थायरोकेयर के एमडी डॉ.ए वेलुमणि ने स्टूडेंट को दिए सक्सेज मंत्र

थायरोकेयर के एमडी डॉ.ए वेलुमणि ने स्टूडेंट को दिए सक्सेज मंत्र

Deepshikha | Publish: Sep, 06 2018 01:04:45 PM (IST) Jaipur, Rajasthan, India

माहेश्वरी कॉलेज में आयोजित शिक्षक दिवस समारोह में मुख्य अतिथि एवं वक्ता के तौर पर थायरोकेयर के एमडी डॉ.ए वेलुमणि ने शिक्षकों और विद्यार्थियों को अपने जीवन वृतान्त सुनाकर सफलता के लिए प्रेरित किया।

जयपुर.जो खोना चाहता है वो कभी खोता नहीं है और जो कुछ खोने से डरता है वो कभी पाता नहीं है। इसलिए सफल होने के लिए खोने से नहीं डरना चाहिए। यह कहना है थायरोकेयर के एमडी डॉ.ए वेलुमणि का। वेलुमणि प्रताप नगर स्थित माहेश्वरी कॉलेज में दी एक्जूकेशन कमेटी ऑफ दी माहेश्वरी समाज की ओर से आयोजित शिक्षक दिवस समारोह में मुख्य अतिथि एवं वक्ता के तौर पर बोल रहे थे। कार्यक्रम में उन्होंने उपस्थित शिक्षकों और विद्यार्थियों को अपने जीवन वृतान्त सुनाकर सफलता के लिए प्रेरित किया।


वेलुमणि ने बताया कि उनकी यात्रा 'विलेज टू स्टॉक एक्सजेंच' है। वो गांव से हैं इसलिए इतनी ऊंचाई तक पहुंच पाए हैं। क्योंकि गांव ही एक ऐसी यूनिवर्सिटी है जहां थ्योरी नहीं प्रेक्टिकली समस्याओं से लडऩा सिखाया जाता है। वो गांव से महज 500 रुपए लेकर घर से निकले थे और आज थायरोकेयर के एमडी हैं।

रोमेंस विद रिस्क
वेलुमणि ने अपनी सफलता का मंत्र 'रोमेंस विद रिस्क' को बताते हुए कहा कि जितना बड़ा रिस्क लोगे उतनी बड़ी सफलता मिलेगी। वो गांव से महज पांच सौ रुपए लेकर निकले कि वो कुछ कर पाएंगे। तीने दिन रेलवे स्टेशन पर सोए। एमएससी करने के बाद उन्हें सरकारी नौकरी मिली। वो इतने पर ही संतुष्ट नहीं हुए। एक दिन जब उन्होंने देखा कि उनके अकाउंट में दो लाख रुपए हैं तो उन्होंने बिना सोचे और घरवालों से सलाह लिए बिना ही रिजाइन कर दिया कि अब कुछ बड़ा करना है। इसके बाद उन्होंने थायरोकेयर सेंटर खोला जहां वो थॉयरायड की जांच महज 100 रुपए में करते थे, जबकि दूसरी जगहों पर 500 रुपए में जांच होती थी। आज थायरोकेयर एक सफल एक कम्पनी है। उन्होंने अपनी सपफलता की कहानी बताते हुए उन्होंने एक अच्छे बिजनेस तरीके के बारे में बताया।
वहीं उन्होंने शिक्षक दिवस के अवसर पर कहा कि कहा कि जो जीतता है वो कभी भी हार सकता है, लेकिन जो जिताता है वो कभी नहीं हार सकता। इसलिए अपने से नीचे वालों को हमेशा जिताना चाहिए।
माहेश्वरी कॉलेज प्राचार्य प्रशांत मदान ने बताया कि कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के तौर पर समाजसेवी एवं व्यवसासयी रामस्वरूप जाजू, आर के मालपानी और दी एज्यूकेशन कमेटी ऑफ माहेश्वरी समाज के अध्यक्ष सत्यनारायण काबरा सहित अन्य सदस्य मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned