सात साल की उम्र में उत्तर प्रदेश से बिछड़ी बेटी, जयपुर में दस साल बाद अपनी मां से मिली, तो ऐसा हुआ मिलन, छलके आंसू

Pushpendra Singh Shekhawat | Publish: Jun, 15 2019 03:44:44 PM (IST) Jaipur, Jaipur, Rajasthan, India

बाल कल्याण समिति ने परिवार को सौंपी बालिका

जया गुप्ता / जयपुर। दस साल पहले खोई हुई बच्ची को आखिर उसका परिवार आखिर मिल गया। उत्तर प्रदेश के गौंड़ा जिले की बच्ची पिछले दस साल से राजस्थान में रह रही थी। जिस समय घर से निकली, उस समय उसकी उम्र सात साल थी। शनिवार को जयपुर के गांधी नगर स्थित बाल कल्याण समिति में जब बच्ची ने अपनी मां और भाई को देखा तो वहां मौजूद हर शख्स की आंखे नम हो गई। मां अपनी बेटी को गले लगाकर बस रोए जा रही थी। बालिका ने कमरे मेे घुसते ही सबसे पहले अपनी छोटे भाई को पहचाना। बालिका से पहचान व दस्तावेजों में पहचान के बाद ही बालिका को मां को सौंपा गया।

 

बालिका तेहरुन ने बताया कि जब से उसे याद है, तब से वह बालिका गृह में ही रह रही है। बालिका के भाई रिजवान ने बताया कि वे उत्तर प्रदेश के गौंड़ा जिले के रहने वाले हैं। साल 2009 में उनकी बहन घर से निकल गई थी, उस समय वह सात साल की थी। तेहरुन के जाने के बाद पापा और बड़ी अम्मी भी गुजर गए। हमें उम्मीद नहीं थी कि यह हमकों कभी वापस मिल पाएगी।


समिति की सदस्य निशा पारीक ने बताया कि साल 2012 में तेहरुन उदयपुर से जयपुर आई थी। यहां स्टेशन पर पुलिस वाले पकड़कर लाए थे। इससे पहले बालिका तीन साल उदयपुर रही। वहां तीन साल एक महिला ने उसे अपने घर में रखा। 2012 से शहर की संस्थाओं में रह रही है। पिछले एक साल से इसका घर ढूंढने का प्रयास कर रहे हैं। तभी लॉस्ट एंड फाउंड संस्था के राहुल से मुलाकात हुई। उन्होंने बच्ची की कई बार काउंसलिंग की। बच्ची का परिवार गौंडा जिले में मिला। आज बच्ची अपने घर वापस जा रही है।

 

यह भी पढ़ें : जयपुर में बजरी माफिया का आतंक, डंपर जब्त किया तो गार्ड को बुरी तरह से पीटा, वाहन भी छुड़ा ले गए

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned