दो घंटे में साइबर बदमाश ने ठगे 86 लाख रुपए, आरोपी गिरफ्तार

नाइजीरिया गिरोह से है संबंध, आरोपी से पूछताछ जारी

By: Lalit Tiwari

Published: 01 Dec 2020, 10:04 PM IST

स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप (एसओजी) ने बैंक की सीबीएस प्रणाली को हैक कर लाखों रुपए ठगने वाले एक साइबर ठग को मंगलवार को गिरफ्तार किया है। एसओजी टीम आरोपी से पूछताछ कर अन्य वारदातों का पता लगा रही है।
एडीजी (एटीएस एवं एसओजी) अशोक राठौड़ ने बताया कि मामले में साइबर ठग अय्यूब हसन खां उर्फ अयूब खां (20) निवासी सी.बी.गंज बरेली उतर प्रदेश को गिरफ्तार किया हैं। वह नाइजीरिया गिरोह का सक्रिय सदस्य है। पूछताछ में आरोपी से पता चला है कि गिरोह का मुख्य सूत्रधार नाइजीरिया के नागरिक का होना सामने आया है। इनके एक बैंक खाते में करीब 3 लाख रुपए जमा मिले है। आरोपी अय्यूब हसन खां उर्फ अयूब खां ने अपने आधार कार्ड, पैन कार्ड में कांट-छांट कर अपने पिता का नाम एवं पता परिवर्तित किया। उन फर्जी दस्तावेजों के आधार पर करीब 20 मोबाइल सिम जारी करवाई और 20 बैंक खाते खुलवाए। जिन्हें साइबर ठगी में प्रयोग कर रुपयों का ट्रांसफर किया गया। एसओजी टीम नाइजीरिया गिरोह के मुखिया सहित अन्य बदमाशों की तलाश कर रही है।

इस तरह रची साजिश-
जालोर नागरिक सहकारी बैंक लिमिटेड के वरिष्ठ प्रबंधक हरीश औझा ने अक्टूबर 2019 में पुलिस थाना साईबर क्राईम एसओजी जयपुर में दर्ज कराया। रिपोर्ट में बताया कि साइबर ठग ने उनके बैंक की सीबीएस प्रणाली को हैक कर मोबाइल बैकिंग के जरिए खातों से करीब 86 लाख 42 हजार 58 रुपए बेईमानी से निकाल लिए। पड़ताल में सामने आया है कि बैंक के कम्प्यूटर नेटवर्क (सर्वर) को हैक कर के धनी खाताधाराकों की पहचान की गई। जिसके बाद उसके खातों की निकासी राशि की क्षमता को बढ़ाया और उनके लिंक मोबाइल नंबरों की जगह खुद के मोबाइल नंबर डाल दिए गए, जिससे वास्तविक खाताधारक को बैंक से रुपए निकलने का पता नहीं चल सके। साइबर ठगों ने बैंक के 4 अधिक राशि वाले खातों से फर्जी कागजातों के आधार पर खुलवाए कुल 28 बैंक खातों से करीब 86 लाख रुपए दो घंटे में ही विभिन्न माध्यमों से दूसरे खातों में ट्रांसफर कर ठग लिए।

Lalit Tiwari Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned