रवाई मंगवाल को पूरी हुई। विभाग ने इस दौरान 155 फर्म के जरिए 28 करोड़ के क्रेडिट इनपुट उठाने का खुलासा करते हुए फर्म संचालकों को नोटिस दिए हैं।
फिर निजी फर्म का पता सरकारी भवन

पूर्व की कार्रवाई में एक बोगस फर्म को वस्त्र मंत्रालय के एक कार्यालय में चलना बताया गया तो इस बार किशनगढ़ के उद्योग उपकेन्द्र का पता सामने आया। फर्म संचालक ने इस केन्द्र के पते के नाम से ही फर्म का संचालन बता दिया।
सहूलियत का उठाया फायदा

सरकार की नीति का गलत फायदा उठाने में उद्यमियों ने कमी नहीं छोड़ी। विभागीय नीति के अनुसार फर्म का पंजीकरण ऑनलाइन मामूली दस्तावेजों आधार, पेन कार्ड आदि से निशुल्क कर दिया जाता है। केवल दस्तावेज मिस-मैच होने पर जीएसटी विभाग फिजिकल जांच करता है अन्यथा जांच की अनिवार्यता नहीं है। इसी का फायदा उठाते हुए बोगस फर्म धड़ाधड़ पंजीकृत होती गईं। विभाग अब इसे लेकर कुछ नए प्रावधान लागू कर सकता है।
जांच के दायरे में अजमेर की फर्म भी

इस बार अजमेर की वेस्ट स्क्रेप की एक फर्म भी जांच के दायरे में आ गई है। विभाग का मानना है कि अजमेर में कुछ और खुलासे भी जल्द किए जा सकते हैं। विभाग ने उच्च अधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी है। मात्र दो कार्रवाईयों में 500 करोड़ का मामला सामने आया है। ऐसे में विभाग का मानना है कि प्रदेश व देश भर के कई हिस्सों में यह आंकड़ा कई हजार करोड़ तक जा सकता है।
मार्बल के अलावा अन्य सेवा प्रदाता भी गोरखधंधे में शामिल

विभाग के सूत्रों की मानें तो मई माह के प्रथम सप्ताह में की गई कार्रवाई के दौरान अधिकांश मार्बल फर्म थीं लेकिन इस बार ग्रेनाइट, आइरन, वेस्ट स्क्रेप, लेड बैट्री, प्लास्टिक सैल, सीमेंट के साथ संविदा सेवाएं या ठेकेदार फर्म, सर्विस गुड्स व ट्रांसपोर्ट की रजिस्टर्ड इकाईयां भी सामने आई हैं।
newsletter

Anand Mani Tripathi

आनंद मणि त्रिपाठी (@aanandmani) राजनीति, अपराध, विदेश, रक्षा एवं सामरिक मामलों के पत्रकार हैं। पत्रकारिता के तीनों माध्यम प्रिंट, टीवी और आनलाइन में गहरा और अपनी तेज तर्रार रिपोर्टिंग के लिए जाने जाते हैं। पश्चिम बंगाल के कलकत्ता में जन्म हुआ। प्रारंभिक शिक्षा उत्तर प्रदेश के कानपुर और बस्ती में हुई। माध्यमिक शिक्षा नवोदय विद्यालय बस्ती, फैजाबाद और पूर्वोत्तर त्रिपुरा के धलाई जिले में हुई। अयोध्या के साकेत महाविद्यालय से स्नातक और 2009 में जेआईआईएमसी,दिल्ली से पत्रकारिता का डिप्लोमा किया। हरियाणा से पत्रकारिता आरंभ की। शिक्षा, विज्ञान, मौसम, रेलवे, प्रशासन, कृषि विभाग और मंत्रालय की रिपोर्टिंग की। इंवेस्टिगेटिव रिपोर्टिंग से शिक्षा और रेलवे विभाग के कई भ्रष्टाचार का खुलासा किया। रक्षा मंत्रालय के रक्षा संवाददाता पाठयक्रम-2016 पूरा किया। इसके बाद रक्षा मामलों की पत्रकारिता शुरू कर दी। चीन, पाकिस्तान और कश्मीर मामलों पर तीक्ष्ण नजर रहती है। लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या 2017, राइफलमैन औरंगजेब की हत्या 2018, जम्मू—कश्मीर में बदले 2018 में बदले राजनीतिक समीकरण, पुलवामा हमला 2019, कश्मीर से 370 का हटना, गलवान घाटी मुठभेड़ 2020 को बेहद करीब से जम्मू और कश्मीर में रहकर ही कवर किया। कोरोना काल 2020 में भी लददाख से नेपाल तक की यात्रा चीन के बदलते समीकरण को लेकर की। इसके साथ ही लोकसभा चुनाव 2019 में जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और पंजाब की रिपोर्टिंग की। 9 नवंबर 2019 को श्रीराम जन्म भूमि अयोध्या मामले में आए फैसले की अयोध्या से कवर किया। 2022 उत्तरप्रदेश् चुनाव को सहारनपुर से सोनभद्र तक मोटर साइकिल के माध्यम से कवर किया। पत्रकारिता से इतर आनंद मणि त्रिपाठी को संगीत और पर्यटन का जबरदस्त शौक है। इन्हें किसी भी कार्य में असंभव शब्द न प्रयोग करने के लिए जाना जाता है...

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: संजय राउत का बड़ा दावा, कहा-मुझे भी गुवाहाटी जाने का प्रस्ताव मिला था; बताया क्यों नहीं गएक्या कैप्टन अमरिंदर सिंह बीजेपी में होने वाले हैं शामिल?कानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाआतंकी सोच ऐसी कि बाइक का नम्बर भी 2611, मुम्बई हमले की तारीख से जुड़ा है नंबर, इसी बाइक से भागे थे दरिंदेपाकिस्तान में चुनावी पोस्टर में दिख रहीं सिद्धू मूसेवाला की तस्वीरें, जानिए क्या है पूरा मामला500 रुपए के नोट पर RBI ने बैंकों को दिए ये अहम निर्देश, जानिए क्या होता है फिट और अनफिट नोटनूपुर शर्मा के समर्थन में पोस्ट लिखने पर अमरावती में दुकान मालिक की हुई हत्या!Maharashtra Politics: उद्धव और शिंदे के बीच सुलह कराना चाहते हैं शिवसेना के सांसद, बीजेपी का बड़ा दावा-12 एमपी पाला बदलने के लिए तैयार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.